दिनांक : 26-Nov-2022 04:16 PM   रायपुर, छत्तीसगढ़ से प्रकाशन   संस्थापक : पूज्य श्री स्व. भरत दुदानी जी
Follow us : Youtube | Facebook | Twitter English English Hindi Hindi
Shadow

छत्तीसगढ़ के सरकारी कर्मचारियों की हड़ताल से आम आदमी के रुके काम, हुआ धरना प्रदर्शन

22/08/2022 posted by Priyanka (Media Desk) Chhattisgarh, India    

छत्तीसगढ़ के सरकारी कर्मचारियों ने सोमवार से हड़ताल शुरू कर दी है। रायपुर के धरना स्थल पर सभी विभागों के कर्मचारी एक जुट हुए। प्रशासन के खिलाफ नारा लगाते हुए धरना दिया। कलेक्ट्रेट, तहसील, ADM,SDM दफ्तरों में सिर्फ कुछ जमानत के मामलों पर इक्का दुक्का केस पर काम हुआ। इसके अलावा कोई काम नहीं हुआ। रजिस्ट्री ऑफिस बंद रहने से भी कोई काम नहीं हुआ।

22 अगस्त से शुरू हुई इस हड़ताल की वजह से आम आदमी के काम अटक चुके हैं। ये हालात कब तक रहेंगे कुछ कहा नहीं जा सकता, क्योंकि कर्मचारियों ने साफ कहा है कि ये हड़ताल अनिश्चितकालीन है। फिलहाल कर्मचारियों और प्रशासन के बीच भी कोई तालमेल बैठता नहीं दिख रहा है। इसलिए आम आदमी के अटके हुए काम फिलहाल अटके ही रहेंगे।

रायपुर की कोर्ट में भी सोमवार काे कोई काम नहीं हुआ। अदालत के कमरों की आलमारियों में ताला लगाकर कर्मचारी चले गए। छत्तीसगढ़ तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ के संरक्षक विजय झा ने बताया कि न्यायालय कर्मचारी संघ ने भी हमें पूरा समर्थन दिया है। हमारे साथ अदालतों के कर्मचारी भी साथ उतर आए हैं सोमवार को कोर्ट के सभी कर्मचारी हड़ताल में शामिल हुए, ये आगे भी हड़ताल में ही बने रहेंगे, फिल्हाल कोर्ट में काम काज नहीं होगा।

रायपुर में सरकारी स्कूल पर हड़ताल का असर तो रहा मगर पूरी तरह से स्कूल बंद नहीं हुए। दानी गर्ल्स स्कूल में आधे से अधिक टीचर स्टाफ ने तो हड़ताल में शामिल होने का फैसला किया। मगर बच्चे आए और अन्य शिक्षकों के साथ क्लास भी लगाई गई।

सहायक शिक्षक फेडरेशन के नेता जाकेश ने बताया कि हमने वेतन विसंगति की मांग जोड़ने को कहा था मगर कर्मचारी संगठन राजी नहीं हुए इसलिए हम काम पर जा रहे हैं। छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष संजय शर्मा ने बताया कि प्रदेश के बलरामपुर, कबीरधाम, मुंगेली, दंतेवाड़ा जैसे जिले में मात्र 6% शिक्षक संवर्ग ही हड़ताल पर गए हैं।

के रुके काम बाकि काम कर रहे हैं। हम वेतन विसंगति, क्रमोन्नति जैसी मांगों के लिए संघर्ष कर रहे हैं। शिक्षकों को इस हड़ताल में शामिल होने का दबाव दे रहे है, इसका हम विरोध करते है, स्वेच्छा से हड़ताल में शामिल होने वाले शिक्षको की अपनी समझ है, इसके लिए वे स्वतंत्र हैं।

Author Profile

Priyanka (Media Desk)
Priyanka (Media Desk)प्रियंका (Media Desk)
"जय जोहार" आशा करती हूँ हमारा प्रयास "गोंडवाना एक्सप्रेस" आदिवासी समाज के विकास और विश्व प्रचार-प्रसार में क्रांति लाएगा, इंटरनेट के माध्यम से अमेरिका, यूरोप आदि देशो के लोग और हमारे भारत की नवनीतम खबरे, हमारे खान-पान, लोक नृत्य-गीत, कला और संस्कृति आदि के बारे में जानेगे और भारत की विभन्न जगहों के साथ साथ आदिवासी अंचलो का भी प्रवास करने अवश्य आएंगे।