छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018: दंतेवाड़ा सीट पर 7 उम्मीदवार; सभी एक-दूसरे के रिश्तेदार, एक ने वापस लिया नाम - गोंडवाना एक्सप्रेस
gondwana express logo

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018: दंतेवाड़ा सीट पर 7 उम्मीदवार; सभी एक-दूसरे के रिश्तेदार, एक ने वापस लिया नाम

दंतेवाड़ा (एजेंसी) | इस बार छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 में दंतेवाड़ा की सीट पर उम्मीदवारों के बीच रिश्तों का गजब का समीकरण बन रहा है। परिणाम किसी एक उम्मीदवार के पक्ष में ही रहेगा, लेकिन सियासी लड़ाई में रिश्ते-नाते दरकिनार हो गए हैं। या यूँ कहे चाहे कोई भी जीते विधायक तो घर का ही रहेगा।

दरअसल एक ही जनजातीय समुदाय से होने की वजह से नामवापसी के बाद मैदान में रह गए सभी सात उम्मीदवारों के बीच आपसी रिश्तेदारी है। वे आपस में किसी न किसी रिश्ते से जुड़े हुए हैं। ये सभी अलग अलग राजनैतिक पार्टियों के टिकट से चुनाव लड़ेंगे।




कांग्रेस ने दंतेवाड़ा सीट के लिए अपना उम्मीदवार देवती कर्मा को बनाया है और उनके विरुद्ध सीपीआई के उम्मीदवार नंदाराम सोरी खड़े है। ये दोनों आपस में भाई-बहन हैं। देवती नंदा को दादा (बड़े भैया) कहकर संबोधित करती हैं तो वही प्रमुख प्रतिद्वंद्वी भाजपा के उम्मीदवार भीमा मंडावी रिश्ते में देवती के बहनोई हैं।

आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार बल्लू भवानी की चाची होने वजह से उनका मां-बेटे का रिश्ता है। जोगी कांग्रेस की बागी उम्मीदवार जया कश्यप रिश्ते में देवती की भतीजी लगती हैं, तो बसपा के उम्मीदवार केशव नेताम और सीपीआई के बागी सुदरू कुंजाम का आप उम्मीदवार बल्लू से मामा-भांजा का रिश्ता है।

एक दूसरे का सम्मान करते हैं सभी

सबसे अच्छी बात यह है कि सियासी तौर पर आपसी प्रतिद्वंद्विता के बावजूद कहीं मिलते हैं, तो एक-दूसरे को अभिवादन और रिश्ते से संबोधित करना नहीं भूलते। अब बात तो यही है कि भले ही परिणाम किसी एक उम्मीदवार के पक्ष में ही रहेगा। या यूँ कहे चाहे कोई भी जीते विधायक तो घर का ही रहेगा।

दंतेवाड़ा सीट की स्थिति

वर्त्तमान में दंतेवाड़ा सीट पर कुल वोटरो की संख्या है: 187343
जिनमे पुरुष- 89452, महिला- 97891 है।
और 2013 में नतीजे इस प्रकार थे:
देवती कर्मा- 41417 कांग्रेस
भीमा राम मंडावी- 35430 भाजपा
कुल वोट पड़े 108350 (62.03% वोटिंग)
उम्मीदवार के बीच हार-जीत का अंतर 5987 वोटों का रहा।
यह सीट 2008 में सत्तारूढ़ भाजपा के पास थी।



Leave a Reply