दिनांक : 05-Dec-2022 06:23 AM   रायपुर, छत्तीसगढ़ से प्रकाशन   संस्थापक : पूज्य श्री स्व. भरत दुदानी जी
Follow us : Youtube | Facebook | Twitter English English Hindi Hindi
Shadow

Jagdalpur

धरना प्रदर्शन: रसोइया संघ प्रदर्शनकारी बोले, 1500 में जिंदगी कैसे चलाएं, सरकार अपना वादा पूरा करे

धरना प्रदर्शन: रसोइया संघ प्रदर्शनकारी बोले, 1500 में जिंदगी कैसे चलाएं, सरकार अपना वादा पूरा करे

Chhattisgarh, Jagdalpur
छ्त्तीसगढ़ के जगदलपुर में 3 सूत्रीय मांगों को लेकर रसोइया संघ धरने पर बैठा हुआ है। उनके धरने को 41 दिन पूरे हो गए हैं। लेकिन, मांगों को पूरा करने सरकार की तरफ से कोई दिलचस्पी अब तक नहीं दिखाई गई है। बदले में कुछ दिन पहले आबकारी मंत्री कवासी लखमा ने संघ के सदस्यों को मांगे पूरी नहीं करने और नई भर्ती करने की बात कही थी। जिसका वीडियो भी वायरल हुआ था। संघ के सदस्यों का कहना है कि 1500 रुपए मानदेय में जिंदगी कैसे चलाएं? रसोइया संघ ने कहा कि छत्तीसगढ़ में जब भाजपा की सरकार थी तो उस समय हम मानदेय बढाने की मांग को लेकर हड़ताल पर बैठे हुए थे। जब कांग्रेसी हमारे पास आए और सरकार बनने पर मांग पूरी करने का वादा किया था। लेकिन, अब जब सरकार को बने 4 साल हो गए हैं तो मांग पूरी नहीं की जा रही है।...
जगदलपुर : नगर निगम के भाजपा पार्षद दल ने किया मौन प्रदर्शन, फूंका कांग्रेस का पुतला, 100 साल पुराने वट वृक्ष की कटाई का मामला

जगदलपुर : नगर निगम के भाजपा पार्षद दल ने किया मौन प्रदर्शन, फूंका कांग्रेस का पुतला, 100 साल पुराने वट वृक्ष की कटाई का मामला

Jagdalpur
छ्त्तीसगढ़ में जगदलपुर के पुराने बस स्टैंड के सामने स्थित करीब 100 साल पुराने वट वृक्ष को काटा जा रहा है। इस मामले में अब सियासत गरमाने लगी है। नगर निगम के भाजपा पार्षद दल ने इस मामले को लेकर एक दिवसीय मौन धरना प्रदर्शन किया। साथ ही कांग्रेस सरकार का पुतला भी दहन किया गया है। भाजपाइयों ने वट वृक्ष काटने वालों के खिलाफ FIR की मांग की है। सिटी कोतवाली में ज्ञापन भी दिया है। भाजपाइयों का कहना है कि, यह वटवृक्ष शहर की पहचान था। विकास के लिए पर्यावरण के साथ छेड़छाड़ करना अपराध की श्रेणी में आता है। ऐसे अपराध करने वालों को जनता कभी माफ नहीं करेगी। वट वृक्ष सालों पुराना था। इस शहर की धरोहर था। इस शारदीय नवरात्रि के पवित्र अवसर पर इसे काटकर हिंदू आस्था के साथ खिलवाड़ किया गया है। इस वट वृक्ष को काटकर न सिर्फ पर्यावरण को नुकसान पहुंचाया बल्कि शहर की जनता की भावनाओं से भी खिलवाड़ किया गया है।...
महापुरुषों के दिखाए पथ पर चल रही हमारी सरकार : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल

महापुरुषों के दिखाए पथ पर चल रही हमारी सरकार : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल

Chhattisgarh, India, Jagdalpur
"छत्तीसगढ़ महतारी की सेवा में हम लोग निकले हैं। आज डॉ. खूबचंद बघेल की जयंती के अवसर पर मैं कह रहा हूं कि हमारी सरकार महापुरूषों के दिखाए पथ पर चल रही है और जनहित में काम कर रही है। हमारी सरकार ने किसानों, श्रमिकों, गरीबों, गौपालकों के आर्थिक समृद्धि के लिए काम किया है। हम आदिवासी संस्कृति को बचाने और सहेजने का काम कर रहे हैं। हमारी नीतियों ने प्रदेशवासियों के जीवन में सकारात्मक परिवर्तन लाया है। बस्तर के सुदूर क्षेत्रों में आज स्कूल और बैंक की मांग हो रही है, यही परिवर्तन है।" यह बातें मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज एक निजी न्यूज चैनल के लॉन्चिंग अवसर पर कहीं। मुख्यमंत्री श्री बघेल स्वदेश न्यूज के लॉन्चिंग मौके पर बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे थे। कार्यक्रम में शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया, संसदीय सचिव डॉ. विनय जायसवाल, मुख्यमंत्री के सलाहकार...
मुख्यमंत्री ने मरवाही में दी सौगातों की बौछार, नवीन तहसील भवन का हुआ लोकार्पण

मुख्यमंत्री ने मरवाही में दी सौगातों की बौछार, नवीन तहसील भवन का हुआ लोकार्पण

Chhattisgarh, India, Jagdalpur
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने बिलासपुर संभाग में भेंट-मुलाक़ात की शुरुआत विधानसभा क्षेत्र मरवाही से की। मुख्यमंत्री ने मरवाही में माता नागेश्वरी के प्राचीन मंदिर में पूजा-अर्चना कर प्रदेशवासियों की सुख-समृद्धि की कामना की। उन्होंने मरवाही के महाविद्यालय परिसर में स्थापित आदिवासी नेता स्वर्गीय डॉ. भँवर सिंह पोर्ते की आदमकद प्रतिमा का अनावरण भी किया। मुख्यमंत्री ने नागरिकों की मांग पर उच्च शिक्षा की सुविधा के लिए मरवाही के रानी दुर्गावती शासकीय महाविद्यालय में स्नातकोत्तर की कक्षाएँ, पॉलिटेक्निक महाविद्यालय, शासकीय महाविद्यालय तक डामरीकृत सड़क, दलदली नाला पर एनीकट-कम-काजवे, स्वास्थ्य सुविधा के लिए ग्राम अण्डी में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के लिए नया सेटअप और ग्राम सिवनी, खोडरी, कोडगार में नवीन पुलिस थाना की सौगात दी। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने मरवाही में 71.12 लाख रूपए की लागत से निर्म...
उड़ान-डेयर टू ड्रीम’ : छत्तीसगढ़ विकास की दिशा में निरंतर आगे बढ़ रहा : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

उड़ान-डेयर टू ड्रीम’ : छत्तीसगढ़ विकास की दिशा में निरंतर आगे बढ़ रहा : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

Chhattisgarh, India, Jagdalpur
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल आज शाम यहां राजधानी स्थित एक निजी होटल में जी मीडिया समूह द्वारा आयोजित कार्यक्रम ’उड़ान-डेयर टू ड्रीम’ में पहुंचे। यहां मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने परिचर्चा में हिस्सा लिया। इस दौरान उन्होंने सवालों के जवाब में कहा कि छत्तीसगढ़ विकास की दिशा में निरंतर आगे बढ़ रहा है। यहां हर वर्ग और लोगों के हित में योजनाओं का बखूबी क्रियान्वयन हो रहा है। जिसके फलस्वरूप आज लोगों के जेब में पैसा आने लगा है और उनमें समृद्धि और खुशहाली दिखाई देने लगी है। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ में जनहित में नवाचार का प्रयोग करते हुए चलाए जा रहे महत्वपूर्ण कार्यक्रमों की चर्चा अन्य राज्यों और देश में भी हो रही है। हमारा मुख्य ध्येय लोगों की आय में वृद्धि करना है। इसे ध्यान में रखकर योजनाओं का बेहतर ढंग से संचालन किया जा रहा है। इसके जरिए प्रदेश में किसान, मजदूर, युवा वर्ग और म...
भेंट-मुलाकात के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल रामगढ़ पहुंचे, दी अनेक सौगातें

भेंट-मुलाकात के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल रामगढ़ पहुंचे, दी अनेक सौगातें

Chhattisgarh, India, Jagdalpur
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल अपने प्रदेशव्यापी भेंट-मुलाकात अभियान के दौरान आज कोरिया जिला के भरतपुर-सोनहत विधानसभा के दौरे पर थे। इस दौरान मुख्यमंत्री ग्राम रामगढ़ पहुंचे। जहां हैलीपेड पर स्थानीय जनप्रतिनिधियों और भारी संख्या में उपस्थित ग्रामीणों ने उनका आत्मीय स्वागत किया। रामगढ़ में मुख्यमंत्री ने आदिवासी कन्या आश्रम का निरीक्षण किया, वहीं बालिका हॉकी टीम के खिलाड़ियों से मुलाकात कर उनका उत्साहवर्धन किया। भेंट-मुलाकात कार्यक्रम के दौरान ग्रामीणों से शासकीय योजनाओं पर फीडबैक लेते हुए उनकी समस्या सुनी और समाधान किया। साथ ही मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने जनआकांक्षाओं के अनुरूप क्षेत्रवासियों को अनेक सौगातें दीं। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के भेंट-मुलाकात कार्यक्रम के दौरान ग्रामीणजन मुख्यमंत्री को अपनी समस्याएं बताने के साथ शासकीय योजनाओं से जुड़े अनेक किस्सों को साझा कर रहे हैं। आज र...
विशेष लेख : सवा सौ फीट का पेड़ बन चुका पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के द्वारा भेंट किया पीपल का पौधा

विशेष लेख : सवा सौ फीट का पेड़ बन चुका पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के द्वारा भेंट किया पीपल का पौधा

Chhattisgarh, India, Jagdalpur
बात जुलाई 1984 की है, जब देश के पूर्व प्रधानमंत्री श्री राजीव गांधी तत्कालीन मध्यप्रदेश के सोनहत ब्लॉक के ग्राम कटगोड़ी में अचानक हेलीकॉप्टर से उतरे थे। तब वे थोड़े समय के लिए पास के गांव आनंदपुर में कार से पहुंचे थे। उस दौरान श्रीमती सोनिया गांधी और राहुल तथा प्रियंका गांधी भी उनके साथ थे। इसी दरम्यान गांव में निवासरत विशेष पिछड़ी पंडो जनजाति के श्री रामचरण साय और उनकी पत्नी श्रीमती कुंती साय के पास कार रुकवाकर उन्हें इशारे से अपने पास बुलाया। उन्होंने कार रोककर उनसे हालचाल पूछा और दंपति को पीपल का पौधा भेंट किया था। पीपल भेंट करते हुए श्री राजीव गांधी ने रामचरण दंपत्ति को उसकी लगाकर अच्छे से देखभाल करते हुए बड़ा करने को भी कहा था। रामचरण और उनकी पत्नी ने ऐसा ही किया। तत्कालीन प्रधानमंत्री द्वारा दिए गए प्रकृति के अनुपम उपहार को अपनी संतान की तरह सहेजकर रखा और आज 38 साल बाद वही पीपल का पौध...
रायपुर : राष्ट्रपिता महात्मा गांधी पर केन्द्रित सभी संभागीय मुख्यालयों में आयोजित होंगे कार्यक्रम

रायपुर : राष्ट्रपिता महात्मा गांधी पर केन्द्रित सभी संभागीय मुख्यालयों में आयोजित होंगे कार्यक्रम

Chhattisgarh, India, Jagdalpur
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में आज यहां उनके निवास कार्यालय में छत्तीसगढ़ संस्कृति परिषद् की द्वितीय बैठक आयोजित की गई। बैठक में छत्तीसगढ़ संस्कृति परिषद की आगामी कार्ययोजना पर विचार-विमर्श किया गया। इस मौके पर छत्तीसगढ़ सांस्कृतिक परिषद् को साहित्य अकादमी, कला अकादमी, आदिवासी एवं लोक कला अकादमी, छत्तीसगढ़ फिल्म विकास निगम, छत्तीसगढ़ राजभाषा आयोग और छत्तीसगढ़ सिन्धी अकादमी के 127 आयोजनों के लिए 4 करोड़ 93 लाख रूपए की स्वीकृति प्रदान की गई। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने बैठक में चर्चा के दौरान कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के व्यक्तित्व और कृतित्व पर आयोजित होने वाले कार्यक्रम और कार्यशाला राज्य के सभी संभागीय मुख्यालयों में आयोजित की जाएं। लोक कला, संस्कृति पर आधारित कार्यक्रम केवल राजधानी तक ही सीमित न रहें, राज्य के सभी संभागीय मुख्यालयों में कार्यक्रम आयोजित किए जाएं। लोक संस्कृत...
बस्तर : युवा सीख रहे आधुनिक तरीके से पारंपरिक गोदना कला

बस्तर : युवा सीख रहे आधुनिक तरीके से पारंपरिक गोदना कला

Chhattisgarh, India, Jagdalpur
अपनी अनोखी परम्परा और रिवाज़ों के लिए बस्तर विश्वभर में प्रसिद्ध है। आदिवासी संस्कृति में जहां प्रकृति से जुड़ाव दिखता है वहीं उनकी संस्कृति में सृजनशीलता और सौंदर्यबोध की मौलिकता भी है। गोदना कला भी इन्ही में से एक है। गोदना आर्ट बस्तर की परम्परा और लोकजीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। ऐसा मान्यता है कि गोदना मृत्यु के बाद अपने पूर्वजों से संपर्क का माध्यम है। आधुनिकीकरण के तेजी से बदलते समय में बस्तर की पारंपरिक कला को बचाए रखने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री श्री बघेल द्वारा बस्तर के आसना में बस्तर एकेडमी ऑफ डांस, आर्ट एंड लेंग्वेज (बादल) की स्थापना भी की गई है, जहां बस्तर की गोदना कला को संरक्षित करने और स्थानीय युवाओं को गोदना के नए उभरते ट्रेंड्स से परिचित, प्रशिक्षित करने के लिए बादल में गोदना कला पर प्रदेश का पहला और अनूठा आयोजन हुआ। जिला प्रशासन ने 20 मई से 6 जून तक आसना स्थित बादल एक...
मुख्यमंत्री की घोषणा पर अमल : बलरामपुर के ग्राम सरगांवा और जगिमा में लगा विद्युत ट्रांसफार्मर

मुख्यमंत्री की घोषणा पर अमल : बलरामपुर के ग्राम सरगांवा और जगिमा में लगा विद्युत ट्रांसफार्मर

Chhattisgarh, India, Jagdalpur
बलरामपुर जिले के ग्राम सरगांवा एवं जगिमा के निवासियों को अब बिजली की आंख मिचौली से जूझना नहीं पड़ेगा, न ही इस क्षेत्र के गांव के बच्चों को पढ़ने के लिए बिजली की समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा, क्योंकि अब ग्राम सरगांवा और जगिमा में नए विद्युत ट्रांसफार्मर की स्थापना कर दी गई है। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने भेंट-मुलाकात अभियान के दौरान 4 मई को बलरामपुर जिले के ग्राम शंकरगढ़ में जन चौपाल लगाई थी, जहां उन्हें ग्रामवासियों ने बिजली की समस्या से उन्हें अवगत कराया था। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने चौपाल में ही पर ग्राम सरगांवा एवं जगिमा में बिजली की समस्या के निराकरण हेतु विद्युत ट्रांसफार्मर की स्थापना की घोषणा की थी। इसी घोषणा के परिपालन में उक्त गांवों में विद्युत ट्रांसफार्मर लगा दिया गया है। यह गांव आदिवासी बाहुल्य है। यहां ट्रांसफार्मर लगने से दोनों गांव के लगभग 500-600 लोगों...