Chhattisgarh India

सारंगढ़ जिला बनने से सभी वर्गों को फायदा, कई दुकानों के बाहर लिखा हुआ है..पान, पानी, पालगी

जिला बनने से यहां के लोग बेहद खुश हैं और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के स्वागत के लिए अपने प्रतिष्ठानों को सजाकर रखे हुए हैं लेकिन आखिर हर जगह पान, पानी और पालगी क्यों लिखा हुआ है । इस बारे में पूछने पर यहां के बड़े बुजुर्ग बताते हैं कि ये लाइन सारंगढ़ की पहचान हैं । पहले यहां पान के बहुत शौकीन थे और यहां पर कई जगह पान की खेती भी होती है । इसके अलावा यहां बहुत से तालाब हुआ करते थे जिससे यहां पानी की कभी कमी नहीं हुई । छत्तीसगढ़ की संस्कृति में बड़ों का सम्मान स्वरूप प्रणाम करने पर पालगी कहते हैं । इस प्रकार पान , पानी और पालगी सारंगढ़ के लोगों की पहचान और हमारी जीवन शैली का अहम हिस्सा बन चुका है । इसलिए हम लोगों ने अपने मुखिया के स्वागत में सारंगढ़ की पहचान बन चुकी इन पंक्तियों को लिखकर रखा है ।

सारंगढ़ जिले की मांग 40 साल से भी अधिक पुरानी है । मैं यहां पर पिछले 50 साल से बिजनेस कर रहा हूं । पहले मेरा रेस्टोरेंट था अभी शू शॉप है। जिला संघर्ष समिति ने जिले के लिए बहुत आंदोलन किया,  हर बार सिर्फ आश्वासन मिलता था लेकिन मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने संवेदनशीलता दिखायी और सारंगढ़ वासियों की भावनाओं को समझा । हम सभी सारंगढ़वासी मुख्यमंत्री के बहुत आभारी हैं ।

ये कहना है सारंगढ़ निवासी अजीत सिंह छाबड़ा का, जो जिला बनने पर बेहद खुश हैं । 
वे बताते हैं कि 1975 के पहले महानदी पर पुल नहीं था तब रायगढ़ तक नाव से जाना पड़ता था। आज भले ही साधन हैं लेकिन हर छोटे काम के लिए रायगढ़ तक जाने में समय और पैसा बहुत खर्च होता है । जिला बनने के बाद अब सारे काम यहीं हो सकेंगे। लोगों को भी बहुत सहूलियत होगी । यहां लोगों का आना-जाना बढ़ेगा जिससे व्यापारियों को भी लाभ होगा । जिला बनने से यहां सभी वर्गों के लोगों की उन्नति होगी ।