दिनांक : 19-Apr-2024 07:54 AM
Follow us : Youtube | Facebook | Twitter
Shadow

रायपुर में पहली बार: महिलाओं के लिए बने पिंक केयर सेंटर, इसमें बच्चों के लिए फीडिंग जोन, मनोरंजन का भी बंदोबस्त

30/01/2021 posted by Priyanka (Media Desk) Chhattisgarh    

शहर के भीड़ भाड़ वाले इलाकों में महिलाओं को सुरक्षित और स्वच्छ टॉयलेट देने के मकसद से खास सेंटर तैयार किए गए हैं। इन्हें नाम दिया गया है पिंक केयर सेंटर। इनमें इंडियन और वेस्टर्न टॉयलेट की सुविधा होगी। शनिवार शाम शास्त्री बाजार में नगर निगम के माहापौर एजाज ढेबर और अन्य नेता इसकी शुरूआत करेंगे। शहर के शास्त्री बाजार और पंडरी कपड़ा मार्केट में यह सेंटर बनकर तैयार हो गए हैं। जो अब इस्तेमाल में लाए जा सकेंगे। इनके बनने से इन इलाकों में महिलाओं के टॉयलेट की सालों पुरानी समस्या दूर हो जाएगी।

बच्चों के लिए दूध गर्म करने का भी इंतेजाम

इन पिंक केयर सेंटर में टॉयलेट के अलावा फीडिंग जोन भी बनाया गया है। छोटे केबिन में एक बेड भी रखा गया है। जिसमें महिलाएं छोटे बच्चों के साथ बैठ या लेट सकती हैं। यहां एक इलेक्टॉनिक चूल्हा और बर्तन भी है। इसमे बच्चों के लिए दूध गर्म किया जा सकता है। अंदर की तरफ टीवी भी लगा है, जिसमें बच्चे कार्टून देख सकेंगे। सेंटर के अंदर दो वेस्टर्न और दो इंडियन स्टाइल टॉयलेट हैं। इनकी बनावट किसी होटल या मॉल के टॉयलेट के स्तर की रखी गई है।

यहां भी बनेंगे पिंक केयर सेंटर

शास्त्री बाजार, पंडरी कपड़ा मार्केट, बूढ़ा तालाब, तेलीबांधा तालाब, गोल बाजार जैसी जगहों पर यह सेंटर बनाने की योजना है। नगर निगम के अधिकारियों ने बताया कि इस स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत शहर को स्वच्छ रखने के लिए कार्य योजना तैयार की गई है। इसके तहत पिंक टायलेट में बेबी फीडिंग रूम, प्रतीक्षालय, स्वागत कक्ष, चार टायलेट कक्ष बनेंगे।

महिलाओं के लिए यहां पर सेनेटरी पैड मशीन भी लगाई जाएगी। अधिकारियों ने बताया कि करीब 500 वर्ग फीट में एक-एक टॉयलेट को बनाया जाएगा जिसकी लागत 17 लाख रुपए होगी। सभी टायलेट आपरेशन एंड मेंटनेंस आधार पर निजी एजेंसी को दिए जाएंगे।

Author Profile

Priyanka (Media Desk)
Priyanka (Media Desk)प्रियंका (Media Desk)
"जय जोहार" आशा करती हूँ हमारा प्रयास "गोंडवाना एक्सप्रेस" आदिवासी समाज के विकास और विश्व प्रचार-प्रसार में क्रांति लाएगा, इंटरनेट के माध्यम से अमेरिका, यूरोप आदि देशो के लोग और हमारे भारत की नवनीतम खबरे, हमारे खान-पान, लोक नृत्य-गीत, कला और संस्कृति आदि के बारे में जानेगे और भारत की विभन्न जगहों के साथ साथ आदिवासी अंचलो का भी प्रवास करने अवश्य आएंगे।