Education & Jobs

तकनीकी शिक्षा: इंजीनियरिंग की 3605 सीटें घटीं, सिर्फ 12 हजार छात्रों को प्रवेश मिलेगा

तकनीकी शिक्षा से जुड़े राज्य के इंजीनियरिंग कॉलेजों में इस बार बारह हजार छात्रों को प्रवेश मिलेगा। पिछली बार की तुलना में यहां 3605 सीटें कम हुई है। इसी तरह पॉलिटेक्निक में भी 1457 सीटें कम हुई है। इस बार पॉलिटेक्निक कॉलेजों में 9099 सीटों पर एडमिशन होगा। तकनीकी शिक्षा संचालनालय से शिक्षा सत्र 2020-21 में प्रवेश के लिए इंजीनियरिंग व पॉलिटेक्निक कॉलेजों की सूची तैयार कर ली गई है। सितंबर के पहले सप्ताह से एडमिशन के लिए आवेदन की प्रक्रिया शुरू हो सकती है।

इससे पहले, पिछले साल राज्य के कुल 38 इंजीनियरिंग कॉलेज में 15626 सीटें थे। इसमें से तीन गवनर्मेट इंजीनियरिंग कॉलेज, एक सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ प्लास्टिक इंजीनियरिंग और एक सरगुजा विवि से जुड़े एक कॉलेज में प्रवेश हुआ। जबकि 33 प्राइवेट कॉलेज थे। इसमें से इस साल 5 प्राइवेट कॉलेजों में एडमिशन नहीं होगा। इसलिए सीटें कम हुई है। सूत्रों के मुताबिक इस बार इंजीनियरिंग में कुल 12021 सीटों पर एडमिशन दिया जाएगा।

शिक्षाविदों ने बताया कि पिछले कुछ करीब पांच हजार छात्रों ने इंजीनियरिंग में प्रवेश लिया। लेकिन इस बार इंजीनियरिंग में भी ज्यादा सीटों पर प्रवेश होने की संभावना है। इस बार दाखिले नए फार्मूले के आधार पर होगा। इसके तहत एंट्रेंस टेस्ट आयोजित नहीं किया जाएगा। बारहवीं में मिले नंबरों के आधार पर सीटें आबंटित होगी। इससे यह संभावना है कि पिछले बरसों की तुलना में इस बार प्रवेश के लिए छात्रों की दिलचस्पी बढ़ेगी।

मैकेनिकल व सिविल की सीटें हुई कम

शिक्षाविदों ने बताया कि इस बार इंजीनियरिंग की करीब 12 हजार सीटों पर प्रवेश होगा। पांच कॉलेजों में प्रवेश नहीं होने से कई ब्रांच की सीटें कम हुई है। मैकेनिकल में इस बार 2311 सीटों पर प्रवेश होगा। पिछली बार 3332 सीटें थी। इस तरह से 1021 सीटें कम हुई है। इसी तरह सिविल में इस बार 2300 छात्रों को प्रवेश मिलेगा। इस ब्रांच की 804 सीटें कम हुई है। इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग, कंप्यूटर साइंस समेत अन्य ब्रांच में भी सीटें कम हुई है।

इस बार 50 पॉलिटेक्निक कॉलेजों में होगा प्रवेश

पिछले साल की तुलना में इस बार पॉलिटेक्निक की सीटें कम हुई है। इस बार 50 कॉलेजों में एडमिशन होगा। इस बार चार प्राइवेट कॉलेजों में इस बार दाखिला नहीं होगा। शिक्षाविदों ने बताया कि पिछली बार 54 पॉलिटेक्निक कॉलेजों में प्रवेश हुआ था। इसमें 32 सरकारी व 22 प्राइवेट कॉलेज थे। इस तरह से इस बार 18 प्राइवेट कॉलेजों में एडमिशन होगा। पिछली बार करीब 40 प्रतिशत सीटों पर प्रवेश हुआ था। इस बार पॉलिटेक्निक में भी ज्यादा से ज्यादा सीटों पर प्रवेश की संभावना है।

Leave a Reply