Politics

CDS रावत, दुर्घटना में शहीद सैन्य कर्मियों और दिवंगत नेताओं को श्रद्धांजलि देने के बाद स्थगित हुई बैठक

छत्तीसगढ़ विधानसभा का शीतकालीन सत्र का पहला दिन दिवंगत सैन्य कर्मियों और नेताओं की स्मृतियों के नाम रहा। सदन ने हेलिकॉप्टर क्रैश में शहीद हुए चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और 11 अन्य सैन्य कर्मियों के साथ मानसून सत्र से इस सत्र के बीच दिवंगत हुए जनप्रतिनिधियों और पूर्व सांसदो-विधायकों को श्रद्धांजलि दी। इसके बाद सत्र की कार्यवाही मंगलवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई।

सुबह सभागार में पहुंचते ही विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत को जन्मदिन की बधाई दी। औपचारिक शुरुआत के बाद विधानसभा अध्यक्ष डॉ. महंत ने खैरागढ़ विधायक देवव्रत सिंह, पूर्व सांसद गोंदिल प्रसाद अनुरागी, पूर्व मंत्री राजिंदर पाल सिंह भाटिया, पूर्व संसदीय सचिव युद्धवीर सिंह जूदेव, अविभाजित मध्य प्रदेश में मंत्री रहे मूलचंद खंडेलवाल और अविभाजित मध्य प्रदेश में विधायक रहे मनुराम कच्छ के निधन का उल्लेख किया। उन्होंने 8 अक्टूबर को हेलिकॉप्टर दुर्घटना में शहीद हुए देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और 11 अन्य सैन्य कर्मियों की सेवाओं का उल्लेख करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने देवव्रत सिंह से अपनी बात शुरू करते हुए सभी दिवंगत नेताओं के साथ अपनी स्मृतियां साझा कीं। उनके मानवीय गुणों और क्षमताओं का उल्लेख किया। जनरल बिपिन रावत के निधन को उन्होंने देश के लिए अपूर्णीय क्षति बताया।

नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने श्रद्धांजलि व्यक्तव्य में गोंदिल प्रसाद अनुरागी, युद्धवीर सिंह जूदेव, राजिंदर पाल सिंह भाटिया और मूलचंद खंडेलवाल की स्मृतियों पर बात की। उन्होंने कहा, जनरल बिपिन रावत ने एक साधारण गांव से निकलकर देश के सर्वोच्च सैन्य अधिकारी तक का सफर तय किया। उनका जाना एक बड़ा नुकसान है।

सभी दलों के विधायकों ने बारी-बारी से अपनी शाब्दिक श्रद्धांजलि दी। बाद में विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत ने कहा, दिवंगतों के सम्मान में सदन की कार्यवाही मंगलवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित की जाती है।

Leave a Reply