raman singh - गोंडवाना एक्सप्रेस
gondwana express logo

टैग: raman singh

सारकेगुड़ा मुठभेड़ मामला: पूर्व सीएम रमन सिंह, आईबी चीफ, बस्तर आईजी सहित अन्य के खिलाफ FIR दर्ज कराने थाने पहुंचे ग्रामीण

सारकेगुड़ा मुठभेड़ मामला: पूर्व सीएम रमन सिंह, आईबी चीफ, बस्तर आईजी सहित अन्य के खिलाफ FIR दर्ज कराने थाने पहुंचे ग्रामीण

politics, छत्तीसगढ़
बीजापुर (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ के बीजापुर में शुक्रवार को पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह सहित तत्कालीन अधिकारी व अन्य जवानों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने सैकड़ों की संख्या में ग्रामीण बासागुड़ा थाने के बाहर एकत्र हो गए हैं। यह ग्रामीण सारकेगुड़ा फर्जी मुठभेड़ मामले में इन सभी के ऊपर एफआईआर दर्ज करने की मांग कर रहे हैं। ग्रामीण थाने के बाहर ही धरने पर बैठ गए हैं और भजन गा रहे हैं। वहीं पुलिस का कहना है कि शासन से निर्देश मिलने के बाद ही इस संबंध में आगे कार्रवाई होगी। पुलिस बोली शासन से निर्देश के बाद ही आगे कार्रवाई सारकेगुड़ा मुठभेड़ मामले में ग्रामीण लगातार कार्रवाई की मांग रहे हैं। न्यायिक जांच आयोग की रिपोर्ट आने के बाद अब ग्रामीण शुक्रवार को सामाजिक कार्यकर्ता हिमांशु कुमार और सोनी सोढ़ी के साथ सैकड़ों की संख्या में ग्रामीण बासागुड़ा थाने पहुंच गए। वहां पर ग्रामीण तात्कालीन सीएम रमन सिंह, आ
रायपुर: पूर्व सीएम डॉ रमन और उनके परिवार की सुरक्षा में कटौती, मंत्री टीएस बोले- हम केंद्र से सीख रहे

रायपुर: पूर्व सीएम डॉ रमन और उनके परिवार की सुरक्षा में कटौती, मंत्री टीएस बोले- हम केंद्र से सीख रहे

politics, छत्तीसगढ़
रायपुर (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह उनके बेटे व पूर्व सांसद अभिषेक सिंह और उनकी पत्नी वीणा सिंह की सुरक्षा में कटौती की गई है। डॉ रमन सिंह और अभिषेक सिंह को पहले जेड प्लस सिक्योरिटी प्राप्त थी, अब इसे जेड सुरक्षा कर दिया गया है। वीणा सिंह की जेड कैटेगरी की सुरक्षा को एक्स कैटेगरी का कर दिया गया है। सरकार के इस फैसले को अब केंद्र में गांधी परिवार की सुरक्षा में कटौती से जोड़कर देखा जा रहा है। छत्तीसगढ़ में वर्तमान में कांग्रेस की सरकार है। पत्रकारों से चर्चा के दौरान बुधवार को मंत्री टीएस सिंह देव ने कहा कि केंद्र सरकार मानती है कि देश में सुरक्षा का बहुत अच्छा वातारवण है, केंद्र ने भी महसूस किया है कि लोगों को अब वैसी सुरक्षा की जरुरत नहीं, खुशहाल सुरक्षित देश है, दिल्ली जो रास्ता दिखा रहा है हम उसी को अपना रहे हैं। डॉ रमन को फर्क नहीं पड़ता सुरक्षा में कटौती
शीत सत्र: रमन बाेले-ऑटोमोबाइल ठेकेदार को गुड़ का ठेका, क्या डीजल डालकर बेचेगा, मंत्री का जवाब- केंद्र की एजेंसी से ले रहे; हंगामा

शीत सत्र: रमन बाेले-ऑटोमोबाइल ठेकेदार को गुड़ का ठेका, क्या डीजल डालकर बेचेगा, मंत्री का जवाब- केंद्र की एजेंसी से ले रहे; हंगामा

politics, छत्तीसगढ़
रायपुर (एजेंसी) | पीडीएस के तहत गुड़ खरीदी पर बुधवार को विधानसभा में जमकर हंगामा हुआ। बस्तर के आदिवासियों को बांटे जाने वाले गुड़ी की सप्लाई एक ऑटोमोबाइल कंपनी के संचालक को दिए जाने को लेकर भाजपा विधायकों ने आपत्ति जताते हुए ठेका निरस्त करने की मांग की। खाद्य मंत्री ने ठेका प्रक्रिया नाफेड से कराने की बात कही। मंत्री ने कहा कि पहले भी केन्द्र की एजेंसी से खरीदी होती रही है। हम ठेका कैसे रद्द कर सकते हैं। इस पर जमकर हंगामा करने के बाद भाजपा विधायकों ने सदन से वाकआउट कर दिया। डॉ. रमन सिंह, नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक और अजय चंद्राकर ने ध्यानाकर्षण के जरिए कहा कि मधुर योजना के  तहत प्रदेश के बाहर से गुड़ मंगाए जाने पर राज्य के उत्पादकाें को नुकसान उठाना पड़ेगा। नाफेड से गुड़ खरीदे जाने पर राज्य सरकार को 106 करोड़ का नुकसान होगा। उन्होंने इस टेंडर को रद्द कर राज्य के उत्पादकों से गुड़ खरीदे
धान खरीदी: डॉ रमन- किसानों से विश्वासघात स्वीकार्य नहीं, मुख्यमंत्री-आपका भूपेश 2500 रु. समर्थन मूल्य दिलवाएगा

धान खरीदी: डॉ रमन- किसानों से विश्वासघात स्वीकार्य नहीं, मुख्यमंत्री-आपका भूपेश 2500 रु. समर्थन मूल्य दिलवाएगा

politics, छत्तीसगढ़
रायपुर (एजेंसी) | धान के समर्थन मूल्य पर छत्तीसगढ़ में सियासी ड्रामा नहीं थम रहा। इसे लेकर असमंजस की स्थिति है कि किसानों से 2500 रुपए में समर्थन मूल्य पर धान लिया जाएगा या नहीं। मंगलवार को सत्ता और विपक्ष के बड़े नेता ट्वीटर पर भिड़ते दिखे। पहले भाजपा नेता और पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन ने ट्वीट में लिखा कि झूठे वादों और खोखली कमेटियों का क्या निष्कर्ष निकलता है वह तो जनता शराबबंदी के वादे पर भी देख चुकी है, अब किसानों के साथ पुनः यही विश्वासघात स्वीकार्य नहीं है। कुछ देर बार मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जवाबी हमला करते हुए ट्वीटर पर लिखा- किसान भाई ध्यान रखें, भ्रम में न आएँ। आपका भूपेश 2500 रुपए प्रति क्विंटल ही धान का मूल्य दिलवाएगा। कैसे कैसे ये मंजर सामने आने लगे "नान" वाले "धान" पर सवाल उठाने लगे वादा किया है किसानों से, हर हाल में निभायेंगे "पनामा" नहीं किसानों की "जेब" भरकर दिखाय
राशन दुकान पर राजनीति: डॉ रमन बोले, ‘राशन दुकानों को तिरंगे के रंग में रंगना राजनीतिकरण’, सीएम भूपेश बोले, ‘ईश्वर सद्बुध्दि दे’

राशन दुकान पर राजनीति: डॉ रमन बोले, ‘राशन दुकानों को तिरंगे के रंग में रंगना राजनीतिकरण’, सीएम भूपेश बोले, ‘ईश्वर सद्बुध्दि दे’

politics, छत्तीसगढ़
रायपुर (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ की सरकारी राशन दुकानों के रंग को लेकर सियासी बयानबाजी शुरू हो गई है। गुरुवार को प्रदेश की कांग्रेस और भाजपा दोनों ही राजनीतिक दल इस मुद्दे पर एक दूसरे पर निशाना साधते दिखे। भारतीय जनता पार्टी के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने कहा कि तिरंगे रंग में दुकानों को रंगना राजनीतिकरण करने का प्रयास है, राशन दुकानों की तिरंगे के रंग में पुताई हो रही है, निश्चित रुप से यह गलत परिपाटी लाने का प्रयास हो रहा है। इस पर ट्विटर के जरिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जवाबी हमला करते हुए भाजपा नेताओं के लिए भगवान से सद्बुध्दी देने की कामना की। तिरंगा इस देश की आन-बान-शान है। तिरंगा न उनको आज़ादी के समय मंज़ूर था और न आज मंज़ूर है। कांग्रेस का विरोध करते करते देश और संविधान का विरोध करने वालों को ईश्वर सद्बुद्धि दे। हे राम! https://t.co/XYJXLXgOFY — Bhupesh Baghe
छत्तीसगढ़: धान के दाम को लेकर केंद्र और राज्य आमने-सामने; मुख्यमंत्री बोले- तो फिर जंग ही सही

छत्तीसगढ़: धान के दाम को लेकर केंद्र और राज्य आमने-सामने; मुख्यमंत्री बोले- तो फिर जंग ही सही

छत्तीसगढ़
रायपुर (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ में धान खरीदी का मुद्दा गरमाता जा रहा है। केंद्र सरकार ने अधिक दर पर सेंट्रल पूल में धान खरीदने से इनकार कर दिया है। हालांकि, राज्य सरकार इसको लेकर केंद्र से पत्राचार भी कर रही है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बुधवार को ट्वीट कर साहिर लुधानवी के शेर के साथ केंद्र सरकार पर निशाना साधा है। दूसरी ओर पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. रमन सिंह ने सीएम बघेेल से पूछा है कि क्या उन्होंने केंद्र सरकार से पूछकर अपने चुनावी घाेषणापत्र में किसानों से वादा किया था। सोशल मीडिया बन रही सवालों-जवाबों के साथ युद्ध का मैदान 2500 रुपए प्रति क्विंटल धान खरीदने काे लेकर राज्य सरकार और केंद्र की सरकार आमने-सामने आ गए हैं। राज्य जहां दाम कम करने के लिए तैयार नहीं है, वहीं केंद्र बढ़े हुए दाम पर उसे लेने के लिए तैयार नहीं है। इसको लेकर राज्य में कांग्रेस और भाजपा न
नान घोटाला व विधायक खरीद-फरोख्त कांड के विरोध में किया प्रदर्शन, पूर्व सीएम डा. रमन सिंह व जोगी का पुतला फुंका, जाेगी के नजदीकी रहे कांग्रेसियों ने प्रदर्शन से बनाई दूरी

नान घोटाला व विधायक खरीद-फरोख्त कांड के विरोध में किया प्रदर्शन, पूर्व सीएम डा. रमन सिंह व जोगी का पुतला फुंका, जाेगी के नजदीकी रहे कांग्रेसियों ने प्रदर्शन से बनाई दूरी

politics
रायपुर (एजेंसी) | प्रदेश कांग्रेस के निर्देश पर रविवार को जिला मुख्यालय के साथ ब्लाक लेवल पर प्रदेश में पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह एवं अजीत जोगी का पुतला दहन कार्यक्रम किया गया। सुबह 11.30 बजे स्टेशन चौक पर स्थित कांग्रेस कार्यालय से रैली निकालकर गांधी चौक पर पहुंचकर पुतला दहन किया। अंतागढ़ उपचुनाव मामले में मंतूराम पवार के शपथ पत्र में दिए बयान और नान भ्रष्टाचार मामले में शिवशंकर भट्ट के बयान में दोनों पूर्व मुख्यमंत्रियों की संलिप्तता सामने आई थी जिसके बाद कांग्रेस ने प्रदेशभर में पुतला दहन किया। दोनों के खिलाफ नारे भी लगाए। इस दौरान कांग्रेसियों ने रमन और अजीत जोगी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है। कार्यक्रम में जिला कांग्रेस कमेटी, युकां, महिला कांगेस, एनएसयूआई, ब्लाक कांग्रेस समेत अन्य प्रकोष्ठों के सदस्य और पदाधिकारी शामिल हुए। रविवार की सुबह कांग्रेस कार्यालय से पुतल
सियासी घमासान: भट्‌ट बोले- राशन घोटाला उजागर किया इसलिए नान का ठीकरा मुझपर फोड़ा; चिंतामणि से 12 घंटे पूछताछ

सियासी घमासान: भट्‌ट बोले- राशन घोटाला उजागर किया इसलिए नान का ठीकरा मुझपर फोड़ा; चिंतामणि से 12 घंटे पूछताछ

politics
रायपुर (एजेंसी) | नान घोटाले के आरोपी शिवशंकर भट्‌ट ने एसआईटी का ऑफर स्वीकार कर लिया है, यानि अब वो सरकारी गवाह बनेंगे। राजधानी में भट्‌ट ने रविवार को प्रेसक्लब में मीडिया से कहा कि पूर्व सीएम डाॅ. रमन सिंह, पूर्व खाद्यमंत्री पुन्नूलाल मोहिले आैर भाजपा नेता लीलाराम भोजवानी नान घोटाले के मास्टरमाइंड हैं। भटट् ने घोटाले को नान के बजाय राशन घोटाला बताते हुए मामले की नए सिरे से जांच की मांग की। भट्‌ट ने कहा कि उन्होंने राशन घोटाला उजागर किया इसलिए नान का ठीकरा उनपर फोड़ा गया। दूसरी ओर शिवशंकर भट्‌ट के शपथ-पत्र के आधार पर नान के लेखाधिकारी चिंतामणि चंद्राकर को हिरासत में लेकर 12 घंटे पूछताछ की गई। ईओडब्ल्यू की टीम ने दुर्ग पुलिस के साथ सुबह करीब 6 बजे उनके घर दबिश दी। चिंतामणि की ओर से घर का दरवाजा नहीं खोला जा रहा था। फिर पुलिस ने आय से अधिक संपत्ति के एक लंबित मामले में राजनांदगांव चलने
नान घोटाला के मुख्य आरोपी भट्‌ट बना सरकारी गवाह, प्रेस कॉन्फ्रेंस में बड़ा खुलासा डॉ रमन को बताया मास्टर माइंड

नान घोटाला के मुख्य आरोपी भट्‌ट बना सरकारी गवाह, प्रेस कॉन्फ्रेंस में बड़ा खुलासा डॉ रमन को बताया मास्टर माइंड

politics
रायपुर (एजेंसी) | नागरिक आपूर्त निगम (नान) घोटोले आरोपी और तत्कालीन मैनेजर शिव शंकर भट्‌ट ने राजधानी में रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की। भट्‌ट ने मीडिया से कहा कि वो इस मामले में सरकारी गवाह बनेंगे। उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह को इस घोटाले का मास्टर माइंट बताया और  भाजपा नेता लीला राम भोजवानी व पूर्व मंत्री पुन्नू लाल मोहले पर भी इस मामाले में भ्रष्ट्राचार के आरोप लगाए। भट्ट का दावा है कि इस मामले में जानबूझकर उन्हें जेल में रखा गया ताकि सच सामने न आए। इस खुलासे के बाद भट्‌ट ने अपनी जान को खतरा बताया। दुर्ग से नान के अफसर रहे चिंतामणि लिए गए हिरासत में पिछले विधानसभा चुनाव के बाद बनी नई कांग्रेस की सरकार ने नान घोटाले की जांच दोबारा शुरू कर वाई। इसके तहत नान के तत्कालीन लेखा अधिकारी चिंतामणि चंद्राकर को पूछताछ के लिए दुर्ग से रायपुर लाया गया है। नान की जांच में सामने आई च
राशन कार्ड घोटाला: नान घोटाले के मुख्य आराेपी ने कहा- पूर्व सीएम रमन के दबाव में बनाए 21 लाख फर्जी राशनकार्ड

राशन कार्ड घोटाला: नान घोटाले के मुख्य आराेपी ने कहा- पूर्व सीएम रमन के दबाव में बनाए 21 लाख फर्जी राशनकार्ड

politics
रायपुर (एजेंसी) | प्रदेश के बहुचर्चित नान घोटाले मामले में नया मोड़ आया है। मुख्य आरोपी तत्कालीन मैनेजर शिव शंकर भट्‌ट ने कोर्ट में धारा 164 के तहत शपथ पत्र दिया है। शपथपत्र में भट्ट ने कहा कि 2013 में 21 लाख फर्जी राशन कार्ड तत्कालीन सीएम और खाद्यमंत्री के दबाव में बनाए गए। इससे सरकार को हर साल करीब 3 हजार करोड़ का नुकसान हुआ। भट्ट ने कहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री डाॅ. रमन सिंह ने अफसरों को 236 करोड़ की क्षतिपूर्ति की गारंटी बिना कैबिनेट के अनुमोदन स्वीकृत कर दी। बकौल भट्ट - पूर्व सीएम ने खुद के प्रभाव का इस्तेमाल करते हुए यह रकम जारी करने का आदेश दिया था। मैंने आपत्ति की तो उन्होंने कह दिया था कि इससे पार्टी को बड़ा फंड मिलेगा। विधानसभा और उसके बाद पंचायत चुनाव के लिए बड़ा खर्च होना है। चाहें तो आप लोगों को पैसे मिलेंगे और अगर काम नहीं किया तो इसके परिणाम भुगतने होंगे। लगभग चार साल