दिनांक : 20-May-2024 06:09 PM
Follow us : Youtube | Facebook | Twitter
Shadow

माओवादियों के खिलाफ सघन अभियान चलाया जाएगा शीध्र आत्मसर्मपण करें: कलेक्टर

23/04/2024 posted by Priyanka (Media Desk) Chhattisgarh, Dantewada    

बीजापुर जिले में माओवाद के विरूद्ध सघन अभियान चलाकर लगातार कार्रवाई की जा रही है। जिसके चलते नक्सली बौखलाहट के कारण आम नागरिकों और बेकसूर और मासूम लोगों को क्षति पहुंचाने में निरंतर प्रयास कर रहे हैं। ऐसे में जिला कलेक्टर अनुराग पाण्डेय ने नक्सलियों को प्रतिबंधित माओवादी विचार धारा व हथियार छोड़कर आत्मसर्मपण करने की बात कही कलेक्टर ने कहा कि अभी भी समय है विदेशी विचार धारा को छोड़ कर अपने और अपने आने वाली पीढ़ी के उज्जवल भविष्य के लिए आत्मसर्मपण करें और नई पुनर्वास नीति के तहत उनको पुर्नवास किया जाएगा। जो लोग पूर्व में आत्मसर्मपण किए हैं आज वे लोग मुख्य धारा में जुड़कर बेहतर जीवन जी रहे हैं और अपने परिवार अपने बच्चों के सुखद भविष्य की ओर अग्रसर हैं।

आज जो शिक्षा स्वास्थ्य और विकास से ग्रामीणों को दूर रख कर है वह स्वयं उच्च शिक्षित है लैपटॉप, कम्प्यूटर और उच्च तकनीकी ज्ञान रखते हैं। नक्सलियों के प्रेसनोट में जो किसी शहरी क्षेत्र में बना दिखता है में शुद्ध हिन्दी, बिना किसी व्याकरण एवं वर्तनी त्रुटि के देखा जा सकता है और वही लोग बीजापुर की एक पीढ़ी को शिक्षा से वंचित करने का पाप किया है। यह विकास विरोधी तत्व बेहतर शिक्षा, स्वास्थ्य और विकास से ग्रामीणों को दूर रखकर अपने नापाक मसूंबो की पूर्ति के लिए सुनियोजित ढंग से आतंक कर रहे हैं, इसका अंत तय है। जिस तरह उनके द्वारा लगाए आईईडी ब्लास्ट से बीजापुर के बेकसूर और मासूम ग्रामीण आदिवासी तथा पुलिसकर्मी मारे जा रहे हैं वह घोर निंदनीय है इसका खामियाजा उनको भुगतना पडे़गा और अरबन नक्सलियों के खिलाफ भी कार्रवाई तेज किये जाऐंगे। बीजापुर के भोली-भाली जनता इनके नापाक मंसूबो को समझ चुकी है और विकास की ओर अपना कदम बढ़ा रही है। इसका ताजा उदाहरण दो बार नक्सली बंद के आह्वान को आम जनता ने सिरे से नकार दिया। लोकतंत्र के महापर्व लोकसभा निर्वाचन 2024 में भी लोग बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेते हुए लोकतांत्रिक व्यवस्था अपनी आस्था व्यक्त की है।

Author Profile

Priyanka (Media Desk)
Priyanka (Media Desk)प्रियंका (Media Desk)
"जय जोहार" आशा करती हूँ हमारा प्रयास "गोंडवाना एक्सप्रेस" आदिवासी समाज के विकास और विश्व प्रचार-प्रसार में क्रांति लाएगा, इंटरनेट के माध्यम से अमेरिका, यूरोप आदि देशो के लोग और हमारे भारत की नवनीतम खबरे, हमारे खान-पान, लोक नृत्य-गीत, कला और संस्कृति आदि के बारे में जानेगे और भारत की विभन्न जगहों के साथ साथ आदिवासी अंचलो का भी प्रवास करने अवश्य आएंगे।