दिनांक : 20-Apr-2024 06:13 PM
Follow us : Youtube | Facebook | Twitter
Shadow

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही जिले को दी 20.63 करोड़ रूपए के विकास कार्यों की सौगात

10/02/2021 posted by Priyanka (Media Desk) Chhattisgarh    

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज अरपा महोत्सव के समापन समारोह में गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही जिले के पेण्ड्रा में 20 करोड़ 63 लाख रूपए के विकास कार्यो का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया और इन विकास एवं निर्माण कार्याें के लिए जिलेवासियों को बधाई और शुभकामनाएं दी।

मुख्यमंत्री श्री बघेल पेण्ड्रा में आयोजित आमसभा में लगभग 2 करोड़ 48 लाख भदौरा से धनगवां मार्ग के डामरीकरण कार्य का लोकार्पण किया। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर मरवाही विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत 50 लाख रूपए की लागत से निर्मित होने वाले स्वर्गीय माधवजी सप्रे प्रेस क्लब एवं पुस्तकालय भवन के निर्माण सहित 4 करोड़ 90 लाख रूपए की लागत वाली डोंगरिया-सपनी-पेण्ड्रा रोड 10 किलोमीटर सड़क, 4 करोड़ 78 लाख रूपए की लागत से बनने वाली बसंतपुर आमाडांड रोड से जमुड़ीखुर्द बकुलीपारा व्हाया बगेसरपारा मुरमुर रोड 10 किलोमीटर, 3 करोड़ 96 लाख रूपए की लागत से एसएच-22 पेण्ड्रा से बारीउमरांव व्हाया झाबर 8 किलोमीटर सड़क, 13 लाख 81 हजार रूपए की लागत से कुम्हारी एवं कोड़गार में बनने वाले कस्तूरबा आवासीय विद्यालय के निर्माण कार्य का शिलान्यास किया।

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने इस मौके पर विधानसभा क्षेत्र कोटा अंतर्गत 2 करोड़ 67 लाख रूपए लागत से निर्मित होने वाली धनगांव से बरपारा सड़क, 59 लाख रूपए की लागत से भर्रापारा पेण्ड्रा में निर्मित होने वाले, स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी मीडियम स्कूल भवन, 20 लागत रूपए की लागत से पकरिया के पशु प्रजनन क्षेत्र में निर्मित होने वाली सीसी रोड, 11 लाख 54 हजार रूपए की लागत से निर्मित होने वाले पंप हाउस, पानी टंकी पाईप लाइन, पकरिया के बासिनपाट के स्टाप डेम में 9 लाख 74 हजार रूपए की लागत से रिटेनिंग वाल के उन्नयन कार्य, 9 लाख रूपए की लागत वाले चारादाना शेड निर्माण तथा 8 लाख 14 हजार रूपए की लागत से गौरेला स्थित कस्तूरबा गांधी विद्यालय भवन के उन्नयन कार्य की भी आधारशिला रखी।

Author Profile

Priyanka (Media Desk)
Priyanka (Media Desk)प्रियंका (Media Desk)
"जय जोहार" आशा करती हूँ हमारा प्रयास "गोंडवाना एक्सप्रेस" आदिवासी समाज के विकास और विश्व प्रचार-प्रसार में क्रांति लाएगा, इंटरनेट के माध्यम से अमेरिका, यूरोप आदि देशो के लोग और हमारे भारत की नवनीतम खबरे, हमारे खान-पान, लोक नृत्य-गीत, कला और संस्कृति आदि के बारे में जानेगे और भारत की विभन्न जगहों के साथ साथ आदिवासी अंचलो का भी प्रवास करने अवश्य आएंगे।