dhan kharidi - गोंडवाना एक्सप्रेस
gondwana express logo

टैग: dhan kharidi

मुख्यमंत्री बघेल ने दिया आश्वाशन: हर हाल में खरीदेंगे प्रति एकड़ 15 क्विंटल धान, चाहे समय बढ़ाना पड़े

मुख्यमंत्री बघेल ने दिया आश्वाशन: हर हाल में खरीदेंगे प्रति एकड़ 15 क्विंटल धान, चाहे समय बढ़ाना पड़े

politics, छत्तीसगढ़
रायपुर (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि हर हाल में हर किसान से प्रति एकड़ 15 क्विंटल धान खरीदा जाएगा। इसके लिए चाहे धान खरीदी की अंतिम तारीख का समय बढ़ाना पड़े या किश्तों में धान लिया जाए। मुख्यमंत्री ने मंगलवार की सुबह पुलिस लाइन मैदान में बालोद और बलौदाबाजार जिले के दौरे पर रवाना होने से पहले यह बातें मीडियाकर्मियों से कहीं। https://youtu.be/5xMGzJ2GVSM मुख्यमंत्री ने किसानों से धान खरीदी के संबंध फैलाई जा रही अफवाहों पर ध्यान नहीं देने की अपील करते हुए कहा कि अपवाह वे लोग फैला रहे हैं, जो धान खरीदी में दलाली करते रहे हैं और दूसरे प्रदेशों का धान छत्तीसगढ़ में खपा रहे थे। उन्होंने आगे कहा कि राज्य सरकार ने धान खरीदी की सुचारू और सुव्यवस्थित व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए अनेक कदम उठाए हैं । यदि कोई अधिकारी या कर्मचारी किसानों को परेशान करेंगे, तो उनके विरु
धान खरीदी: अब टोकन से 25 फीसदी ज्यादा धान नहीं बेच पाएंगे किसान, शासन ने आदेश जारी किए

धान खरीदी: अब टोकन से 25 फीसदी ज्यादा धान नहीं बेच पाएंगे किसान, शासन ने आदेश जारी किए

छत्तीसगढ़
दुर्ग (एजेंसी) | धान खरीदी के बीच सरकार ने मंगलवार को एक नया आदेश जारी कर दिया है। इससे किसानों की मुसीबत थोड़ी बढ़ सकती है। सरकार ने किसानों से 25 फीसदी ज्यादा धान खरीदी की व्यवस्था समाप्त कर दी। इस आदेश के हिसाब से ही अब बुधवार से किसानों की धान खरीदी की जाएगी। आज तक तीन जिलों के 182 समितियों में 4 लाख 54 हजार 893 क्विंटल की धान खरीदी की जा चुकी है। प्रदेश सरकार ने एक दिसंबर से धान खरीदी शुरू की है। नए आदेश से आज से ही शुरू हो गई है धान खरीदी जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के अंतर्गत दुर्ग, बालोद और बेमेतरा जिले के खरीदी केंद्रों में यह आदेश बुधवार से लागू किया जाना है। पिछले साल तक कई सालों से धान खरीदी 25 फीसदी ज्यादा लिमिट सिस्टम से की जा रही थी। इसी टोकन में वे शेष 25 प्रतिशत धान की मिंजाई होने के बाद बेच रहे थे। इसको देखते हुए इस बार खाद्य विभाग के अफसरों ने मिलों का मौके पर जाकर सत्
स्थानीय व्यापारियों का धान खरीदने से इंकार, खरीदार नहीं मिले तो देवभोग और धमतरी में 100 से ज्यादा किसानों ने धान व मक्का फेंका

स्थानीय व्यापारियों का धान खरीदने से इंकार, खरीदार नहीं मिले तो देवभोग और धमतरी में 100 से ज्यादा किसानों ने धान व मक्का फेंका

video, छत्तीसगढ़
रायपुर (एजेंसी)| प्रशासन द्वारा चिल्हर धान खरीदी में नियम पालन का फरमान जारी करने के बाद इलाके के लाइसेंसी गल्ला व्यापारियों ने 15 फरवरी तक धान नहीं खरीदने की तख्ती बुधवार से टांग दी थी, इसका असर झाखरपारा के साप्ताहिक बाजार में देखने को मिला। चिल्लर व्यापारी प्रशासन की कार्रवाई से डरकर खरीदी नहीं कर रहे हैं। सप्ताहिक बाजार में खरीददार नहीं मिलने पर देवभोग और धमतरी के गुस्साए किसानों ने धान और मक्का सड़क पर फेंक दिया। जानकारी के मुताबिक दोवभोग में कपड़ा खरीदी, छोटी जरूरत के अलावा बीमार बेटी के इलाज के लिए चिल्हर में धान बेचने शनिवार को झाखरपारा साप्ताहिक बाजार आए किसानों से व्यापारियों ने धान लेने से मना किया तो सड़क पर धान उड़ेलकर 2 घंटे तक चक्काजाम किया। 100 से अधिक किसानों ने शासन-प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। https://youtu.be/9bAw9n5f9i4 आनन फानन में एसडीएम ने बैठक कर चिल्
धान खरीदी को लेकर कांंग्रेस नेताओं ने भाजपा सांसदों के बंगले का घेराव कर बजाए ढोल-नगाढ़े

धान खरीदी को लेकर कांंग्रेस नेताओं ने भाजपा सांसदों के बंगले का घेराव कर बजाए ढोल-नगाढ़े

politics, video, छत्तीसगढ़
रायपुर (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ में धान खरीदी को लेकर सियासत तेज होती जा रही है। चिठ्ठी-पत्री से शुरू हुई बात जुबानी जंग से अब सड़क पर आ गई है। केंद्र सरकार के केंद्रीय पूल में छत्तीसगढ़ का चावल लेने से इनकार करने के बाद प्रदेश की सत्ताधारी पार्टी कांग्रेस ने शुक्रवार को भाजपा सांसदों के बंगले पर जमकर हंगामा किया। ढोल-नगाढ़े लेकर रायपुर सांसद सुनील सोनी के बंगले के बाहर पहुंचे कांग्रेस नेता और कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी और प्रदर्शन किया। इस दौरान पुलिस से उनकी धक्का-मुक्की भी हुई। https://youtu.be/cchYapIByCU दरअसल, प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने अपने मेनिफेस्टो में 2500 रुपए प्रति क्विंटल धान खरीदी का वादा किसानों से किया था। सत्ता में आने के बाद कांग्रेस तो अपना वादा पूरा कर रही है, लेकिन केंद्र की एनडीए सरकार पर दबाव बना रही है कि वह भी केंद्रीय पूल में इसी दाम से धान राज्य से ले। इसको लेक
भूपेश सरकार के कैबिनेट का फैसला- किसानों से धान खरीदने के लिए 21 हजार करोड़ रुपए कर्ज लिया जाएगा

भूपेश सरकार के कैबिनेट का फैसला- किसानों से धान खरीदने के लिए 21 हजार करोड़ रुपए कर्ज लिया जाएगा

politics
रायपुर (एजेंसी) | धान खरीदी को लेकर केंद्र से चल रहे राजनीतिक झगड़े में अब तक कोई रिजल्ट आता न देख प्रदेश सरकार ने कैबिनेट में किसानों से धान खरीदीने के लिए 21 हजार करोड़ रुपए कर्ज लेने का फैसला किया है। खरीदी 1 दिसंबर से होगी। इसके लिए 1350 से अधिक खरीदी केंद्र भी बना लिए गए हैं। अपना धान बेचने करीब 19.70 लाख किसानों ने पंजीयन करा लिया है। सरकार हर किसान से 15 क्विंटल धान खरीदेगी। इस पर सरकार करीब 15 हजार करोड़ खर्च करेगी। और गुरुवार को कैबिनेट ने द्वितीय अनुपूरक बजट में इसे शामिल करने की अनुमति भी दे दी है। यह राशि धान खरीदी के साथ-साथ जरूरत के आधार पर ली जाएगी। इसके अलावा 6 हजार करोड़ बोनस के रूप में देने का फैसला लिया है। केंद्र ने धान के लिए 1815 का एमएसपी तय किया है और सरकार की घोषणा अनुसार 2500 रुपए में खरीदने पर उसे 685 रुपए अपने खजाने से देने होंगे। विवाद इसलिए केंद्र सरकार
धान खरीदी: पीएम मोदी को सीएम भूपेश की चौथी चिट्ठी; सीमा पर सख्ती, भाजपा विरोध में

धान खरीदी: पीएम मोदी को सीएम भूपेश की चौथी चिट्ठी; सीमा पर सख्ती, भाजपा विरोध में

politics
रायपुर (एजेंसी) | धान खरीदी और इसके अवैध परिवहन पर छापामार कार्रवाई से प्रदेश में राजनीति तेज हो गई है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जहां पीएम मोदी को चौथी बार चिट्‌ठी लिखी है तो वहीं भाजपा कार्रवाई के विरोध में आ गई है। उधर, वहीं धान का अवैध परिवहन रोकने के लिए चेकपोस्ट पर विशेष टीम तैनात कर पेट्रोलिंग भी शुरू कर दी गई है। मुख्यमंत्री बघेल इसके पहले भी मोदी को पत्र लिखकर मिलने का आग्रह कर चुके हैं, लेकिन वहां से कोई सकारात्मक जवाब नहीं आया है। राज्य सरकार छत्तीसगढ़ में एक दिसंबर से धान खरीदी शुरू करने जा रही है। इसलिए सीएम ने पीएम को फिर से पत्र लिखा है। उन्होंने अपने पत्र में लिखा है कि यदि भारत सरकार द्वारा समर्थन मूल्य नहीं बढ़ाया जाता है तो राज्य को 2017-18 की तरह ही धान खरीदी की शर्तों को शिथिल किया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा है कि विकेन्द्रीकृत उपार्जन योजना के अंतर्गत हर साल राज्य की आ
धान खरीदी: मप्र, ओडिशा, झारखंड व महाराष्ट्र से आवक रोकने सीमाओं पर नाकेबंदी, 19 हजार क्विंटल धान सहित 63 वाहन जब्त, सबसे ज्यादा कवर्धा में

धान खरीदी: मप्र, ओडिशा, झारखंड व महाराष्ट्र से आवक रोकने सीमाओं पर नाकेबंदी, 19 हजार क्विंटल धान सहित 63 वाहन जब्त, सबसे ज्यादा कवर्धा में

politics, छत्तीसगढ़
रायपुर (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ सरकार इस बार 85 लाख टन धान ही खरीदेगी, इसलिए दूसरे राज्यों से तस्करी कर यहां लाए जा रहे धान पर अब सख्ती बढ़ा दी गई है। एक दिसंबर से धान खरीदी शुरू हो रही है। वही ,प्रदेश के विभिन्न जिलों में धान का अवैध परिवहन करते हुए पाए जाने पर 63 वाहनों सहित 19 हजार 33 क्विंटल धान जब्त किया गया है। आपको बता दे 15 क्विंटल प्रति एकड़ की लिमिट के हिसाब से यहां के किसान ही अपना पूरा धान नहीं बेच पाएंगे, इसलिए प्रशासन मध्यप्रदेश, ओड़िशा, महाराष्ट्र और झारखंड से आने वाले धान को रोकने के लिए राजनांदगांव, कवर्धा, रायपुर, महासमुंद, गरियाबंद, कांकेर, जांजगीर-चांपा, रायगढ़, बिलासपुर, जशपुर और सरगुजा को मिलाकर 11 जिलों में तकरीबन 100 अफसरों की टीमों के साथ सड़क पर आ गया है। शनिवार से रविवार तक इन जिलों में अलग-अलग जगह 100 से ज्यादा ट्रक और छोटे मालवाहनों से 21 हजार क्विंटल धान
धान खरीदी हुई तो नहीं करेंगे आर्थिक नाकेबंदी: खाद्य मंत्री अमरजीत भगत

धान खरीदी हुई तो नहीं करेंगे आर्थिक नाकेबंदी: खाद्य मंत्री अमरजीत भगत

politics
बिलासपुर (एजेंसी) | खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने कहा कि अगर धान खरीदी में काम बन जाएगा तो आर्थिक नाकेबंदी नहीं होगी। जिस तरह से सकारात्मक रूप दिख रहा है, उससे नहीं लगता कि इसकी नौबत आएगी। राउत नाच महोत्सव में पहुंचे मंत्री से जब पूछा गया कि इस्पात राज्य मंत्री फगन सिंह कुलस्ते ने कहा है कि प्रदेश सरकार ने केंद्र से पूछकर समर्थन मूल्य घोषित नहीं किया। इस पर मंत्री ने कहा कि कोई भी पार्टी घोषणा पत्र तैयार करती है तो अन्य दल से नहीं पूछती। जब यूपीए सरकार थी तब तो राज्य की भाजपा सरकार ने उससे अनुमति नहीं ली थी। उन्होंने कहा कि अपनी बात मनवाने के लिए आंदोलन किया गया। किसानों को भूपेश सरकार पर पूरा भरोसा है कि उनका धान 2500 रुपए समर्थन मूल्य में खरीदा जाएगा। देर से खरीदी क्यों के सवाल पर कहा कि देर से मानसून आने की वजह से फसल देर से पकी और कोई वजह नहीं है। भाजपा विपक्ष में है इसलिए विरोध