tribal - गोंडवाना एक्सप्रेस
gondwana express logo

टैग: tribal

राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव 2019: लद्दाख का दल विवाह नृत्य और निकोबारी दल, पूर्वजों के सम्मान वाला नृत्य करेंगे प्रस्तुत

राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव 2019: लद्दाख का दल विवाह नृत्य और निकोबारी दल, पूर्वजों के सम्मान वाला नृत्य करेंगे प्रस्तुत

india, politics, छत्तीसगढ़
रायपुर (एजेंसी) | साइंस कॉलेज मैदान में आगामी शुक्रवार 27 दिसंबर से आयोजित तीन दिवसीय राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव में शामिल होने वाले दलों के अपने अपने स्थानों से प्रतियोगिता में सम्मिलित होने के लिए रायपुर रवाना होने की जानकारियां प्राप्त होने लगी है। अरुणाचल प्रदेश जैसे दूरदराज के कलाकार रविवार को रायपुर के लिए रवाना हो चुके हैं और उत्तराखंड के कलाकार आज रवाना होने वाले  हैं। प्रतिभागियों में जबरदस्त उत्साह है। देश के 25 राज्यों के आदिवासी नृत्यदल इस समारोह में भाग ले रहे हैं। इनमे कुछ स्थानों के आदिवासी दल पहली बार छत्तीसगढ़ आ रहे हैं। अंडमान के निकोबारी और लद्दाख के आदिवासी समूह इस महोत्सव में भाग ले रहे हैं। इनमें लद्दाख का नृत्यदल एक विवाह नृत्य प्रस्तुत करेगा वहीं निकोबारी के कलाकार अपने पूर्वजों के सम्मान के किये जाने वाला नृत्य प्रस्तुत करेंगे। लद्दाखी विवाह नृत्य &nbs
जज़्बा: नक्सल प्रभावित जिले सुकमा की दिव्यांग आदिवासी बेटी सोड़ी भीमे नृत्य में कर रही नाम रोशन

जज़्बा: नक्सल प्रभावित जिले सुकमा की दिव्यांग आदिवासी बेटी सोड़ी भीमे नृत्य में कर रही नाम रोशन

special, video, छत्तीसगढ़
सुकमा (एजेंसी) | यह कहानी है छत्तीसगढ़ का धुर नक्सल प्रभावित इलाके सुकमा की। जहां 11 वर्षीया एक दिव्यांग आदिवासी बेटी सोड़ी भीमे भी डांस में अपना नाम रोशन कर रही है। महज 3 वर्ष की उम्र में एक हादसे के दौरान अपना एक पैर गंवाने वाली सोड़ी को लोग अब डांसिंग क्वीन के नाम से जानते हैं। दिव्यांग आवासीय विद्यालय की कक्षा 4 में पढ़ने वाली सोड़ी को डांस करना बहुत पसंद है। स्कूल में बच्चों को डांस करते देखा तो खुद को रोक नहीं सकी https://youtu.be/nHeTZxV-eF8 सोड़ी भीमे के थोड़ा बड़ा होने पर उसके परिजनों ने दाखिला दिव्यांग आवासीय स्कूल में करा दिया। वहां साथ पढ़ने वाले दिव्यांग बच्चों को उसने डांस करते देखा। किसी बच्चे के हाथ नहीं थे तो कोई देख नहीं सकता था। इससे प्रेरणा लेकर सोड़ी ने भी डांस करना शुरू किया। उसकी यह कोशिश रंग लाई और वह आम बच्चों के साथ ही डांस सीखने लगी। उसकी कोशिशों का ही असर था
लापरवाही: सामुदायिक अस्पताल में 35 बैगा-आदिवासी महिलाओं की नसबंदी करने के बाद महिलाओं को जमीन पर ही लेटा दिया

लापरवाही: सामुदायिक अस्पताल में 35 बैगा-आदिवासी महिलाओं की नसबंदी करने के बाद महिलाओं को जमीन पर ही लेटा दिया

छत्तीसगढ़
बस्तर (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ में संरक्षित बैगा-आदिवासी जनजाति की महिलाओं की नसबंदी पर प्रतिबंध है। इसके चलते क्षेत्र में बड़ी संख्या में महिलाएं नसबंदी कराने छग सीमा से लगे मध्यप्रदेश के सामुदायिक अस्पताल समनापुर (डिंडौरी) जाती है। गुरुवार को भी करीब 200 की संख्या में महिलाएं खुद के खर्च से गाड़ी किराया गए वहां गई थी। लापरवाही देखिए कि उस अस्पताल में पर्याप्त बेड (बिस्तर) नहीं था। इसके बावजूद एक के बाद एक 35 महिलाओं की नसबंदी कर दी गई। बेड न होने पर ऑपरेशन के बाद महिलाओं को जमीन पर लेटा दिया गया। फर्श पर लेटी महिलाएं ऐसी लग रही थी कि जैसे वे मरीज न होकर लाशें हैं। गुरुवार रात को जब अस्पताल में माहौल बिगड़ा, तो स्टाफ ने आनन-फानन में महिलाओं को वापस भेज दिया। ये सभी महिलाएं पंडरिया ब्लॉक के गांवों की रहने वाली है। दरअसल, अस्पतालों को महिला नसबंदी के लिए टारगेट दिया जाता है। सीमावर्ती इस
छत्तीसगढ़: तीन दिनों का राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव 27 दिसंबर से, देशभर से जुटेंगे 2500 कलाकार

छत्तीसगढ़: तीन दिनों का राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव 27 दिसंबर से, देशभर से जुटेंगे 2500 कलाकार

special, tourism, video, छत्तीसगढ़
रायपुर (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ में पहली बार आयोजित हो रहे राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव तीन दिनों का होगा। राजधानी रायपुर के र्साइंस कॉलेज मैदान में 27, 28 और 29 दिसम्बर को होगा। यहां देश के लगभग सभी राज्यों से आदिवासी नृतक दल के कलाकार प्रस्तुति देने पहुंचेंगे। रायगढ़ जिले से भी पंथी, कर्मा और महोत्सव के तय कैटेगरी विवाह, फसल कटाई, परंपरागत त्योहारों पर निर्धारित कार्यक्रमों की तैयारी कर रहे हैं। आदिवासी विभाग पहले ब्लॉक स्तर पर कलाकारों की प्रस्तुतियों के आधार पर चयन करेगी। इसके बाद जिला और फिर संभाग स्तर पर चयन प्रक्रिया होगी। इस आयोजन के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में राज्य स्तरीय समिति गठित की गई है। समिति में गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू, कृषि मंत्री रवीन्द्र चौबे, आदिमजाति एवं अनुसूचित जाति विकास मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, वन मंत्री मोहम्मद अकबर, खाद्य मंत्री अमरज
सारकेगुड़ा मुठभेड़ मामला: पूर्व सीएम रमन सिंह, आईबी चीफ, बस्तर आईजी सहित अन्य के खिलाफ FIR दर्ज कराने थाने पहुंचे ग्रामीण

सारकेगुड़ा मुठभेड़ मामला: पूर्व सीएम रमन सिंह, आईबी चीफ, बस्तर आईजी सहित अन्य के खिलाफ FIR दर्ज कराने थाने पहुंचे ग्रामीण

politics, छत्तीसगढ़
बीजापुर (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ के बीजापुर में शुक्रवार को पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह सहित तत्कालीन अधिकारी व अन्य जवानों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने सैकड़ों की संख्या में ग्रामीण बासागुड़ा थाने के बाहर एकत्र हो गए हैं। यह ग्रामीण सारकेगुड़ा फर्जी मुठभेड़ मामले में इन सभी के ऊपर एफआईआर दर्ज करने की मांग कर रहे हैं। ग्रामीण थाने के बाहर ही धरने पर बैठ गए हैं और भजन गा रहे हैं। वहीं पुलिस का कहना है कि शासन से निर्देश मिलने के बाद ही इस संबंध में आगे कार्रवाई होगी। पुलिस बोली शासन से निर्देश के बाद ही आगे कार्रवाई सारकेगुड़ा मुठभेड़ मामले में ग्रामीण लगातार कार्रवाई की मांग रहे हैं। न्यायिक जांच आयोग की रिपोर्ट आने के बाद अब ग्रामीण शुक्रवार को सामाजिक कार्यकर्ता हिमांशु कुमार और सोनी सोढ़ी के साथ सैकड़ों की संख्या में ग्रामीण बासागुड़ा थाने पहुंच गए। वहां पर ग्रामीण तात्कालीन सीएम रमन सिंह, आ
दंतेेवाड़ा: ग्रामीणों ने सीएएफ के नए कैंप का किया विरोध, जवानो ने हवाई फायरिंग कर खदेड़ा

दंतेेवाड़ा: ग्रामीणों ने सीएएफ के नए कैंप का किया विरोध, जवानो ने हवाई फायरिंग कर खदेड़ा

video, छत्तीसगढ़
दंतेवाड़ा (एजेंसी) | जिले के नक्सल प्रभावित गांव पोटाली में फोर्स और आम आदिवासियों के बीच तनाव के हालात हैं। दो दिन पहले यहां सीएएफ (छत्तीसगढ़ आर्म फोर्स) का कैंप खोला गया है। ग्रामीणों का आरोप है कि यह कैंप उनके खेतों पर खोला गया, इस कैंप की वजह से अब इलाके में फर्जी गिरफ्तारियां होंगी। इसी मुद्दे को लेकर मंगलवार को हजारों ग्रामीण कैंप पहुंच गए। हाथ में तीर, भाले और कुल्हाड़ी लिए ग्रामीण कैंप के अंदर घुसने की कोशिश कर रहे थे। ग्रामीणों को कलेक्टर और एसपी समझाते रहे, लेकिन वह नहीं माने। यह देख जवानों ने हवाई फायरिंग करके उन्हें खदेड़ा कलेक्टर एसपी की भी ग्रामीणों ने नहीं सुनी https://youtu.be/kTv9gtJdL8s मंगलवार को सुबह से ही पोटाली कैंप के पास ग्रामीण जमा होने लगे थे। कलेक्टर टोपेश्वर वर्मा ने कहा कि कैम्प खुलने से गांव में ही राशन, स्वास्थ्य सुविधा सहित सरकार की दूसरी योजनाओं का
नेशनल ट्राइबल फेस्टिवल 2019: आठ राज्यों के आदिवासी करेंगे शिरकत, सैला, सुआ, कर्मा के साथ परंपरा की भी दिखेगी झलक

नेशनल ट्राइबल फेस्टिवल 2019: आठ राज्यों के आदिवासी करेंगे शिरकत, सैला, सुआ, कर्मा के साथ परंपरा की भी दिखेगी झलक

special, छत्तीसगढ़
रायगढ़ (एजेंसी) | पहली बार राज्य में नेशनल ट्राइबल डांस फेस्टिवल का आयोजन किया जा रहा है। यहां देश के लगभग सभी राज्यों से आदिवासी नृतक दल के कलाकार प्रस्तुति देने पहुंचेंगे। रायगढ़ जिले से भी पंथी, कर्मा और महोत्सव के तय कैटेगरी विवाह, फसल कटाई, परंपरागत त्योहारों पर निर्धारित कार्यक्रमों की तैयारी कर रहे हैं। आदिवासी विभाग पहले ब्लॉक स्तर पर कलाकारों की प्रस्तुतियों के आधार पर चयन करेगी। इसके बाद जिला और फिर संभाग स्तर पर चयन प्रक्रिया होगी। छत्तीसगढ़ के साथ ही एमपी, झारखंड, यूपी, बिहार, असम, कर्नाटक, केरल के कलाकार होंगे शामिल https://youtu.be/jN0B9_daER8 इन सब में बेहतर कलाकारों को नेशनल ट्राइबल फेस्टिवल में प्रस्तुति देने का मौका मिलेगा। इसमें छत्तीसगढ़ के अलावा झारखंड, मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश, बिहार, असम, कर्नाटक, केरल, दक्षिण भारत के ढाई हजार से ज्यादा कलाकार हिस्सा लेंगे। इसके
छत्तीसगढ़: जेल में बंद निर्दोष आदिवासियों के रिहाई के लिए आज किया गया आंदोलन, हजारो आदिवासी जुटे

छत्तीसगढ़: जेल में बंद निर्दोष आदिवासियों के रिहाई के लिए आज किया गया आंदोलन, हजारो आदिवासी जुटे

video, छत्तीसगढ़
बस्तर (एजेंसी) | बस्तर की जेलों में बंद निर्दोष आदिवासियों की रिहाई के लिए आज एक दिवसीय आंदोलन किया गया। सामजिक कार्यकर्ता और आप नेत्री सोनी सोरी ने इलाके के एक दर्जन सरपंचों के साथ दंतेवाड़ा पहुंचकर एसडीएम से आंदोलन किया। एसडीएम ने 9 अक्टूबर को कुआकोंडा में पांच से 6 हजार लोगों की भीड़ के साथ सिर्फ एक दिन आंदोलन करने की अनुमति दे दी थी। इससे पहले सभी अनिश्चितकालीन आंदोलन करने की मांग कर रहे थे। अब एक दिन की अनुमति के बाद भी आंदोलन जारी रखने की बात कही जा रही है। https://youtu.be/LD3Q2labmxw मिली जानकारी के अनुसार 5 अक्टूबर से दंतेवाड़ा, सुकमा और बीजापुर के आदिवासी बस्तर की अलग-अलग जेलों में बंद निर्दोष आदिवासियों की रिहाई की मांग को लेकर पालनार में डटे हुए हैं। आदिवासियों को कुआकोंडा से अनिश्चितकालीन आंदोलन की शुरुआत करनी थी लेकिन आंदोलन के लिए वैधानिक अनुमति नहीं मिलने के कारण
छत्तीसगढ़: तीन दिवसीय राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव 27 दिसंबर से, देशभर के 2500 लोक कलाकार देंगे प्रस्तुति

छत्तीसगढ़: तीन दिवसीय राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव 27 दिसंबर से, देशभर के 2500 लोक कलाकार देंगे प्रस्तुति

छत्तीसगढ़
रायपुर (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ में पहली बार आयोजित हो रहे राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव तीन दिनों का होगा। राजधानी रायपुर के र्साइंस कॉलेज मैदान में 27, 28 और 29 दिसम्बर को होगा। इस आयोजन के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में राज्य स्तरीय समिति गठित की गई है। इसमें एक राज्य से 4 ग्रुप शामिल होंगे। हर ग्रुप में 15 कलाकारों की टीम होगी। समिति में गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू, कृषि मंत्री रवीन्द्र चौबे, आदिमजाति एवं अनुसूचित जाति विकास मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, वन मंत्री मोहम्मद अकबर, खाद्य मंत्री अमरजीत भगत, खेल एवं युवा कल्याण मंत्री उमेश पटेल, छत्तीसगढ़ शासन के मुख्य सचिव समेत अन्य संबंधित अधिकारी होंगे। https://youtu.be/jN0B9_daER8 हर राज्य से आएंगे 4 ग्रुप, 15-15 कलाकार हर ग्रुप में होंगे शामिल राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव में प्रतियोगिता भी होगी। इनमें चार विषयों
आदिवासियों की जमीन अदला-बदली की प्रक्रिया को हरी झंडी

आदिवासियों की जमीन अदला-बदली की प्रक्रिया को हरी झंडी

छत्तीसगढ़
जगदलपुर (एजेंसी) | सलवा जुडूम के दौरान हिंसक वारदातों और घरों को जलाने की घटनाओं के बाद बस्तर छोड़ चुके आदिवासियों को जमीनी हक दिलाने के लिए चल रही लड़ाई के बीच दिल्ली से एक बड़ी खबर आई है। मंगलवार को पांच राज्यों, गृह मंत्रालय, ट्राइबल मिनिस्ट्री के अफसरों की एक बैठक राष्ट्रीय अनुसूचित जाति जनजाति आयोग के राष्ट्रीय संयुक्त सचिव लेने वाले थे। इसके लिए सुबह 11 बजे का टाईम निर्धारित किया गया था, लेकिन एन वक्त पर गृह मंत्रालय के अफसरों ने किसी कारणवश बैठक में शामिल नहीं होने पाने की सूचना भिजवाई  तो बैठक को स्थगित करने प्लानिंग में काम शुरू हुआ लेकिन इस बीच छत्तीसगढ़ के अफसरों के अलावा सेंट्रल ट्राइबल मिनिस्ट्री के अफसर यहां पहुंच चुके थे। ऐसे में बैठक को स्थगित नहीं किया गया और बैठक जारी रखी गई। बैठक में ट्राइबल मिनिस्ट्री के ज्वाइंट सेक्रेटरी केएस कोनर जो अभी एफआरए के विभाग प्रमुख भी