sushant-singh-rajput-photo
India

सुशांत सिंह राजपूत केस: सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई जांच के आदेश दिए, कहा- बिहार पुलिस ने जो एफआईआर दर्ज की, वह सही थी

एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले की जांच सीबीआई ही करेगी। सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को यह आदेश दिया। कोर्ट ने कहा “निष्पक्ष जांच के जरिए सही बातें सामने आएंगी तो, निश्चित ही उन बेकसूरों को इंसाफ मिलेगा, जो बदनाम करने की कैंपेन के शिकार हुए हैं। सीबीआई जांच के फैसले से पिटीशनर (रिया) को भी न्याय मिल पाएगा, क्योंकि उन्होंने खुद भी इसकी मांग की थी।”

सुशांत की गर्लफ्रेंड रह चुकीं रिया चक्रवर्ती ने पटना की जांच को मुंबई ट्रांसफर करने की अपील की थी। इस बीच, महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने बुधवार शाम प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि हम सुशांत मामले में सीबीआई जांच का स्वागत करते हैं।

सुप्रीम कोर्ट के 35 पेज के आदेश की 4 बड़ी बातें

  1. बिहार पुलिस ने जो एफआईआर दर्ज की, वह सही थी।
  2. सीबीआई जांच की सिफारिश भी कानून के मुताबिक की गई।
  3. मुंबई पुलिस जांच में सहयोग करे, जो भी सबूत जुटाए हैं, उन्हें सीबीआई को सौंपे।
  4. कोई और एफआईआर दर्ज होती है तो, उसकी जांच भी सीबीआई करेगी।

कोर्ट के 3 कमेंट

  1. सुशांत टैलेंटेड एक्टर थे, पूरी क्षमताएं दिखाने का मौका मिलने से पहले ही उनकी मौत हो गई। सुशांत के परिवार के लोग, दोस्त और फैन्स जांच के नतीजों का इंतजार कर रहे हैं, ताकि अटकलें खत्म हो सकें।
  2. निष्पक्ष और प्रभावी जांच जरूरी है। इससे शिकायत करने वाले (सुशांत के पिता) को भी न्याय मिल पाएगा, जिन्होंने अपना बेटा खोया है।
  3. जब सच का उजाला होता है तो, न्याय भी अलग नहीं रह सकता। अब दिवंगत आत्मा को भी शांति मिलेगी। सत्यमेव जयते।

सुशांत के परिवार ने कहा- हमें विश्वास है कि सभी दोषियों को सजा मिलेगी

केस ट्रांसफर मामले में किसने क्या जवाब दिया था?

बिहार सरकार: राज्य सरकार की तरफ से पूर्व एडिशनल सॉलिसिटर जनरल मनिंदर सिंह ने कहा था कि बिहार के मुख्यमंत्री ने इस मामले में कोई दखल नहीं दिया। सीबीआई जांच की सिफारिश संबंधित अफसरों की सलाह पर की गई थी।

रिया के वकील: उन्होंने बिहार पुलिस के केस पर सवाल उठाए थे। उनका कहना था कि इस मामले का बिहार पुलिस की एफआईआर से कोई कनेक्शन नहीं है। वहां भेदभाव होने की आशंका है। स्वतंत्र और निष्पक्ष जांच होनी चाहिए।

महाराष्ट्र सरकार: वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने जवाब दिया था कि राज्य सरकार ने बंद लिफाफे में जांच रिपोर्ट सौंप दी है। बिहार सरकार ने यह केस बड़ी आसानी से अपने यहां ट्रांसफर कर लिया, जबकि यह उसके न्याय क्षेत्र में नहीं आता।

रिया चक्रवर्ती: पटना पुलिस के केस को जीरो एफआईआर मानते हुए इसे मुंबई ट्रांसफर किया जाए। सुशांत के पिता ने मुझ पर गलत आरोप लगाए हैं। मेरे सभी फाइनेंशियल ट्रांजैक्शंस एकदम साफ हैं।

सुशांत के पिता: केके सिंह ने अपने वकील नितिन सलूजा के जरिए एफिडेविट देकर कहा था कि रिया ने गवाहों पर असर डालना शुरू कर दिया है। उसने सीबीआई जांच की बात से भी यू-टर्न ले लिया।

बिहार सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश की थी

सुशांत के पिता केके सिंह ने रिया के खिलाफ पटना में एफआईआर दर्ज करवाई थी। उनका आरोप है कि रिया ने सुशांत को आत्महत्या के लिए उकसाया। दूसरी तरफ बिहार सरकार ने इस मामले में सीबीआई जांच की सिफारिश की थी, जिसे केंद्र ने मान लिया। उसके बाद सीबीआई ने रिया समेत कुछ लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया था।

सुशांत का शव 14 जून को मुंबई में उनके फ्लैट में लटका मिला था। पुलिस ने इसे आत्महत्या का केस बताया। लेकिन, सुशांत के फैन्स, परिवार वालों और कई नेताओं ने हत्या का शक जताते हुए सीबीआई जांच की मांग उठाई थी।

Leave a Reply