दिनांक : 14-Apr-2024 10:03 PM
Follow us : Youtube | Facebook | Twitter
Shadow

गरियाबंद के 15 श्रमिक एवं 10 बच्चे को तेलंगाना के ईट भट्ठा से बंधक मुक्त किया गया

23/02/2024 posted by Priyanka (Media Desk) Chhattisgarh, Gariabandh    

विकासखंड देवभोग अंतर्गत ग्राम दरलीपारा के 15 श्रमिको एवं 10 बच्चे सहित कुल 25 लोगों को तेलंगाना राज्य के ईंट भट्ठे से मुक्त कराकर सकुशल जिला लाया है। श्रम पदाधिकारी गरियाबंद ने बताया कि तेलंगाना राज्य के एमएमएस, टीएनआर ईट भट्ठा मालिक श्री किशोर बाबू, ग्राम कोईलागुडेम,जिला – यदाद्रीभुवनागिरी के द्वारा गरियाबंद के श्रमिकों को बंधक बनाकर कार्य कराये जाने संबंधी सूचना श्रमिको के परिजनो से प्राप्त हुई थी। परिजनों द्वारा 19 फरवरी 2024 को कार्यालय श्रम पदाधिकारी जिला गरियाबंद में स्वयं उपस्थित होकर आवेदन प्रस्तुत कर अपने परिवार को सकुशल गृह ग्राम लाने के लिए निवेदन किया गया था। उक्त संबंध में त्वरित कार्यवाही किये जाने श्री रामनाथ श्रम पदाधिकारी, जिला- यदाद्रिभुवनागिरी (तेलंगाना) को दूरभाष के माध्यम से संपर्क कर, जिला गरियाबंद के निवासी जिन्हे श्रमिक कार्य के लिए ग्राम कोईलागुडेम, जिला – यदाद्रीभुवनागिरी लाया गया था, उक्त श्रमिको को अवमुक्त किये जाने का अनुरोध किया गया। जिसके परिपालन में यदाद्रिभुवनागिरी जिला प्रशासन के सहयोग से ईट भट्ठे में कार्यरत सभी 15 श्रमिको एवं 10 बच्चे सहित कुल 25 व्यक्तियों को जिला गरियाबंद निवासी होने का पहचान एवं पुष्टि किया जाकर तत्काल कार्यावाहीकरते हुए दिनांक 20 फरवरी 2024 को रात्रि में ट्रेन के माध्यम से गृह ग्राम/जिला के लिए रवाना कियागया। सभी श्रमिक 21 फरवरी 2024 को रायपुर सकुशल पहुंचने के उपरांत श्रमिकों के द्वाराकार्यालय श्रम पदाधिकारी, जिला-गरियाबंद में स्वयं उपस्थित होकर सकुशल गृहग्राम/जिला पहुंचनेकी जानकारी देते हुए जिला प्रशासन यदाद्रिभुवनागिरी का समन्वय स्थापित कर त्वरित कार्यवाही हेतु अभार व्यक्त किया गया।

Author Profile

Priyanka (Media Desk)
Priyanka (Media Desk)प्रियंका (Media Desk)
"जय जोहार" आशा करती हूँ हमारा प्रयास "गोंडवाना एक्सप्रेस" आदिवासी समाज के विकास और विश्व प्रचार-प्रसार में क्रांति लाएगा, इंटरनेट के माध्यम से अमेरिका, यूरोप आदि देशो के लोग और हमारे भारत की नवनीतम खबरे, हमारे खान-पान, लोक नृत्य-गीत, कला और संस्कृति आदि के बारे में जानेगे और भारत की विभन्न जगहों के साथ साथ आदिवासी अंचलो का भी प्रवास करने अवश्य आएंगे।