दिनांक : 06-Dec-2022 09:24 AM   रायपुर, छत्तीसगढ़ से प्रकाशन   संस्थापक : पूज्य श्री स्व. भरत दुदानी जी
Follow us : Youtube | Facebook | Twitter English English Hindi Hindi
Shadow

कबीरधाम : गोधन न्याय योजना से निकली राह, ग्रामीण को मिला आय का जरिया

30/09/2022 posted by Priyanka (Media Desk) Kawardha    

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल भेंट-मुलाकात की कड़ी में आज कबीरधाम जिले के पंडरिया विधानसभा क्षेत्र के दौरे पर थे। इस दौरान पहले वे इंदौरी पहुंचे फिर ग्राम कुकदूर में लोगों से भेंट-मुलाकात की। कुकदूर में मुख्यमंत्री के पहुंचने से पहले ही हजारों की संख्या में ग्रामीण अपने मुखिया से मिलने कार्यक्रम स्थल पहुंच चुके थे, जहां उनके चेहरों पर प्रदेश के मुखिया से मिलने और उनके सामने शासकीय योजनाओं को लेकर अपनी बात रखने की उत्सुकता देखने को मिली। जब मुख्यमंत्री कार्यक्रम स्थल पहुंचे तो जनता का उत्साह देखने को मिला। इस दौरान वन मंत्री श्री मोहम्मद अकबर, पंडरिया विधायक श्रीमती ममता चंद्राकर विशेष तौर पर मौजूद रहे।

वहीं भेंट-मुलाकात के दौरान ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री को बताया कि बीते पौने चार साल के बीच लागू शासकीय योजनाओं ने उनकी जिंदगी की तस्वीर बदलने का काम किया है। ग्राम लालपुर के ग्रामीण सुरेंद्र कुमार ने बताया कि गोधन न्याय योजना के अंतर्गत उन्होंने 470 क्विंटल गोबर बेचा, जिससे उन्हें 94 हजार रुपये मिले, इससे किश्त में ट्रैक्टर खरीदा। अब वे ट्रैक्टर से दूसरे खेतों की जुताई कर अच्छी आय अर्जित कर रहे हैं।

भेंट-मुलाकात अभियान के लिए पंडरिया विधानसभा के कुकदूर पहुंचने पर मुख्यमंत्री सबसे पहले प्राचीन बूढ़ी माई मंदिर पहुंचे और माता के दर्शन कर बूढ़ी माई से छत्तीसगढ़ प्रदेशवासियों की सुख-समृद्धि और खुशहाली की प्रार्थना की। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने बूढ़ी माई मंदिर परिसर में नीम का पौधा भी लगाया। आगर नदी के तट पर स्थित बूढ़ी माई मंदिर का अपना ऐतिहासिक और पौराणिक महत्व है। बताया जाता है कि सच्चे दिल से मन्नत मांगने वालों की मुराद माता अवश्य पूरा करती हैं। यहां मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के साथ भजन मंडली के सदस्यों ने सेल्फी भी ली। इस अवसर पर वन मंत्री श्री मोहम्मद अकबर और विधायक श्रीमती ममता चंद्राकर भी उपस्थित रहीं।

आजीविका के नए अवसर बने :
कुकदूर में भेंट-मुलाकात कार्यक्रम की शुरुआत मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ महतारी की पूजा-अर्चना करते हुए दीप प्रज्वलन कर की। इस दौरान शिव शंभू महिला स्वयं समूह की सदस्य बैगा जनजातीय समूह की महिलाओं और ग्राम कुकदूर के सरपंच ने मुख्यमंत्री को विशेष पगड़ी “फेटा” पहना कर स्वागत किया। इसके बाद प्रदेश के मुखिया ने भेंट-मुलाकात के लिए पहुंचे क्षेत्रीय ग्रामीणों से सीधे संवाद किया। मुख्यमंत्री ने आमजनता से शासकीय योजनाओं से मिल रहे लाभ को लेकर जानकारी ली। वहीं इन योजनाओं से ग्रामीणों की जिंदगी में आए बदलाव के बारे में जानना चाहा।

इस दौरान ग्राम लालपुर के ग्रामीण श्री सुरेंद्र कुमार ने बताया कि छत्तीसगढ़ शासन द्वारा लगभग तीन साल पहले लागू गोधन न्याय योजना के अंतर्गत उन्होंने 470 क्विंटल गोबर बेचा, जिससे मिली राशि से श्री सुरेन्द्र कुमार ने किश्त में ट्रैक्टर खरीदा। अब वे ट्रैक्टर से दूसरे खेतों की जुताई कर अधिक आय अर्जित कर रहे हैं। वहीं आदर्श गोठान से जुड़ीं नारी शक्ति स्व-सहायता समूह की महिला सदस्य ने बताया कि वहां उन्होंने 466 क्विंटल गोबर बेचा, जिससे उन्होंने 2 लाख रुपये अर्जित किये। इस राशि को लघु उद्योग स्थापित करने में उपयोग किया गया। समूह की महिलाएं अगरबत्ती, पॉपकॉर्न बनाने का काम करती हैं। साथ ही उक्त महिला सदस्य ने अपना किराना दुकान भी खोला है।

यहां भेंट-मुलाकात के दौरान मुख्यमंत्री ने पूछा कि वर्मी कम्पोस्ट का उपयोग कौन खेत में कर रहा है! इस पर किसान श्री रमाकांत शुक्ला ने बताया कि उनके खेत में वर्मी कम्पोस्ट का उपयोग किया गया है। पिछले साल 300 क्विंटल गन्ना उपज हुई थी, अब 500 क्विंटल होने की उम्मीद है। उनकी बात सुनकर मुख्यमंत्री ने सभी किसानों से वर्मी कम्पोस्ट का उपयोग करने की सलाह दी। जबकि शासकीय योजना से स्वास्थ्य क्षेत्र में सुधार पर ग्राम पोलगी के हितग्राही ने बताया कि हाट बाजार क्लीनिक योजना के अंतगर्त उनके गांव में हर शनिवार मोबाइल मेडिकल यूनिट पहुंचता है, साथ डॉक्टर आते हैं और बेहतर इलाज करते हैं। ग्रामीणों के मन में सरकार के प्रति संतुष्टि के भाव देखकर मुख्यमंत्री ने ग्रामीणों से शासकीय योजनाओं का ज्यादा-से-ज्यादा लाभ लेने की अपील की।

Author Profile

Priyanka (Media Desk)
Priyanka (Media Desk)प्रियंका (Media Desk)
"जय जोहार" आशा करती हूँ हमारा प्रयास "गोंडवाना एक्सप्रेस" आदिवासी समाज के विकास और विश्व प्रचार-प्रसार में क्रांति लाएगा, इंटरनेट के माध्यम से अमेरिका, यूरोप आदि देशो के लोग और हमारे भारत की नवनीतम खबरे, हमारे खान-पान, लोक नृत्य-गीत, कला और संस्कृति आदि के बारे में जानेगे और भारत की विभन्न जगहों के साथ साथ आदिवासी अंचलो का भी प्रवास करने अवश्य आएंगे।