दिनांक : 20-May-2024 05:23 PM
Follow us : Youtube | Facebook | Twitter
Shadow

रायपुर : महिला समूह ने मशरूम के विक्रय के लिए एग्रो कंपनी से मुख्यमंत्री के समक्ष हुआ एमओयू

04/01/2021 posted by Priyanka (Media Desk) Chhattisgarh    

रायपुर. गौठानों में महिला स्व-सहायता समूहों द्वारा तैयार किए जा रहे अच्छी गुणवत्ता के उत्पादों को हाथों-हाथों लिया जा रहा है। हाल ही में अंबिकापुर के एक स्व-सहायता समूह ने निर्धारित दर से अधिक दर पर  वर्मी कम्पोस्ट की बिक्री के लिए हैदराबाद की एक कंपनी के साथ एमओयू किया था। इस कड़ी में आज महिला स्व-सहायता समूहों की एक और शानदार उपलब्धि जुड़ गई। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल आज जब बिलासपुर जिले के बिल्हा विकासखंड के ग्राम सेलर में गौठान का निरीक्षण करने पहुंचे। उन्हें यह देखकर प्रसन्नता हुई कि सेलर गांव की महिलाएं उनके समूह द्वारा उत्पादित मशरूम की बिक्री के लिए एक एग्रो कंपनी के साथ एमओयू कर रही हैं।

मुख्यमंत्री ने गौठान के निरीक्षण के दौरान ग्रामीणों, महिला स्व सहायता समूहों से चर्चा की और उन्हें बताया कि गौठान से कैसे लाभ प्राप्त कर सकते हैं, गौठान से ग्राम स्वावलंबन एवं ग्रामीणों को रोजगार कैसे मिल सकता है। इस मौके पर मुख्यमंत्री श्री बघेल के समक्ष सेलर के जागृति महिला स्व सहायता समूह और बिलासपुर के श्री गणेश गुप्ता दीपांगी एग्रो के मध्य मशरूम क्रय विक्रय के लिए एमओयू किया गया। मुख्यमंत्री ने महिला स्व-सहायता समूह की महिलाओं को इस उपलब्धि के लिए बधाई और शुभकामनाएं दी।

मुख्यमंत्री ने गौठान में गोधन न्याय योजना के अंतर्गत गोबर खरीदी व्यवस्था, वर्मी कम्पोस्ट के निर्माण, महिला स्व-सहायता समूहों द्वारा की जा रही आयमूलक गतिविधियों की जानकारी ली। मुख्यमंत्री ने गौठान में बरगद का पौधा लगाया। इस अवसर पर गृह मंत्री एवं बिलासपुर जिले के प्रभारी मंत्री श्री ताम्रध्वज साहू, नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया, संसदीय सचिव श्रीमती रश्मि आशीष सिंह ठाकुर और श्री चिन्तामणी महाराज, विधायक श्री शैलेष पाण्डेय भी उपस्थित थे।

Author Profile

Priyanka (Media Desk)
Priyanka (Media Desk)प्रियंका (Media Desk)
"जय जोहार" आशा करती हूँ हमारा प्रयास "गोंडवाना एक्सप्रेस" आदिवासी समाज के विकास और विश्व प्रचार-प्रसार में क्रांति लाएगा, इंटरनेट के माध्यम से अमेरिका, यूरोप आदि देशो के लोग और हमारे भारत की नवनीतम खबरे, हमारे खान-पान, लोक नृत्य-गीत, कला और संस्कृति आदि के बारे में जानेगे और भारत की विभन्न जगहों के साथ साथ आदिवासी अंचलो का भी प्रवास करने अवश्य आएंगे।