दिनांक : 14-Apr-2024 10:55 PM
Follow us : Youtube | Facebook | Twitter
Shadow

आयुष्मान भारत योजना आनलाइन होती है संचालित, शिकायत दर्ज कराने के लिए भी विभाग का है टोल फ्री नंबर

19/02/2024 posted by Priyanka (Media Desk) Chhattisgarh, Raipur    

आयुष्मान कार्ड की सुविधाओं का लाभ लेने के लिए हितग्राहियों को भटकना न पड़े, इसके लिए विभाग द्वारा योजना का संचालन आनलाइन पद्धति से किया जा रहा है तथा हितग्राहियों को आनलाइन सुविधाएं प्रदान की जा रही है। इसमें आनलाइन रजिस्ट्रेशन निजी एवं शासकीय अस्पतालों से हो जाता है। योजना का लाभ उठाने में किसी तरह की दिक्कत आ रही हो तो टोल फ्री नंबर पर फोन लगा सकते हैं।
स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि आयुष्मान भारत योजना के लिए कोई आवेदन नहीं लिया जाता है। निजी एवं शासकीय अस्पताल में आयुष्मान कार्ड के आधार पर ऑनलाईन रजिस्ट्रेशन किया जाता है और सभी प्रकिया टीएमएस पोर्टल के द्वारा पूरी की जाती है। आयुष्मान कार्ड की समस्या को भी ऑनलाईन प्रकिया के तहत निदान किया जाता है। किसी भी अस्पताल में उपचार के संबंध में शिकायत आती है उसके लिए 104 टोल फ्री नंबर 24ग्7 कार्य करती है। इसके अलावा 14555 टोल फ्री नंबर पर भी शिकायत दर्ज करने की सुविधा है।

मुख्यमंत्री विशेष स्वास्य्  सहायता योजना का आवेदन मुख्यमंत्री निवास कार्यालय के द्वारा अग्रेषित की जाती है, जिसे स्टेट नोडल एजेंसी के द्वारा डीकेबीएसएसवाय पोर्टल पर अपलोड कर सभी प्रकिया ऑनलाईन की जाती है। जिसमें किडनी, लीवर, हार्ट ट्रांसप्लांट जैसे बीमारियों की इलाज की सुविधा शामिल है।

संचालनालय स्वास्थ्य सेवायें का पूरा विभाग स्वास्थ्य भवन, नवा रायपुर के सेक्टर-19 में एक ही जगह पर संचालित हो रहा है। स्टेट नोडल एजेंसी के कार्य को बेहतर कियान्वयन हेतु भी स्वास्थ्य भवन में स्थानांतरित किया गया है ताकि मॉनिटरिंग एवं सुपरविजन किया जा सके। मरीजों के आवेदन पर कम से कम समय पर सभी ऑनलाईन प्रकिया पूर्ण की जा सके, इसकी सतत मॉनिटरिंग की जा रही है।

Author Profile

Priyanka (Media Desk)
Priyanka (Media Desk)प्रियंका (Media Desk)
"जय जोहार" आशा करती हूँ हमारा प्रयास "गोंडवाना एक्सप्रेस" आदिवासी समाज के विकास और विश्व प्रचार-प्रसार में क्रांति लाएगा, इंटरनेट के माध्यम से अमेरिका, यूरोप आदि देशो के लोग और हमारे भारत की नवनीतम खबरे, हमारे खान-पान, लोक नृत्य-गीत, कला और संस्कृति आदि के बारे में जानेगे और भारत की विभन्न जगहों के साथ साथ आदिवासी अंचलो का भी प्रवास करने अवश्य आएंगे।