ram mandir - गोंडवाना एक्सप्रेस
gondwana express logo

टैग: ram mandir

अयोध्या का फैसला: सुप्रीम कोर्ट ने वकीलों की तारीफ की, कहा- उनकी दलीलों ने सत्य और न्याय तक पहुंचाने में मदद की

अयोध्या का फैसला: सुप्रीम कोर्ट ने वकीलों की तारीफ की, कहा- उनकी दलीलों ने सत्य और न्याय तक पहुंचाने में मदद की

india
नई दिल्ली (एजेंसी) | सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को अयोध्या मामले में फैसला सुनाते समय पैरवी करने वाले वकीलों की तारीफ की। अदालत ने हिंदू पक्ष के वकील और पूर्व अटार्नी जनरल के परासरन (92), वकील सीएस वैद्यनाथन के साथ मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन को फैसला लिखने में मददगार बताया। अदालत ने कहा- वकीलों की तार्किक बहस से जटिल मुद्दे को समझने में मदद मिली और 1045 पन्नों का फैसला लिखा जा सका। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता में 5 जजों की बेंच ने कहा, “हम बहस की अगुवाई करने वाले के परासरन और राजीव धवन के प्रयासों की सराहना करते हैं। काम के प्रति उनकी ईमानदारी और अदालत में अपने पक्ष में उनकी स्पष्ट दलीलों ने अदालत की सुनवाई को जीवंत बनाए रखा। उनकी वजह से ही सभी पक्ष सत्य और न्याय की खोज में शामिल हुए।” सबरीमला मंदिर मामले में परासरन ने पैरवी की परासरन ने सबरीमला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश
राम जन्म भूमि अयोध्या: छत्तीसगढ़ के एकमात्र कारसेवक जिन्हें गोली लगी, भीख मांगकर अब गुजार रहे जिंदगी

राम जन्म भूमि अयोध्या: छत्तीसगढ़ के एकमात्र कारसेवक जिन्हें गोली लगी, भीख मांगकर अब गुजार रहे जिंदगी

special, छत्तीसगढ़
कोरबा (एजेंसी) | भगवान श्री राम का नाम लेकर कई लोगों ने अपने सियासी करियर में सितारे जोड़ लिए। मगर बहुत से अब भी गुमनामी की जिंदगी ही जी रहे हैं। छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले के सुदूर गांव में एक ऐसा ही शख्स इन दिनों भीख मांगकर जिंदगी बिता रहा है। इनका नाम है गेसराम चौहान। कोरबा जिले की करतला तहसील के ग्राम चचिया के मूलनिवासी हैं। वे छत्तीसगढ़ के ऐसे एक मात्र व्यक्ति हैं जिन्हें 1990 की कारसेवा के दौरान पेट में गोली लगी थी। उसके बाद 1992 की कारसेवा में भी शामिल हुए और लाठियां खाई। गेसराम उन लोगों में शामिल थे, जिन्होंने विवादित ढांचा गिराकर अयोध्या में राम मंदिर बनाने का आंदोलन किया। रो पड़े, पूछा - सच में मंदिर बनने वाला है क्या? गेसराम को जब सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बारे में बताया गया तब 65 साल का यह बुजुर्ग अवाक हो गया। हाथ में पकड़ी लाठी, भिक्षापात्र व झोला गिर पड़ा। भावावेश में वे रोने लग
पीएम मोदी ने कहा- दशकों तक चली न्याय प्रक्रिया खत्म हुई, दुनिया को हमारे जीवंत लोकतंत्र के बारे में पता चला

पीएम मोदी ने कहा- दशकों तक चली न्याय प्रक्रिया खत्म हुई, दुनिया को हमारे जीवंत लोकतंत्र के बारे में पता चला

india
नई दिल्ली (एजेंसी) | अयोध्या विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार शाम राष्ट्र के नाम संबोधन दिया। उन्होंने कहा कि दशकों तक चली न्याय प्रक्रिया आज खत्म हुई। इससे दुनिया को हमारे जीवंत लोकतंत्र के बारे में पता चला है। अयोध्या के फैसले को देश ने खुले दिल से स्वीकार किया। यह विविधता में हमारी एकता है। सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या की विवादित जमीन पर ट्रस्ट के जरिए मंदिर बनाने और मस्जिद के लिए अयोध्या में 5 एकड़ जमीन देने का आदेश दिया है। इससे पहले मोदी ने ट्वीट किया था कि फैसले को किसी की हार या जीत के लिहाज से न देखा जाए। न्याय के मंदिर ने दशकों साल पुराने विवाद को सुलझा दिया है। सभी नागरिकों को राष्ट्र भक्ति की भावना को बनाए रखने पर बल देना चाहिए। मोदी ने कहा, ''सुप्रीम कोर्ट ने महत्वपूर्ण मामले पर फैसला सुनाया, जिसके पीछे सैकड़ों साल का दीर्घका
छत्तीसगढ़: अयोध्या राम जन्म भूमि जमीन विवाद सुलझने के बाद अब भगवान राम के ननिहाल में भी बन रहा भव्य मंदिर

छत्तीसगढ़: अयोध्या राम जन्म भूमि जमीन विवाद सुलझने के बाद अब भगवान राम के ननिहाल में भी बन रहा भव्य मंदिर

special, video, छत्तीसगढ़
रायपुर (एजेंसी) | शनिवार को सुप्रीम कोर्ट ने राम मंदिर के मुद्दे पर फैसला सुना दिया। इसी के साथ राम मंदिर निर्माण का रास्ता साफ हो चुका है। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में भी भगवान राम का भव्य मंदिर बनाया जा रहा है। खास बात यह है कि इसका निर्माण चंदखुरी गांव में हो रहा है। इसे माता कौशल्या का गांव माना गया है, इस तरह भगवान राम के ननिहाल में भी साल 2020 के अंत तक राम मंदिर का काम पूरा कर लिया जाएगा। यहां पहले से ही एक छोटा राम मंदिर था, जिसे करीब 100 साल पहले दक्षिण भारतीय जमीदारों ने बनवाया था। यह था विवाद रायपुर के सांसद रहे रमेश बैस के परिवार के लोगों का इस प्राचीन मंदिर पर मालिकाना हक है। दक्षिण भारतीय जमीदार से अरसे पहले उन्होंने यह जमीन खरीद ली थी। 2019 के लोकसभा चुनावों से ठीक पहले यह बात सामने आई कि मंदिर के पुजारी परिवार से विवाद के चलते मंदिर में वर्षों से ताला लगा हुआ ह
सीएम भूपेश बघेल ने दिल्ली में प्रदर्शन का कार्यक्रम स्थगित किया, अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया

सीएम भूपेश बघेल ने दिल्ली में प्रदर्शन का कार्यक्रम स्थगित किया, अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया

politics
रायपुर (एजेंसी) | सीएम भूपेश बघेल ने अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिये गए फैसले का स्वागत किया है। उन्होंने सभी को फैसले का सम्मान करने की नसीहत दी है। साथ ही उन्होंने केंद्र सरकार के खिलाफ होने वाले प्रदर्शन को भी स्थगित कर दिया है। उन्होंने सभी से शांति और सद्भाव बनाए रखने की अपील भी की है। मीडिया से बात करते हुए सीएम ने कहा, “सबको इसका इंतजार था, न्यायालय ने जो फैसला किया उसका सब सम्मान करते हैं और सभी से अपील करते हैं शांति व सद्भाव बनाए रखें। जो फैसला आया है उसका सभी सम्मान करें।” अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का सम्मान है। pic.twitter.com/ZM5ATtxBCR — Bhupesh Baghel (@bhupeshbaghel) November 9, 2019 वीडियो देखे https://youtu.be/rh5Co3MQKzA बता दे सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को अयोध्या में विवादित जमीन पर राम मंदिर निर्माण का फैसला सुनाया। 5 जजों की संविधा
अयोध्या जन्मभूमि राम: 5-0 से सुप्रीम कोर्ट ने सुनाया फैसला, विवादित जमीन पर ट्रस्ट के जरिए राम मंदिर बनाया जायेगा

अयोध्या जन्मभूमि राम: 5-0 से सुप्रीम कोर्ट ने सुनाया फैसला, विवादित जमीन पर ट्रस्ट के जरिए राम मंदिर बनाया जायेगा

india
नई दिल्ली (एजेंसी) | सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को अयोध्या में विवादित जमीन पर राम मंदिर निर्माण का फैसला सुनाया। 5 जजों की संविधान पीठ ने सुबह 10:30 बजे सर्वसम्मति से अपना फैसला दिया। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि विवादित 2.77 एकड़ जमीन रामलला विराजमान को दी जाए, मंदिर निर्माण के लिए 3 महीने में ट्रस्ट बने और इसकी योजना तैयार की जाए। चीफ जस्टिस ने मस्जिद बनाने के लिए मुस्लिम पक्ष को 5 एकड़ वैकल्पिक जमीन दिए जाने का फैसला सुनाया, जो कि विवादित जमीन की करीब दोगुना है। चीफ जस्टिस ने कहा कि ढहाया गया ढांचा ही भगवान राम का जन्मस्थान है और हिंदुओं की यह आस्था निर्विवादित है। संविधान पीठ द्वारा 45 मिनट तक पढ़े गए 1045 पन्नों के फैसले ने देश के इतिहास के सबसे अहम और एक सदी से ज्यादा पुराने विवाद का अंत कर दिया। चीफ जस्टिस गोगोई, जस्टिस एसए बोबोडे, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, जस्टिस अशोक भूषण, ज
अयोध्या राम जन्मभूमि मामला: सुप्रीम कोर्ट कल 10:30 बजे सुबह सुनाएगा अपना फैसला

अयोध्या राम जन्मभूमि मामला: सुप्रीम कोर्ट कल 10:30 बजे सुबह सुनाएगा अपना फैसला

india
नई दिल्ली (एजेंसी) | सुप्रीम कोर्ट की 5 सदस्यीय संविधान पीठ शनिवार को अयोध्या विवाद पर फैसला सुनाएगी। न्यूज एजेंसी के मुताबिक, अदालत ने इसकी शेड्यूलिंग कर ली है। सुबह 10.30 बजे चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली बेंच फैसला सुना सकती है। बेंच ने 40 दिन तक हिंदू और मुस्लिम पक्ष की दलीलें सुनने के बाद 16 अक्टूबर को फैसला सुरक्षित रख लिया था। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव आरके तिवारी, डीजीपी ओमप्रकाश सिंह समेत कई वरिष्ठ अफसरों से मुलाकात की। इस दौरान चीफ जस्टिस ने अयोध्या केस में फैसला आने से पहले प्रदेश की सुरक्षा तैयारियों को लेकर चर्चा की। संविधान पीठ की अध्यक्षता कर रहे चीफ जस्टिस रंजन गोगोई 17 नवंबर को रिटायर होंगे। प्रशासन ने फोर्स की 100 कंपनियां मांगीं अयोध्या जिले को चार जोन- रेड, येलो, ग्रीन और ब्लू में बांटा गया है। इनमे