दिनांक : 14-Apr-2024 11:48 PM
Follow us : Youtube | Facebook | Twitter
Shadow

खाद्य मंत्री श्री दयाल दास बघेल ने नवविवाहित जोड़ों को दिया आशीर्वाद

24/02/2024 posted by Priyanka (Media Desk) Chhattisgarh, Raipur    

बेमेतरा जि़ले के विकासखंड नवागढ़ के  संबलपुर के हायर सेकण्ड्री स्कूल परिसर में आज मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के तहत 70 जोड़े  विवाह बंधन में बंधे।  खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री श्री दयाल दास बघेल ने नवविवाहित जोड़े को आशीर्वाद देते हुए अपनी शुभकामना दी और उपहार भेंट किए। उन्होंने कहा कि  मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना  आर्थिक रूप से कमजोर परिवारो के लिए वरदान है। इस योजना के माध्यम से फि़ज़ूल खर्च एवं दहेज प्रथा जैसे कुरीतियों को समाप्त करने का एक अच्छा माध्यम है। ऐसे कन्याओं के  माता-पिता को आर्थिक समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ रहा।’

’खाद्य मंत्री श्री बघेल  ने कहा कि शादी सामजिक जीवन में एक महत्वपूर्ण अंग है।  वर-वधु का नहीं बल्कि  दो परिवारों का एक होना भी है। उन्होंने कहा कि समाज में हम सब की महत्वपूर्ण भूमिका होती है, चाहे वो सामाजिक, संस्कृति, आर्थिक किसी भी क्षेत्र में हो। हम सब को मिल-जुलकर अपने दायित्वों का निर्वहन करना होता है. राज्य सरकार ने जनता की बेहतरी के लिए कई बेहतर योजनाएं बनाई है जिनमे से एक है मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना  जिनका फायदा राज्य के हर वर्ग के गरीब व्यक्ति को मिल रहा है। साथ ही कार्यक्रम के सफल आयोजन के लिए जिला प्रशासन एवं महिला बाल विकास विभाग की टीम को भी बधाई एवं शुभकामनाएं दी।

जि़ला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास  श्री बी.डी.पटेल ने बताया कि आज मुख्यमंत्री कन्या विवाह  योजना के तहत 70 जोड़े विवाह बंधन में बंधे । इस अवसर पर अध्यक्ष जनपद पंचायत नवागढ़ श्रीमती अंजलि मार्कण्डेय, और बड़ी संख्या में वर वधु के परिजन, महिला बाल विकास विभाग के अधिकारी, कर्मचारीगण उपस्थित थे।

Author Profile

Priyanka (Media Desk)
Priyanka (Media Desk)प्रियंका (Media Desk)
"जय जोहार" आशा करती हूँ हमारा प्रयास "गोंडवाना एक्सप्रेस" आदिवासी समाज के विकास और विश्व प्रचार-प्रसार में क्रांति लाएगा, इंटरनेट के माध्यम से अमेरिका, यूरोप आदि देशो के लोग और हमारे भारत की नवनीतम खबरे, हमारे खान-पान, लोक नृत्य-गीत, कला और संस्कृति आदि के बारे में जानेगे और भारत की विभन्न जगहों के साथ साथ आदिवासी अंचलो का भी प्रवास करने अवश्य आएंगे।