Dantewada

ग्रामीणों का जवानों पर बच्चों को करंट लगाने का आरोप, नक्सल मामले में करते हैं प्रताड़ित

छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले के धुर नक्सल प्रभावित बेचापाल गांव में पुलिस कैंप के विरोध में सैकड़ों ग्रामीण आंदोलन में बैठे हुए हैं। पिछले 5 महीने से ग्रामीणों का आंदोलन लगातार जारी है। ग्रामीणों का आरोप है कि बिना ग्राम सभा के इलाके में पुलिस कैंप खोल दिया गया है। पक्की सड़क बनाई जा रही है। नक्सल मामले में लोगों को परेशान किया जा रहा है। ग्रामीणों ने जवानों पर आरोप लगाते हुए कहा कि गांव के कुछ स्कूली बच्चों को जवानों ने नक्सलियों तक सामान पहुंचाने वाले सप्लायर बताकर करंट लगा प्रताड़ित किया है। जिसका ग्रामीण विरोध कर रहे हैं।

ग्रामीणों ने कहा कि हम इतने दिनों से आंदोलन में बैठे हैं, लेकिन राज्य सरकार हमारी नहीं सुन रही है। सरकार के नेता दिल्ली में हुए किसान आंदोलन का समर्थन करते हैं। हमारी परेशानी उनको नजर नहीं आती। क्षेत्रीय विधायक विक्रम मंडावी भी आंदोलन स्थल आकर गए। जिन्होंने सरकार से बातकर 15 दिनों के अंदर मांग पूरी करने का आश्वासन दिया था। लेकिन, अब तक कुछ नहीं हुआ। ग्रामीणों ने सरकार और स्थानीय प्रशासन को सचेत किया है कि यदि मांगे पूरी नहीं की जाती है तो वे भविष्य में एक बड़ा आंदोलन करेंगे। सभी आदिवासी मिलकर विधायक बंगला और प्रशासन को घेरेंगे।

आरोप- सड़क बनाकर लोहा ले जाना चाहती है सरकार
ग्रामीणों ने कहा कि हमें पता है, मिरतुर से जो सड़क निर्माण का काम किया जा रहा है। इससे हमारा भला नहीं होगा। सरकार अपने फायदे के लिए बना रही है। भविष्य में बैलाडीला पहाड़ में डिपॉजिट नंबर 13 की खदान से लोहा ले जाया जाएगा। पहाड़ को खोद कर प्रकृति को नुकसान पहुंचाया जाएगा। एक बड़ी रणनीति के तहत यहां काम किया जा रहा है। सरकार की इस मंशा को हम कामयाब होने नहीं देंगे। गांव के लोगों के खेतों से सड़क निर्माण सरकार करवा रही है।

Leave a Reply