दिनांक : 05-Dec-2022 09:01 AM   रायपुर, छत्तीसगढ़ से प्रकाशन   संस्थापक : पूज्य श्री स्व. भरत दुदानी जी
Follow us : Youtube | Facebook | Twitter English English Hindi Hindi
Shadow

पाटन : नरवा प्रोजेक्ट का निरीक्षण करने पहुंचे मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को दिए आवश्यक निर्देश

08/06/2022 posted by Priyanka (Media Desk) Chhattisgarh, India    

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने पाटन ब्लॉक में चल रहे नरवा प्रोजेक्ट का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि मानसून में थोड़ा विलंब होने से नरवा प्रोजेक्ट की अंतिम फिनिशिंग के लिए कुछ और समय मिल जाएगा। इस भूमि में जहां हम खड़े हैं वहां पर मुरुम की मिट्टी है, जिसमें तेजी से पानी का बहाव हो जाता है, इसलिए कुछ-कुछ दूरी पर स्ट्रक्चर बनाना जरूरी होता है। उन्होंने मौके पर ही प्रोजेक्ट का विवरण देखकर अधिकारियों से कहा कि बारिश की हर बूंद कीमती है, नरवा प्रोजेक्ट्स की बारीक मॉनिटरिंग करें। इस अवसर पर वन मंत्री श्री मोहम्मद अकबर भी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री ने ग्राम खुड़मुड़ी अंतर्गत रूही से उफरा नाला (7.3 किलोमीटर, लागत 95.96 लाख) में बनाए जा रहे चेक डैम का अवलोकन किया। इस चेक डैम के बनने से करीब 70 एकड़ रकबे में सिंचाई क्षमता बढ़ेगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि अलग अलग भूमि की जरूरत के दृष्टिकोण से अलग तरह के स्ट्रक्चर लगते हैं। अभी तक जिन नरवा प्रोजेक्ट्स पर काम पूरा हो गया है। वहां लोग दो फसल लेने लगे हैं। इस बार जो प्रोजेक्ट पूरे होंगे, वहां रबी के लिए बड़ी मदद मिलेगी।

उल्लेखनीय है कि राज्य सरकार की महत्वकांक्षी योजना  नरवा, गरवा, घुरवा और बारी के तहत सिंचाई रकबा को बढ़ाने और भू-जल स्रोत को अनुकूल बनाए रखने के लिए नाला बंधान का कार्य किया जा रहा है। पाटन विकासखंड अंतर्गत 98 ग्राम पंचायतों को नरवा संवर्धन के लिए शामिल किया गया है। इसके तहत 180.53 किलोमीटर लंबाई के 74 नरवा के संवर्धन का कार्य किया जा रहा है। पाटन विकासखंड क्षेत्र के कुल कैचमेंट एरिया 90,445.81 हेक्टेयर क्षेत्रफल के लिए 26 डीपीआर बनाया गया है। इस कार्य के लिए पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग को क्रियान्वयन एजेंसी बनाया गया है। मुख्यमंत्री ने सभी प्रोजेक्ट्स तय समय पर पूरा करने के निर्देश दिए।

Author Profile

Priyanka (Media Desk)
Priyanka (Media Desk)प्रियंका (Media Desk)
"जय जोहार" आशा करती हूँ हमारा प्रयास "गोंडवाना एक्सप्रेस" आदिवासी समाज के विकास और विश्व प्रचार-प्रसार में क्रांति लाएगा, इंटरनेट के माध्यम से अमेरिका, यूरोप आदि देशो के लोग और हमारे भारत की नवनीतम खबरे, हमारे खान-पान, लोक नृत्य-गीत, कला और संस्कृति आदि के बारे में जानेगे और भारत की विभन्न जगहों के साथ साथ आदिवासी अंचलो का भी प्रवास करने अवश्य आएंगे।