Chhattisgarh

सुकमा जिले के अंदरुनी ग्रामों में शिविर के माध्यम से किया जा रहा टीकाकरण : 70 वर्षीय गंगी और 57 वर्षीय हिड़मे ने लगवाया कोरोना का पहला टीका

कोविड-19 के संक्रमण की रोकथाम एवं नियंत्रण के लिए पूरे देश एवं प्रदेश सहित सुकमा जिले में टीकाकरण अभियान तेजी से चलाया जा रहा है। टीकाकरण के प्रति जिले के दूरस्थ अंचलों के लोगों में भी उत्साह है। सुकमा जिले के ग्राम पंचायतों में स्वास्थ्य अमलों के लगातार प्रचार-प्रसार से प्रोत्साहित होकर काफी संख्या में ग्रामीण आगे आकर टीकाकरण अभियान में भाग ले रहे हैं। सुकमा जिले के फुलबगड़ी में आयोजित टीकाकरण शिविर में 70 वर्षीय श्रीमती गंगी ने कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए कोविड टीका का पहला डोज लगवाया। उन्होंने बड़े उत्साह से खुद टीकाकरण करवाया और गांव की अन्य मित्रों को भी प्रोत्साहित किया। पहले उन्हें टीकाकरण करवाने में घबराहट हो रही थी किन्तु स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा टीकाकरण का लाभ बताने के बाद उनमें हिम्मत आई। टीकाकरण से संक्रमण का खतरा कम हो जाने की बात जानकर गंगी तुरंत ही तैयार हो गई। उन्होंने अपनी महिला मित्र श्रीमती हिड़में को भी टीका लगवाने के लिए हौसला बढ़ाया। 57 वर्षीय हिड़में ने भी बढ़ चढ़कर कोरोना का टीका लगवाया।

दोनों महिलाओं ने कहा कि टीका लगाकर वे स्वयं को सुरक्षित महसूस कर रही है। उन्हें कोविड टीका के दूसरे डोज लगने का इंतजार है, जिससे वे कोरोना संक्रमण के प्रति खुद को और अपने परिवार जनों को सुरक्षित कर सकें।

ग्राम पंचायत फुलबगड़ी संवेदनशील क्षेत्र में आता है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा यहां विशेष शिविर लगाकर ग्रामीणों का टीकाकरण किया जा रहा है। फुलबगड़ी के 45 की उम्र से अधिक के 252 ग्रामीणों को पहला डोज एवं 17 लोगों को कोविड टीका का दोनों डोज लगाया जा चुका है। ज्ञात हो कि वर्तमान समय में कोविड-19 के बढ़ते प्रकरणों की संख्या को देखते हुए जिले में लगातार टीकाकरण किया जा रहा है तथा इसके लिए लोगों को जागरूक करने का हरसंभव प्रयास किया जा रहा है। जिला प्रशासन के अधिकारियों  द्वारा निरंतर अपील की जा रही है कि वैक्सिनेशन कराकर स्वयं को तथा परिवार को सुरक्षित रखें, कोविड के संक्रमण से बचने में टीकाकरण बहुत मददगार है इसलिए बिना डर और झिझक के आवश्यक रूप से टीका लगवाएं।

Leave a Reply