दिनांक : 19-Apr-2024 07:43 AM
Follow us : Youtube | Facebook | Twitter
Shadow

रायपुर : महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेंड़िया ने लगवाया कोरोना वैक्सीन

22/03/2021 posted by Priyanka (Media Desk) Chhattisgarh    

महिला एवं बाल विकास तथा समाज कल्याण मंत्री श्रीमती अनिला भेंड़िया ने आज रायपुर के मेडिकल कॉलेज स्थित वैक्सिनेशन सेंटर में कोरोना का वैक्सीन लगवाया। मेडिकल कॉलेज में डॉ. सुनील और वैक्सीनेशन टीम द्वारा श्रीमती भेंड़िया को कोविड-19 वैक्सीन कोविशील्ड का पहला डोज लगाया गया। वैक्सीन लगाने के बाद श्रीमती भेंड़िया की स्थिति स्थिर रही और उन्हें कोई परेशानी नहीं हुई। इसे देखते हुए डॉक्टर ने उन्हें निगरानी के बाद घर जाने दिया। श्रीमती भेंड़िया को वैक्सीन की दूसरी डोज 28 दिनों बाद लगायी जाएगी।

श्रीमती भेंड़िया ने कहा कि बुजुर्ग और गंभीर बीमारी वाले लोग जिनकी इम्युनिटी कमजोर है, उन्हें कोरोना संक्रमण का खतरा अधिक देखा गया है। इसे देखते हुए शासन द्वारा फ्रंटलाइन वर्कर्स, 60 वर्ष से अधिक के नागरिकों और 45 वर्ष से 59 वर्ष तक के को-मोरबिडिटी वालों को प्राथमिकता क्रम में निःशुल्क टीके लगाए जा रहे हैं। लोग बिना डर के कोरोना का टीका लगवाएं। श्रीमती भेंड़िया ने बताया कि टीका लगाने के बाद उन्हें किसी तरह की कोई पेरशानी नहीं हुई है।

उन्होेंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल द्वारा प्रदेश में कोविड-19 के संक्रमण से बचाव हेतु लिए गए त्वरित निर्णयों के कारण छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण को नियंत्रित रखने में बहुत सफलता मिली है। देश भर में एक बार फिर से कोरोना संक्रमितों के आंकड़े बढ़ने लगे हैं, इसे ध्यान में रखते हुए लोग लापरवाही न बरतें। उन्होंने लोगों से अपील की है कि कोविड-19 संक्रमण के दिशा-निदेर्शों का सभी लोग कड़ाई से पालन करें, मास्क अनिवार्य रूप से लगाएं, हाथ धोते रहें, भीड़-भाड़ वाली जगहों पर फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करें। सभी के सहयोग से ही हम कोरोना को हरा पाएंगे।

Author Profile

Priyanka (Media Desk)
Priyanka (Media Desk)प्रियंका (Media Desk)
"जय जोहार" आशा करती हूँ हमारा प्रयास "गोंडवाना एक्सप्रेस" आदिवासी समाज के विकास और विश्व प्रचार-प्रसार में क्रांति लाएगा, इंटरनेट के माध्यम से अमेरिका, यूरोप आदि देशो के लोग और हमारे भारत की नवनीतम खबरे, हमारे खान-पान, लोक नृत्य-गीत, कला और संस्कृति आदि के बारे में जानेगे और भारत की विभन्न जगहों के साथ साथ आदिवासी अंचलो का भी प्रवास करने अवश्य आएंगे।