दिनांक : 28-Nov-2023 05:54 AM
Follow us : Youtube | Facebook | Twitter
Shadow

दुर्ग: टॉप गवर्मेंट कॉलेजों ने एडमिशन के लिए जारी की मेरिट लिस्ट, B.Com में प्रवेश के लिए मची होड़

17/06/2023 posted by Priyanka (Media Desk) Bhilai, Chhattisgarh, Durg    

दुर्ग जिले के टॉप गवर्मेंट कॉलेजों ने अपने यहां प्रवेश के लिए पहली मेरिट लिस्ट जारी कर दी है। सूची से पता चलता है कि इस साल बीकॉम में प्रवेश के लिए खूब मारामारी है। ऐसा पहली बार है जब बीकॉम के लिए दुर्ग साइंस कॉलेज से अधिक कटऑप दुर्ग गर्ल्स कॉलेज का गया है।

साइंस कॉलेज की बात करें यहां बीकॉम 85 फीसदी अंकों पर क्लोज हुआ है। वहीं गर्ल्स कॉलेज में अंतिम 94 फीसदी अंक पर बीकॉम मिला है। जिन छात्रों का नाम फर्स्ट मेरिट लिस्ट में आया है, उन्हें 20 से 27 जून के बीच कॉलेज पहुंचकर एडमिशन कराने के लिए निर्देशित किया गया है। इस दौरान कोई छात्र एडमिशन नहीं ले पाता है तो उसे फिर से आवेदन करना होगा। इसके बाद उसे दूसरी मेरिट लिस्ट से प्रवेश मिलेगा।

कोर्सवार किए गए आवेदनों की संख्या

फैक्ट फाइल

  • हेमचंद विवि से संबद्ध कॉलेज – 145
  • इनमें स्नातक की कुल सीटें – 51,804
  • बीते साल पहले चरण में मिले आवेदन – 70,802
  • इस साल पहले चरण में मिले आवेदन – 63,470
  • इस साल घट गए आवेदन – 7,232

जानिए, दुर्ग के दो टॉप कॉलेजों का कटऑफ

कोर्स कुल सीट आवेदनों की संख्या
बीए 16295 24759
बीबीए 1230 444
बीकॉम 12454 11830
बीसीए 1695 1017
बीएससी 18505 25036
होम साइंस 270 101
डि. कंप्यूटर 1355 283
कुल 51804 63470

साइंस कॉलेज दुर्ग का कटऑफ

बीकॉम कंप्यूटर 86
बीकॉम प्लेन 85
बीए 74.4
बीएससी बायोटेक 86.2
बीएससी गणित 75
बीसीए 79
बीएससी आईटी 78.8
बीएससी बायो 84
बीएससी माइक्रो 82

गर्ल्स कॉलेज दुर्ग

बीकॉम कंप्यूटर 86
बीकॉम प्लेन 94
बीए 85
बीएससी बायो 91
बीएससी गणित 90
बीएससी कंप्यूटर 90
बीबीए 85
बीएससी होम साइंस 85
बीएससी माइक्रो 91

Author Profile

Priyanka (Media Desk)
Priyanka (Media Desk)प्रियंका (Media Desk)
"जय जोहार" आशा करती हूँ हमारा प्रयास "गोंडवाना एक्सप्रेस" आदिवासी समाज के विकास और विश्व प्रचार-प्रसार में क्रांति लाएगा, इंटरनेट के माध्यम से अमेरिका, यूरोप आदि देशो के लोग और हमारे भारत की नवनीतम खबरे, हमारे खान-पान, लोक नृत्य-गीत, कला और संस्कृति आदि के बारे में जानेगे और भारत की विभन्न जगहों के साथ साथ आदिवासी अंचलो का भी प्रवास करने अवश्य आएंगे।