फर्जी वसीयत के आधार पर जमीन बेची गई बन रही आलीशान कालोनी भूमि स्वामी द्वारा न्यायालय में दावा पेश

बलौदाबाजार (एजेंसी) | फर्जी वसीयत के आधार पर जमीन के वास्तविक वारिस को बेदखल कर बिल्डर्स के पास जमीन बेच देने का एक बड़ा फर्जीवाड़ा घटना नगर में हुआ है। जिसके संबंध में जमीन का वास्तविक स्वामी द्वारा जिला न्यायालय में मामला पेश कर फर्जी वसीयत ग्रहिता द्वारा की गई बिल्डर्स को रजिस्ट्री सहित उक्त जमीन पर बिल्डर द्वारा निर्मित कॉलोनी में प्लाट लेने वाले सभी खरीददारों के रजिस्ट्री को बिना अधिकारिता के होने से निरस्त कर कॉलोनी निर्माण में रोक लगाने की मांग की गई है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार करीब 55 वर्ष पूर्व पुरानी बस्ती बलौदाबाजार में वजीर खान नाम का एक व्यक्ति रहता था। जिनकी चार संतान महबूब बी, बदरुद्दीन, खैरून बी एवं अब्दुल जब्बार थे। जिसमें से महबूब बी को छोड़कर शेष तीनों की कोई संतान नहीं है। बबला खान महबूब बी का एक मात्र संतान होने से वजीर खान के परिवार का आज एक मात्र जीवित वारिस है। बबला खान ही अपने मामा अब्दुल एवं मामी इमामुन निशा का देखभाल करता था।




जिसके कारण अब्दुल अपने जीवन काल में ही अपने हिस्से की जमीन व मकान को निःसंतान होने से बबला खान के नाम पर वसीयत कर दिया था। अब्दुल की मृत्यु अक्टूबर 2012 में होने के करीब 2 माह के अंदर ही उसकी पत्नी इमामुन निशा की भी मृत्यु हो गई। नवाब खां रायपुर द्वारा रियाजुल खां रायपुर एवं कमरुद्दीन खां सिकंदराबाद सहित नगर के दो प्रतिष्ठित बिल्डर्स के सहयोग से अब्दुल की मृत्यु पश्चात इमामुन निशा जो कि भारी शरीर, वृद्धावस्था एवं बीमारी के कारण मानसिक एवं शारीरिक रूप से कमजोर हो गई थी, जिसका नाजायज लाभ लेते हुए फर्जी वसीयत के माध्यम से अपने नाम पर दर्ज कराकर उक्त दोनों बिल्डर्स को जमीन बिक्री कर दी गई है।

जिसमें उक्त दोनों बिल्डर्स द्वारा एक प्रतिष्ठित कालोनी का निर्माण कराया जा रहा है, जो कि स्थानीय कलेक्टर कार्यालय से महज 100 मीटर की दूरी पर पंचशील नगर में स्थित है। जिसकी जानकारी बबला खान जो कि विगत 40 वर्षो से दुर्ग में रहता है को होने पर उसके द्वारा तहसील के नामांतरण आदेश को राजस्व मंडल के समक्ष पुनरीक्षण याचिका पेश कर चुनौती देने पर राजस्व मंडल द्वारा अनुविभागीय अधिकारी बलौदाबाजार को प्रकरण रिमांड कर बबला खान के पक्ष को सुनकर पुनः गुणदोष के आधार पर आदेश पारित करने हेतु निर्देशित किया गया है।

परंतु अनुविभागीय अधिकारी बलौदाबाजार द्वारा विगत 1 वर्ष से वसीहत ग्रहिता नवाब खां सहित दोनों बिल्डर्स के अनुपस्थित होने के बाद भी कोई आदेश पारित नहीं करने तथा कालोनी निर्माण का कार्य लगातार तीव्र गति से चालू रहने के कारण से बबला खान द्वारा अपने अधिवक्ता सतीशचन्द्र श्रीवास्तव के माध्यम से वसीयत ग्रहिता नवाब खां, दोनों सहमति कर्ता रियाजुल व कमरुद्दीन एवं दोनों प्रतिष्ठित बिल्डर्स सहित उक्त कालोनी में प्लाट खरीदने वाले सभी खरीददार के विरूद्ध जिला न्यायालय में वाद पेश किया गया है तथा बबला खान द्वारा यह भी बताया गया है कि उसके द्वारा नवाब खां, रियाजुल खान एवं कमरूद्दीन सहित दोनों बिल्डर्स के विरूद्ध कुटरचना कर फर्जी वसीयतनामा तैयार करने के कारण फौजदारी मामला पेश करने तथा अपने स्वामित्व की जमीन में दोनों बिल्डर्स द्वारा अवैध कालोनी निर्माण करने की शिकायत ” रेरा ” में कर दोनों बिल्डर्स का ” रेरा ” द्वारा किया गया पंजीयन को निरस्त कराने की कार्यवाही किया जाना बताया गया है। जिसकी जानकारी उक्त कालोनी में प्लाट खरीदने वाले लोगों को होने पर उनमें भारी आक्रोश है तथा वे स्वयं बिल्डर्स के खिलाफ कानूनी कार्यवाही करने की मनास्थिति बना रहे हैं। बबला खान ने यह भी बताया कि राजस्व मंडल द्वारा पारित आदेश के बाद से उसे प्रकरण वापस लेने के संबंध में कई लोगों से धमकियां मिल रही है, जिससे उन्हें जानमाल का खतरा है।



Leave a Reply