दिनांक : 20-May-2024 05:07 PM
Follow us : Youtube | Facebook | Twitter
Shadow

रायपुर : विशेष पिछड़ी जनजाति कमार जाति के 19 युवाओं को मिली नौकरी

13/08/2022 posted by Priyanka (Media Desk) Chhattisgarh, India, Tribal Area News and Welfare    

प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने चारामा में आज आयोजित विश्व आदिवासी दिवस के कार्यक्रम एवं सामाजिक समरसता सम्मेलन में कांकेर जिले में नरहरपुर तहसील के विभिन्न ग्रामों में निवासरत विशेष पिछड़ी जनजाति कमार जाति के 19 युवाओं को सीधी भर्ती के रिक्त पदों पर चतुर्थ वर्ग में शासकीय सेवा के लिए नियुक्ति आदेश प्रदान किए। शासकीय नौकरी मिलने पर कमार जनजाति के युवा ग्राम भैंसमुण्डी के अनुद कुमार, ग्राम मावलीपारा के देवव्रत, ग्राम भीमाडीह के संजय कुमार सहित सभी युवाओं ने मुख्यमंत्री के प्रति आभार जताया।

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल द्वारा आज ग्राम भैंसमुण्डी निवासी अनुद कुमार एवं संत कुमार, ग्राम मावलीपारा के देवव्रत, अर्जुन कुमार, करन कुमार, पुनीत राम, शैलेन्द्र कुमार, कुमारी गंगाबती, श्रीमती नगेश्वरी एवं दिनालाल, ग्राम दलदली के सत्ते सिंह, सन्तुराम, फत्तेसिंह, भीमाडीह के संजय कुमार, चमरूराम मण्डावी, कुमारी कौशिल्या, गंवरसिल्ली के देवराम, ग्राम मुसुरपुट्टा के प्रेमलाल, नयापारा दुधावा के जंगलूराम को आदिवासी विकास विभाग में सीधी भर्ती के रिक्त पदों पर चतुर्थ वर्ग में शासकीय सेवा के लिए नियुक्ति आदेश प्रदान किया गया।
प्रधानडोंगरी एवं दमकसा को मिला सामुदायिक वन संसाधन हक

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल द्वारा आज चारामा तहसील के ग्राम पंचायत कसावाही के ग्राम प्रधानडोंगरी में 371.320 हेक्टेयर तथा ग्राम दमकसा में 612.670 हेक्टेयर भूमि का सामुदायिक वन संसाधन हक अधिकार पत्र प्रदान किया गया। उल्लेखनीय है कि कांकेर जिले में अब तक 383 सामुदायिक वन संसाधन हक के 29412.34 हेक्टेयर भूमि के मान्यता पत्रों का वितरण किया जा चुका है।

Author Profile

Priyanka (Media Desk)
Priyanka (Media Desk)प्रियंका (Media Desk)
"जय जोहार" आशा करती हूँ हमारा प्रयास "गोंडवाना एक्सप्रेस" आदिवासी समाज के विकास और विश्व प्रचार-प्रसार में क्रांति लाएगा, इंटरनेट के माध्यम से अमेरिका, यूरोप आदि देशो के लोग और हमारे भारत की नवनीतम खबरे, हमारे खान-पान, लोक नृत्य-गीत, कला और संस्कृति आदि के बारे में जानेगे और भारत की विभन्न जगहों के साथ साथ आदिवासी अंचलो का भी प्रवास करने अवश्य आएंगे।