दिनांक : 23-Feb-2024 11:32 AM
Follow us : Youtube | Facebook | Twitter
Shadow

एनएमडीसी की पहल : कोरोना वायरस टीकाकरण शिविर का आयोजन किया

02/06/2021 posted by Priyanka (Media Desk) Chhattisgarh    

हैदराबाद 01.06.2021: भारत के सबसे बडे लौह अयस्क उत्पादक एनएमडीसी लिमिटेड ने कोविड-19 महामारी को रोकने के उद्देश्य से अपने प्रधान कार्यालय, खनिज भवन, हैदराबाद में अपने कर्मचारियों, संविदा कर्मियों और उनके परिवार के सदस्यों के लिए 01.06.2021 को कोविड टीकाकरण शिविर का आयोजन किया ।

अपोलो हॉस्पिटल्स एंटरप्राइज लिमिटेड, हैदराबाद के सहयोग से आयोजित टीकाकरण शिविर  में टीके की पहली और दूसरी खुराक के लिए सभी कर्मचारियों और संविदा कर्मियों के साथ उनके परिवार के सदस्यों को भी शामिल किया गया ।

एनएमडीसी में कुल 5600 कर्मचारियों में से 45 से अधिक आयु वर्ग के 80 प्रतिशत और कुल लगभग 50 प्रतिशत कर्मचारियों का टीकाकरण किया जा चुका है। सभी कर्मचारियों का टीकाकरण पूर्ण होने तक चरणबद्ध तरीके से टीकाकरण अभियान जारी रखा जाएगा। एनएमडीसी की सभी प्रमुख उत्पादन परियोजनाओं और इकाइयों में टीकाकरण शिविरों का आयोजन किया पहले से ही किया जा रहा है। इसके अलावा, एनएमडीसी देश भर में सभी परियोजनाओं और कार्यालयों में कर्मचारियों और संविदाकृत सहयोगियों के परिवार के सदस्यों को टीका लगावाने के लिए सभी प्रयास कर रहा है ।

टीकाकरण शिविर का उद्घाटन करते हुए श्री सुमित देब, सीएमडी , एनएमडीसी  ने इस बीमारी के प्रसार को रोकने के लिए कोविड टीकाकरण  के महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि “वायरस के प्रसार को रोकने के लिए हमें मिलकर काम करना चाहिए और सख्त कदम उठाने चाहिए। इस देश के जिम्मेदार नागरिक के रूप में हमारा कर्तव्य है कि सरकार द्वारा उल्लिखित कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करें । एनएमडीसी महामारी  की गंभीरता को समझता है और स्वीकार करता है और इस पर विजय प्राप्त करने के लिए राष्ट्र द्वारा किए जा रहे प्रयासों में अपना योगदान कर रहा है ।“

Author Profile

Priyanka (Media Desk)
Priyanka (Media Desk)प्रियंका (Media Desk)
"जय जोहार" आशा करती हूँ हमारा प्रयास "गोंडवाना एक्सप्रेस" आदिवासी समाज के विकास और विश्व प्रचार-प्रसार में क्रांति लाएगा, इंटरनेट के माध्यम से अमेरिका, यूरोप आदि देशो के लोग और हमारे भारत की नवनीतम खबरे, हमारे खान-पान, लोक नृत्य-गीत, कला और संस्कृति आदि के बारे में जानेगे और भारत की विभन्न जगहों के साथ साथ आदिवासी अंचलो का भी प्रवास करने अवश्य आएंगे।