Chhattisgarh India

राम काज किन्हें बिनु मोहि कहां विश्राम हनुमान जी का मूल मंत्र यह था, छत्तीसगढ़ महतारी की सेवा बिना विश्राम नहीं यह हमारा भी संकल्प

राम काज किन्हें बिनु, मोहि कहां विश्राम, हनुमान जी भगवान श्री राम की सेवा को अपना परम कर्तव्य मानते हैं हमें छत्तीसगढ़ की जनता ने छत्तीसगढ़ महतारी की सेवा का मौका दिया है छत्तीसगढ़ के नागरिकों की सेवा करना उनके दुख दर्द दूर करना हमारा पहला कर्तव्य है और इसे पूरा करने हम संकल्पबढ़ होकर कार्य कर रहे हैं। दुर्ग जिले के ग्राम पतोरा में हनुमान मंदिर के वार्षिकोत्सव कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने अपने संबोधन में यह बात कही।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर कहा कि हनुमान जी ऐसे आराध्य हैं जिनकी हर गांव में मंदिर है पूजा होती है। वह बल, ज्ञान और भक्ति की त्रिवेणी है उन्होंने अपने अतुलित बल से लंका दहन किया, अहिरावण की भुजा उखाड़ दी। अपने सामर्थ्य को उन्होंने लोक उद्देश्य के लिए लगाया। भक्ति का उनका समर्पण भी अद्भुत है। उन्होंने अपना ह्रदय चीरकर राम के प्रति अपने समर्पण दिखाया। मुख्यमंत्री ने कहा कि श्रीराम के प्रति ऐसी निष्ठा बहुत दुर्लभ होती है। अंतिम वक्त में भी जिनकी जिह्वा में श्री राम का स्मरण हो तो इस से बढ़कर क्या हो सकता है। महात्मा गांधी के आखिरी शब्द हे राम थे। ऐसे महात्मा पर जब कभी आक्षेप  लगे तो इसका उचित उत्तर देना हम सब का कर्तव्य है। मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ शांति का टापू है अहिंसा के मार्ग पर हम चलते हैं गुरु घासीदास ने हमें मनखे मनखे एक समान का संदेश दिया है। हम सब छत्तीसगढ़ महतारी की पूरी निष्ठा के साथ और मूल्यों के साथ सेवा करते रहेंगे।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर तुलसीदास और कबीर की राम भक्ति का वर्णन किया। उन्होंने कहा कि सभी संत कवियों ने राम के अवदान को अपने-अपने तरह से व्यक्त किया है। भारत के जनमानस में  मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम के मूल्यों की अमिट छाप है। हर बार पतोरा में जब आता हूं और यहां पर राम भक्ति का सुंदर वातावरण देखता हूं तो हमेशा मन आनंद से भर जाता है। इस मौके पर जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के अध्यक्ष श्री जवाहर वर्मा जिला मंडी बोर्ड के अध्यक्ष श्री अश्विनी साहू जिला पंचायत उपाध्यक्ष श्री अशोक साहू, खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के सदस्य श्री हेमंत देवांगन एवं अन्य गणमान्य अतिथि मौजूद थे।