दिनांक : 20-Apr-2024 04:57 PM
Follow us : Youtube | Facebook | Twitter
Shadow

मुख्यमंत्री बनने के बाद विष्णुदेव साय ने पहली बार किया दिल्ली दौरा, कहा- जल्द होगा मंत्रिमंडल का गठन

18/12/2023 posted by Priyanka (Media Desk) Chhattisgarh, Raipur    

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री बनने के बाद विष्णुदेव साय पहली बार दिल्ली का दौरा किया।छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री विष्णु देव साय नई दिल्ली से लौटने के बाद रायपुर के स्वामी विवेकानन्द हवाई अड्डे पर पत्रकारों से बात किया। उन्होंने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा, “केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और पार्टी अध्यक्ष जे.पी. नड्डा से मुलाकात की है। मुलाकात के दौरान कुछ चर्चाएं हुई हैं। बहुत जल्द मंत्रिमंडल का गठन होगा। नए और पुराने दोनों चेहरे को मंत्रिमंडल में जगह मिलेगी।”

बहुत जल्द किया जाएगा मंत्रिमंडल का विस्तार
साई ने कहा, “कल शाम मैं दिल्ली गया था। मैंने वहां केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की और कुछ चर्चाएं कीं। राज्य मंत्रिमंडल का विस्तार बहुत जल्द किया जाएगा।”

मोदी की गारंटी’ तहत पूरा किया जाएगा वादा
धान खरीद प्रक्रिया जारी होने के कारण प्रति एकड़ 21 क्विंटल धान 3,100 रुपये प्रति क्विंटल की दर से खरीदने के भाजपा के वादे पर, साई ने कहा कि ‘मोदी की गारंटी’ (उनकी पार्टी के चुनाव घोषणापत्र का जिक्र करते हुए) के तहत किया गया वादा पूरा किया जाएगा। उन्होंने कहा कि वादे के मुताबिक भुगतान और खरीद की जाएगी। बता दें कि साई ने 13 दिसंबर को राज्य के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी।

छत्तीसगढ़ में सीएम सहित अधिकतम हो सकते हैं 13 मंत्री
छत्तीसगढ़ के कैबिनेट में दस और सदस्यों को शामिल किया जा सकता है। संवैधानिक मानदंडों के अनुसार, 90 सदस्यीय विधानसभा वाले छत्तीसगढ़ में सीएम सहित अधिकतम 13 मंत्री हो सकते हैं।

बृजमोहन अग्रवाल और अमर अग्रवाल (दोनों सामान्य वर्ग से), धरमलाल कौशिक और अजय चंद्राकर (ओबीसी), केदार कश्यप और विक्रम उसेंडी (अनुसूचित जनजाति), दयालदास बघेल (अनुसूचित जाति) और राजेश मूणत (जैन समुदाय) के नाम चल रहे हैं। साई कैबिनेट में संभावित मंत्री के रूप में शामिल।

 

Author Profile

Priyanka (Media Desk)
Priyanka (Media Desk)प्रियंका (Media Desk)
"जय जोहार" आशा करती हूँ हमारा प्रयास "गोंडवाना एक्सप्रेस" आदिवासी समाज के विकास और विश्व प्रचार-प्रसार में क्रांति लाएगा, इंटरनेट के माध्यम से अमेरिका, यूरोप आदि देशो के लोग और हमारे भारत की नवनीतम खबरे, हमारे खान-पान, लोक नृत्य-गीत, कला और संस्कृति आदि के बारे में जानेगे और भारत की विभन्न जगहों के साथ साथ आदिवासी अंचलो का भी प्रवास करने अवश्य आएंगे।