दिनांक : 14-Jun-2024 10:22 AM
Follow us : Youtube | Facebook | Twitter
Shadow

रायपुर ग्रामीण : मंत्री डॉ. डहरिया ने करोड़ों के विकास कार्यों की दी सौगात

12/10/2022 posted by Priyanka (Media Desk) Raipur    

नगरीय प्रशासन एवं विकास तथा श्रम मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया ने आज रायपुर जिले के विकासखण्ड आरंग के भटिया, मजीठा, भैंसा और देवरतिल्दा ग्राम में करीब एक करोड़ 29 लाख 60 हजार रूपए की लागत के विभिन्न विकास कार्यों की सौगात दी। विकास कार्यों में रोड स्कूल भवन, सामुदायिक भवन सहित अन्य निर्माण शामिल है।

डॉ. डहरिया ने ग्राम मटिया में आदर्श ग्राम योजना के तहत 40 लाख रूपए की लागत के कार्यों तथा गांव में जैतखाम के रंगरोगन तथा ग्रील निर्माण जिसकी लागत चार लाख 40 हजार रूपए का लोकार्पण किया। इसी तरह से ग्राम मजीठा में आदर्श ग्राम योजना के तहत 40 लाख रूपए की लागत के विभिन्न कार्यों का लोकार्पण किया। उन्होंने मजीठा में पांच लाख रूपए की लागत से बने पारधी समाज के सामुदायिक भवन का लोकार्पण किया। डॉ. डहरिया ने ग्राम देवरतिल्दा में छह लाख 50 हजार रूपए की लागत से निर्मित सतनामी समाज के सामुदायिक भवन और सात लाख रूपए की लागत से बने हाईस्कूल भवन के अहाता निर्माण कार्य का लोकार्पण किया। इसी प्रकार से दो लाख 30 हजार रूपए की लागत से बनने वाले सीसी रोड का भूूमिपूजन किया।

नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. डहरिया ने ग्राम भैंसा में चार लाख 71 हजार रूपए की लागत से बने प्राथमिक शाला के अतिरिक्त कक्ष, पांच लाख रूपए की लागत से बने सतनामी समाज के सामुदायिक भवन, पांच लाख 20 हजार रूपए के सीसी रोड का लोकार्पण और तीन लाख रूपए की लागत से बनने वाले दुर्गा चौरा मंच का भूमिपूजन किया। लोकार्पण एवं भूमि पूजन के कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए नगरीय प्रशासन मंत्री ने कहा कि जनसुविधाओं के सभी काम राज्य शासन द्वारा कराये जा रहे है। उन्होंने बताया कि सामाजिक कार्याे के लिए सर्वसुविधायुक्त सामुदायिक भवन की जरूरत सभी समाजों के लिए होती है इसको ध्यान में रखते हुए सभी समाजों के सामुदायिक भवनों का निर्माण किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि ग्राम भैंसा में जल्द ही हाईस्कूल शुरू होगा।

डॉ. डहरिया ने कहा कि ग्राम भैंसा के ग्रामवासियों को गांव में हाईस्कूल खोलने की बहुत पुरानी मांग थी। उन्होंने कहा कि गांव के विद्यार्थियों की पढ़ाई सुविधा के लिए भैंसा के मीडिल स्कूल का उन्नयन कर नवीन हाईस्कूल का शुभारंभ कराया गया है। डॉ. डहरिया ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने स्वामी आत्मानंद स्कूलो की शुरुआत की है इनमें अंग्रेजी और हिंदी माध्यम से छात्रों को शिक्षा प्रदान की जा रही है उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ी हमारी मातृबोली है, इसके साथ हमें हमारे लिए अंग्रेजी भाषा की जानकारी होना भी जरूरी है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री टापर विद्यार्थियों को हेलीकॉप्टर राउंड करा रहे हैं

उन्होंने भैंसा के छात्रों से कहा कि आप भी हाईस्कूल और हायर सेकंडरी परीक्षा में टॉपर बने अच्छे परिणाम लायें आपको भी यह मौक़ा मिल सकता है। डॉ. डहरिया ने कहा कि लोगों को सहायता पहुंचाने के लिए राज्य शासन कई जन कल्याणकारी योजनाओं का संचालन किया जा रहा है। किसानों को राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत उनके बैंक खातो में सीधे राशि अंतरित की जा रही है। भूमिहिन किसान कृषि मजदूरों को सहायता राशि भी उनके खातों में अंतरित की जा रही है। गोधन न्याय योजना के तहत गौठानों में गोपालकों, गोबर संग्राहको से दो रूपए किलो गोबर क्रय किया जा रहा है। गांवों के चयनित गौठानों में महात्मा गांधी ग्रामीण औद्योगिक पार्क बनाये जा रहे है। जहां पर ग्रामीणों के लिए आजीविका गतिविधियां विकसित की जा रही है।

राज्य में लघु वनोपजों को समर्थन मूल्य पर क्रय किया जा रहा है, जिसने वनवासियों को फायदा हो रहा है। दूर अनुसूचित दुर्गम इलाकों में स्वास्थ्य सुविधायें पहुंचाई जा रही है। मुख्यमंत्री हॉट बाजार क्लीनिक के माध्यम से दूरस्थ इलाकों में मोबाईल मेडिकल वाहन में चिकित्सा दल पहुंचकर जरूरतमंद लोगों का निःशुल्क इलाज किया जा रहा है। चिकित्सा दलों द्वारा मरीजों का स्वास्थ्य परीक्षण विभिन्न जांच एवं निःशुल्क दवाईयां प्रदान की जा रही है। इसी तरह से राज्य के सभी शहरी इलाकों में गरीब तंग बस्तियों में मोबाईल मेडिकल यूनिट के द्वारा गरीब जरूरतमंदों का निःशुल्क इलाज किया जा रहा है। मुख्यमंत्री खूबचंद बघेल स्वास्थ्य सहायता योजना के तहत लोगो की गंभीर बीमारियों के इलाज के लिए सहायता दी जा रही है।

Author Profile

Priyanka (Media Desk)
Priyanka (Media Desk)प्रियंका (Media Desk)
"जय जोहार" आशा करती हूँ हमारा प्रयास "गोंडवाना एक्सप्रेस" आदिवासी समाज के विकास और विश्व प्रचार-प्रसार में क्रांति लाएगा, इंटरनेट के माध्यम से अमेरिका, यूरोप आदि देशो के लोग और हमारे भारत की नवनीतम खबरे, हमारे खान-पान, लोक नृत्य-गीत, कला और संस्कृति आदि के बारे में जानेगे और भारत की विभन्न जगहों के साथ साथ आदिवासी अंचलो का भी प्रवास करने अवश्य आएंगे।