नोटबंदी पर पहली बार दिया विपक्ष को करारा जवाब, बिस्तरों-तकियों में छिपे 85 पैसा बाहर लाने की नोटबंदी - मोदी - गोंडवाना एक्सप्रेस
gondwana express logo

नोटबंदी पर पहली बार दिया विपक्ष को करारा जवाब, बिस्तरों-तकियों में छिपे 85 पैसा बाहर लाने की नोटबंदी – मोदी

बिलासपुर (एजेंसी) |  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को पहली बार बिलासपुर में नोटबंदी पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी समेत सभी विरोधियों को करारा जवाब दिया और कहा कि फर्जी कंपनियों और फर्जी कारोबार का भांडा नोटबंदी के कारण ही फूटा। बिना नाम लिए मोदी ने कहा कि रुपयों की हेराफेरी करने के कारण मां-बेटे को जमानत लेनी पड़ी है। हमलावर होते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि जो लोग फर्जी कारोबार और रुपयों की हेराफेरी के लिए जमानत पर हैं, वे हमें ईमानदारी का प्रमाण पत्र दे रहे हैं!




प्रधानमंत्री ने सोमवार को बिलासपुर में भारतीय जनता पार्टी की विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि भाजपा देश और छत्तीसगढ़ प्रदेश को विकास की ऊंचाई पर ले जाने प्रतिबद्ध है। इसीलिए हमने विकास के मंत्र को अपनाया और तेज गति से चहुंमुखी विकास को अपना लक्ष्य बनाया। मोदी ने कहा कि चुनाव पहले भी होते रहे हैं, पर वे चुनाव जाति-बिरादरी और परिवार के नाम पर ही लड़े जाते रहे। मेरे-तेरे की लड़ाई में अमीर-गरीब की खाई बढ़ गई और गांव-गरीब को उनके अधिकारों से वंचित कर दिया गया लेकिन भाजपा ने तय किया कि अगर इस देश को विकास की ऊंचाई पर ले जाना है तो सारे भेदभाव से उबरकर काम करना होगा। उन्होंने कहा कि आज भारत का गरीब-से-गरीब आदमी भी जागरूक है और विकास चाहता है। वह अपनी आने वाली पीढ़ी को गरीबी के अभिशाप से मुक्त करना  चाहता है। भाजपा इन गरीब परिवारों की इसी आकांक्षा की पूर्ति कर गरीबी मिटाने के संकल्प के साथ-काम कर रही है।

नोटबंदी पर पहली बार दिया विपक्ष को करारा जवाब

अपने भाषण में प्रधानमंत्री ने बिलासपुर के सभा में नोटबंदी पर मंच से पहली बार विपक्ष को करारा जवाब भी दिया। उन्होंने कहा कि एक परिवार की तीसरी पीढ़ी के प्रधानमंत्री ने कहा था कि दिल्ली से निकला एक रुपया लोगों तक पहुंचते-पहुंचते 15 पैसे रह जाता है। उन्होंने पूछा, यह कौन-सा पंजा था  जो एक रुपए को 15 पैसे में बदल देता था? वह कैसा पंजा था जो रुपए को घिस-घिसकर 15 पैसे बना देता था? भाजपा की केन्द्र सरकार ने उन्हीं 85 पैसों को नोटबंदी के जरिए बाहर निकाला और मां-बेटे को जमानत लेनी पड़ी। आज वे लोग हमें ईमानदारी का सर्टीफिकेट दे रहे हैं! बिस्तरों-तकियों में छिपे ये 85 पैसे ही हमने नोटबंदी करके निकाले।

घोषणा पत्र को लेकर साधा निशाना

कांग्रेस के चुनाव घोषणा पत्र की चर्चा करते हुए श्री मोदी ने कांग्रेस नेतृत्व पर कटाक्ष किया। इसे जारी करते समय नामदार को सवा सौ बार सर-सर कहने पर चुटकी लेते हुए कहा कि इससे स्पष्ट हो जाता है कि कांग्रेस के लिए छत्तीसगढ़ का कम और नामदार का ज्यादा महत्व है। भाजपा के संकल्प पत्र की चर्चा कर श्री मोदी ने कहा कि छत्तीसगढ़ के विकास की नई योजनाएं स्वीकार हो रही हैंं। लघु व सीमांत कृषकों के लिए पेंशन का संकल्प व्यक्त करने पर प्रधानमंत्री ने प्रदेश भाजपा को बधाई दी।



Leave a Reply