रक्षाबंधन विशेष: गोंडवाना एक्सप्रेस की ओर से शुभ रक्षाबंधन - गोंडवाना एक्सप्रेस
gondwana express logo

रक्षाबंधन विशेष: गोंडवाना एक्सप्रेस की ओर से शुभ रक्षाबंधन

गोंडवाना एक्सप्रेस परिवार की ओर देश के सभी भाइयों एवं बहनो को रक्षा बंधन की हार्दिक शुभ कामनाऐ।

रायपुर | पूरा देश आज रक्षाबंधन के त्योहार को बड़े ही उत्साह के साथ मना रहा है। भाई-बहन के लिए आज का दिन बेहद खास है। रक्षाबंधन के दिन सभी बहनें अपने भाइयों को राखी बांधती हैं। गोंडवाना एक्सप्रेस परिवार की ओर देश के सभी भाइयों एवं बहनो को रक्षा बंधन की हार्दिक शुभ कामनाऐ।

रक्षाबंधन पर एक लधु कथा जरूर पढ़े और शेयर करे:

मम्मी कल रक्षाबंधन है, भैया कब आएंगे?

छः वर्षीय नन्ही ने बड़े लाड़-मनुहार से पूछा।

मां की आंखों में आंसू आ गए। मां ने बरबस ही दांतों के नीचे होंठ दबा लिए, बड़ी मुश्किल से आवाज निकली, ‘कैसे आ सकेगा बेटा! हमारे देश की सीमा पर पहरा दे रहा है वह।’

नन्ही- ‘तो क्या मैं इस बार भैया को राखी नहीं बांधूगी?’

मां बोली, ‘बांधोगी बेटा जरूर बांधोगी।’

मां ने नन्ही को एक लिफाफा थमाया और कहा- ‘इसमें अपनी राखी रखकर पोस्ट बॉक्स में डाल दो, फिर देखना रात तुम जब सो जाओगी, तब सपने में ये राखी तुम्हारे हाथमें होगी और बस, तुम अपने प्यारे भाई को यह राखी बांध देना।’






नन्ही रुआंसी हो गई, ‘तो क्या, मम्मी भैया सिर्फ एक दिन के लिए भी नहीं आ सकते? क्या उन्हें मुझसे राखी नहीं बंधवानी?’

मां बोली, ‘बेटा तो नहीं आ सकेगा। तुम्हारे भाई जैसे सैनिकों पर ही तो देश की रक्षा की जिम्मेदारी है। पूरे देश को उस पर गर्व है। मुझे भी है। परंतु बेटा! अपने पत्र में तू कभी उसे आने का न कहना, क्योंकि तुम्हारे जैसी कितनी ही बहनें हैं, जो अपने भाई को राखी नहीं बांध पातीं। वो भी सपने में ही राखी बांधती हैं।’

नन्ही को मां की बात समझ में आ गई, उसने अपनी गर्दन हां में हिलाकर स्वीकृति दे दी। परंतु मां वहां और नहीं रुक सकी, दूसरे कमरे में वह फफक कर रो पड़ी।

वह नन्ही को कैसे बताए, उसका शहीद भाई उससे राखी बंधवाने अब कभी नहीं आ पाएगा।

यह कहानी आपको कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताये।

अगर आपके पास रक्षाबंधन पर कोई कहानी, कविता या सन्देश है तो आप हमें मेल करे हमारे mail id पर: gondwanaexpress@yahoo.com

या व्हाट्सएप्प ग्रुप में शेयर करे: व्हाट्सएप्प ग्रुप ज्वाइन करने के लिए यहाँ क्लिक करे: Click Here

हम आपके नाम के साथ उसे प्रकाशित करेंगे।



RO No - 11069/ 17
CM Bhupesh Bhagel Mandi ko Maar

Leave a Reply