Chhattisgarh India

भेंट-मुलाकात के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल रामगढ़ पहुंचे, दी अनेक सौगातें

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल अपने प्रदेशव्यापी भेंट-मुलाकात अभियान के दौरान आज कोरिया जिला के भरतपुर-सोनहत विधानसभा के दौरे पर थे। इस दौरान मुख्यमंत्री ग्राम रामगढ़ पहुंचे। जहां हैलीपेड पर स्थानीय जनप्रतिनिधियों और भारी संख्या में उपस्थित ग्रामीणों ने उनका आत्मीय स्वागत किया। रामगढ़ में मुख्यमंत्री ने आदिवासी कन्या आश्रम का निरीक्षण किया, वहीं बालिका हॉकी टीम के खिलाड़ियों से मुलाकात कर उनका उत्साहवर्धन किया। भेंट-मुलाकात कार्यक्रम के दौरान ग्रामीणों से शासकीय योजनाओं पर फीडबैक लेते हुए उनकी समस्या सुनी और समाधान किया। साथ ही मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने जनआकांक्षाओं के अनुरूप क्षेत्रवासियों को अनेक सौगातें दीं।

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के भेंट-मुलाकात कार्यक्रम के दौरान ग्रामीणजन मुख्यमंत्री को अपनी समस्याएं बताने के साथ शासकीय योजनाओं से जुड़े अनेक किस्सों को साझा कर रहे हैं। आज रामगढ़ में भेंट मुलाकात के दौरान ग्राम सुंदरगढ़ की सुमंती ने मुख्यमंत्री श्री बघेल को बताया कि वे गौठान से जुड़कर वर्मी खाद बनाना शुरू किया। उनके समूह में 10 सदस्य हैं। समूह ने 916 क्विंटल वर्मी कंपोस्ट बेचकर 9 लाख 16 हजार रुपये कमाए। इनमें से समूह के प्रत्येक सदस्य को करीब 1 लाख रुपये मिले। इस आमदनी से उन्होंने अपने लिए सिलाई मशीन खरीदी और फिर अपने पति के दुकान खोलने में मदद की। आज फेब्रिकेशन दुकान से भी 10 हजार रुपये मासिक आमदनी हो जाती है। इस तरह गौठान से न केवल से जुड़े सदस्यों का लाभ होता है बल्कि पूरे परिवार की आजीविका सुदृढ़ हुई है।

इसी तरह ग्राम नटवाही की श्रीमती बाई ने कहा, उन्होंने गोबर बेचकर 15 हजार आय सृजित की है। जिससे उन्होंने अपने घर को मरम्मत की। समूह के मध्यम से 600 क्विंटल वर्मी खाद बेचकर 6 लाख रुपये कमाए। इससे सामूहिक आटा चक्की और हॉलर मिल लगाए। इससे हर सदस्य को 5-6 हजार रुपये प्रतिमाह मिल जाता है।

घुघरा की मंजू राजवाड़े ने मुख्यमंत्री को बताया कि उन्होंने 70 हजार रुपये का गोबर बेचकर अपने बाड़ी में ट्यूबवेल खनन करवाई है। अब बॉडी में हर माह 5 से 6 हजार रुपये का सब्जी बेचती है। फूलकुमारी राजवाड़े ने बताया कि, उन्होंने 480 क्विंटल का वर्मी कम्पोस्ट बेचकर अपने घर की मरम्मत करवाई। सिलाई मशीन भी खरीदी।

वहीं रामगढ़ की प्रज्ञा साहू ने बताया कि, उसे सिरदर्द की शिकायत थी। एक दिन हाट-बाजार गईं तो एक मोबाइल वेन देखा, जिसमें मुख्यमंत्री की तस्वीर लगी थी। वहां मोबाइल मेडिकल यूनिट में चेकअप कराने पर पता चला कि ब्लड प्रेशर कम है। मोबाइल मेडिकल यूनिट में ही दवाई दी गई। प्रज्ञा ने बताया कि नियमित दवाई लेने के बाद वह स्वस्थ हैं। इस पर मुख्यमंत्री ने प्रज्ञा से कहा कि समय-समय पर चेकअप कराते रहना।