दिनांक : 25-Feb-2024 06:31 PM
Follow us : Youtube | Facebook | Twitter
Shadow

दुर्ग : आर्मी भर्ती रैली के पहले दिन लगभग साढ़े तीन हजार अभ्यर्थी उपस्थित : 2000 अभ्यर्थी क्वालिफाई

03/03/2021 posted by Priyanka (Media Desk) Chhattisgarh    

दुर्ग. जिले में चल रही आर्मी भर्ती रैली में पहले दिन लगभग साढ़े तीन हजार अभ्यर्थी उपस्थित रहे। इस मौके पर प्रीहाइट के लिए लगभग 2000 लोगों ने क्वालिफाई किया। साथ ही लगभग 270 अभ्यर्थियों ने दौड़ में क्वालिफाई किया। इस मौके पर प्रदेश के आर्मी रिक्रूटमेंट के डायरेक्टर, सेना मेडल, कर्नल श्री एसरमेश की मानिटरिंग में भर्ती रैली हुई। भर्ती स्थल पर सुविधाओं का निरीक्षण करने कलेक्टर डाॅसर्वेश्वर नरेंद्र भुरे भी पहुँचे। उन्होंने अधिकारियों को अभ्यर्थियों के लिए जरूरी सुविधाओं की निरंतर मानिटरिंग के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि अभ्यर्थियों की सुविधा के लिए हेल्पलाइन नंबर बनाये गए हैं।

इन हेल्पलाइन नंबर में जो लोग सहायता के लिए फोन करते हैं उनकी अविलंब सहायता सुनिश्चित की जाए। अभ्यर्थियों के लिए जो रहने की व्यवस्था की गई है। वहाँ साफसफाई की मुकम्मल सुविधा रखी जाए। साथ ही खानेपीने की सुविधा का भी ध्यान रखने के निर्देश दिये। इस दौरान अपर कलेक्टर श्री बीबी पंचभाई, एसडीएम श्री खेमलाल वर्मा एवं उपसंचालक जनशक्ति नियोजन श्री राजकुमार कुर्रे, मेजर श्री सुलेमान हुसैन भी उपस्थित थे।

उल्लेखनीय है कि सेना भर्ती के दौरान आरंभिक रूप से प्रतिभागियों को मार्शलिंग एरिया में रखा गया। फिर इसके बाद उन्हें भर्ती स्थल में ले जाया गया। उल्लेखनीय है कि अभ्यर्थियों की सुविधा के लिए शहर में विभिन्न स्थलों पर फ्लैक्स लगाये गये हैं तथा सोशल मीडिया एवं विभिन्न माध्यमों से अभ्यर्थियों के रूकने की व्यवस्था की जानकारी दी गई है। श्री कुर्रे ने बताया कि कंट्रोल रूम में अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई है जो लगातार अभ्यर्थियों को जरूरी जानकारी दे रहे हैं।

Author Profile

Priyanka (Media Desk)
Priyanka (Media Desk)प्रियंका (Media Desk)
"जय जोहार" आशा करती हूँ हमारा प्रयास "गोंडवाना एक्सप्रेस" आदिवासी समाज के विकास और विश्व प्रचार-प्रसार में क्रांति लाएगा, इंटरनेट के माध्यम से अमेरिका, यूरोप आदि देशो के लोग और हमारे भारत की नवनीतम खबरे, हमारे खान-पान, लोक नृत्य-गीत, कला और संस्कृति आदि के बारे में जानेगे और भारत की विभन्न जगहों के साथ साथ आदिवासी अंचलो का भी प्रवास करने अवश्य आएंगे।