दिनांक : 20-May-2024 07:09 PM
Follow us : Youtube | Facebook | Twitter
Shadow

राष्ट्रीय पोषण माह – सत्य साईं संजीवनी अस्पताल में एक दिवसीय कार्यशाला एवं व्याख्यान का आयोजन

08/09/2022 posted by Priyanka (Media Desk) Chhattisgarh, India    

राजधानी स्थित सत्य साईं संजीवनी अस्पताल में इंडियन डाइटेटिक एसोसिएशन एंड नेट प्रोफेन छत्तीसगढ़ चैप्टर तथा शासकीय दुधाधारी बजरंग महिला महाविद्यालय के संयुक्त तत्वावधान में एक दिवसीय कार्यशाला एवं व्याख्यान का आयोजन किया गया। उक्त व्याख्यानमाला में मुख्य अतिथि के रूप में डॉ अरुणा पलटा कुलपति हेमचंद यादव विश्वविद्यालय दुर्ग ने अपने संबोधन में कहा कि  स्वस्थ रहने  के लिए दैनिक आहार में पानी का सेवन पर्याप्त मात्रा में करना चाहिए, भोजन के अन्त में दही, नींबू पानी का सेवन करें, फल और सब्जियों का अधिक से अधिक  प्रयोग करें। नियमित रुप से सभी को व्यायाम करना चाहिए साथ ही तनाव रहित रहने का भी प्रयास करना चाहिए।

कार्यक्रम में डॉ श्वेता छाबड़ा एवं डॉ सारिका श्रीवास्तव के द्वारा हितग्राहियों को डाइट संबंधी जानकारी प्रदान की गई  एवं उनका फीडबैक भी लिया जिसमें  लोगों ने उत्साह पूर्वक भाग लिया। इसके पश्चात डॉ बासु वर्मा के मार्गदर्शन में महाविद्यालय की छात्राओं के द्वारा ह्रदय रोग से पीड़ित बच्चों एवं उनके परिवार को फल का वितरण किया गया। कार्यक्रम में डॉ अभया जोगलेकर ने इस वर्ष की पोषण थीम की विस्तृत जानकारी दी। डॉ. श्रुति प्रभु ने पोषण में नवाचार विषय पर अपने विचार रखे। यूनिसेफ के अधिकारी ने राज्य में चल रहे समस्त पोषण योजनाओं की जानकारी प्रदान की। सत्य साईं अस्पताल की चीफ डाइटिशियन कविता किरण साहू ने सत्य साईं अस्पताल के द्वारा प्रदान की जा रही डाइट की संपूर्ण जानकारी दी । अंत में गिफ्ट ऑफ गिफ्ट के माध्यम से उन सभी बच्चों को सर्टिफिकेट एवं उपहार प्रदान किए जिनका सफलतापूर्वक ऑपरेशन सत्य साईं अस्पताल के द्वारा किया गया। सत्य साई हॉस्पिटल के कर्मचारी एवं अधिकारियों के द्वारा व्यंजन प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया जिसमें विजयी प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया गया।

Author Profile

Priyanka (Media Desk)
Priyanka (Media Desk)प्रियंका (Media Desk)
"जय जोहार" आशा करती हूँ हमारा प्रयास "गोंडवाना एक्सप्रेस" आदिवासी समाज के विकास और विश्व प्रचार-प्रसार में क्रांति लाएगा, इंटरनेट के माध्यम से अमेरिका, यूरोप आदि देशो के लोग और हमारे भारत की नवनीतम खबरे, हमारे खान-पान, लोक नृत्य-गीत, कला और संस्कृति आदि के बारे में जानेगे और भारत की विभन्न जगहों के साथ साथ आदिवासी अंचलो का भी प्रवास करने अवश्य आएंगे।