दिनांक : 17-Jun-2024 12:48 PM
Follow us : Youtube | Facebook | Twitter
Shadow

कबीरधाम जिले के 1,13,351 किसानों के बैंक खाते में 79 करोड़ 55 लाख 69 हजार रूपए का हुआ भुगतान

28/06/2023 posted by Priyanka (Media Desk) Kawardha    

राजीव गांधी किसान न्याय योजना के अंतर्गत खरीफ वर्ष 2022 में पंजीकृत कबीरधाम जिले के 1,14,121 किसानों में से 1,13,351 किसानों को प्रथम किस्त के रूप में 79 करोड़ 55 लाख 69 हजार रूपए का भुगतान उनके बैंक खातों में किया जा चुका है। भूईया पोर्टल एवं बैंक खाता विवरण में त्रुटि होने की वजह से मात्र 770 किसानों का भुगतान लंबित है। कृषि विभाग द्वारा लंबित भुगतान के निराकरण के लिए किसानों के बैंक खाता विवरण में संशोधन, सुधार एवं सत्यापन का कार्य सहकारी समितियों के माध्यम से तेजी से कराया जा रहा है। सत्यापन उपरांत किसानों का लंबित भुगतान जारी कर दिया जाएगा।

संचालक कृषि श्रीमती रानू साहू ने बताया कि शासन को यह शिकायत प्राप्त हुई थी कि कबीरधाम जिले में 51 हजार किसानों के बैंक खाते में राजीव गांधी किसान न्याय योजना की प्रथम किश्त की राशि नहीं आयी है। प्रारंभिक जांच में यह शिकायत भ्रामक पायी गयी है। उन्होंने बताया कि राजीव गांधी किसान न्याय योजना के अंतर्गत खरीफ वर्ष 2022 में जिले के पंजीकृत 1,14,121 कृषकों में से 1,13,351 किसानों को 79 करोड़ 55 लाख 69 हजार रूपए का भुगतान अपेक्स बैंक के माध्यम से किसानों के खाते में किया जा चुका है। मात्र 770 किसानों का भुगतान विभिन्न कारणों जैसे- भूईयो पोर्टल एवं बैंक खाता विवरण में त्रुटि होने का कारण लंबित है।

लंबित भुगतान को जारी करने के लिए किसानों के बैंक खाता विवरण में संशोधन एवं सत्यापन का कार्य संबंधित सहकारी समितियों के माध्यम से कराया जा रहा है। सत्यापन उपरांत लंबित राशि का भुगतान संबंधित किसानों के बैंक खाते में किया जाएगा। उन्होंने बताया कि भूईया पोर्टल में त्रुटि के कारण लंबित भुगतान के मामले में किसानों के सत्यापन हेतु संबंधित तहसीलदारों को पोर्टल का लॉगिन दिया जा रहा है, जिससे तहसीलदार किसानों के सत्यापन की प्रक्रिया पूरी कर सकेंगे।

Author Profile

Priyanka (Media Desk)
Priyanka (Media Desk)प्रियंका (Media Desk)
"जय जोहार" आशा करती हूँ हमारा प्रयास "गोंडवाना एक्सप्रेस" आदिवासी समाज के विकास और विश्व प्रचार-प्रसार में क्रांति लाएगा, इंटरनेट के माध्यम से अमेरिका, यूरोप आदि देशो के लोग और हमारे भारत की नवनीतम खबरे, हमारे खान-पान, लोक नृत्य-गीत, कला और संस्कृति आदि के बारे में जानेगे और भारत की विभन्न जगहों के साथ साथ आदिवासी अंचलो का भी प्रवास करने अवश्य आएंगे।