maa-bamleshwari-dongargarh
Chhattisgarh

चैत्र नवरात्र 2020: कोरोना का असर नवरात्रि पर, डोंगरगढ़ में नहीं लगेगा मेला, रोपवे भी रहेगा बंद

राजनांदगांव | हिंदू नववर्ष से प्रारंभ होने वाली चैत्र नवरात्रि पर भी कोरोना वायरस का असर पड़ रहा है। इस बार नवरात्रि का पर्व फीका रहेगा। जिले के सबसे बड़ी शक्तिपीठ डोंगरगढ़ की मां बमलेश्वरी देवी के दरबार में नवरात्रि के दौरान पूजा अर्चना और सभी तरह के धार्मिक कार्यक्रम जरूर होंगे लेकिन डोंगरगढ़ में लगने वाला नवरात्र मेला इस बार नहीं लगाया जाएगा।

नवरात्र के मौके पर डोंगरगढ़ के दोनों रोपवे भी बंद रहेंगे। इसके साथ ही पदयात्रियों को भी मना कर दिया गया है। नवरात्र के मौके पर पदयात्रियों के लिए लगने वाले सेवा पंडाल भी इस बार नहीं लगेंगे। कलक्टर जयप्रकाश मौर्य ने सोमवार दोपहर पत्रकारवार्ता में जानकारी दी कि नवरात्र पर्व इस बार कोरोना वायरस के चलते सीमित और सुरक्षित तरीके से मनाने की तैयारी की जा रही है।

नवरात्र पर डोंगरगढ़ में दर्शन के लिए आने वाले भक्तों के स्वास्थ्य की कई स्तर पर जांच की जाएगी और प्रशासन यह एहतियात बरतेगा कि मां के दरबार में पहुंचने वाला हर भक्त स्वस्थ हो। इसके लिए मास्क और सेनेटाइजर की व्यवस्था की जाएगी।

अन्य मंदिरों में भी सतर्कता

कलक्टर मौर्य ने बताया कि राजनांदगांव के मां पाताल भैरवी मंदिर और डोंगरगढ़ के पास स्थित करेला भवानी मंदिर के साथ ही जिलेभर के देवी मंदिरों में भी नवरात्रि के पर्व पर एहतियातन सार्वजनिक कार्यक्रम आयोजित करने से बचा जाएगा। उन्होंने स्पष्ट किया कि मंदिरों में देवी दर्शन और पूजा पाठ का कार्य जरूर चलेगा लेकिन किसी तरह की भीड़ से बचने के उपाय किए जाएंगे।

बैठक में बचाव और सुरक्षा को लेकर बनी रणनीति

कलक्टर जयप्रकाश मौर्य की अध्यक्षता में सोमवार को जिला पंचायत के सभाकक्ष में चैत्र नवरात्रि पर्व पर आयोजित डोंगरगढ़ मेले एवं कोरोना वायरस के खतरे को लेकर बैठक आयोजित की गई। बैठक में मेले के दौरान कोरोना वायरस के बचाव और सुरक्षा को लेकर व्यापक चर्चा हुई और आवश्यक रणनीति तैयार की गई।

मौर्य ने कहा कि कोरोना वायरस एक व्यक्ति से भी शहर में आ जाए तो इससे लाखों लोग पीडि़त हो जाएंगे। ऐसे में बचाव ही सुरक्षा है। कलक्टर जयप्रकाश मौर्य ने कहा कि कोरोना वायरस के बढ़ते प्रभाव के कारण पैदलयात्रा और कार सेवा को स्थगित करने का निर्णय लिया गया है। मौर्य ने कहा कि नवरात्रि के दौरान मंदिर खुले रहेंगे पूजा-पाठ किए जाएंगे लेकिन सीढिय़ों पर लगने वाली खाद्य सामग्रियों की दुकाने बंद रहेगी।

नहीं होगा खुले प्रसाद का वितरण

इस वर्ष नवरात्र पर्व में डोंगरगढ़ आने वाले स्पेशल ट्रेन और स्पेशल टिकट कॉऊंटर की व्यवस्था नहीं की जाएगी। खुले प्रसाद भी वितरित नहीं किया जाएगा। रोपवे 17 मार्च से आगामी आदेश तक बंद रहेंगे। इस पर मंदिर ट्रस्ट के सदस्यों ने भी सहमति दी। मंदिर में दर्शन के लिए मास्क और सेनेटाईजर लगाकर जाने दिया जाएगा। सर्दी, खासी से पीडि़त लोगों को मंदिर जाने से पहले मेडिकल चेकअप कराना होगा।

पहले मेडिकल चेकअप फिर दर्शन

मौर्य ने कहा कि मंदिर में जाने के लिए एक ही रास्ता होगा। जहां पर मेडिकल कैंप लगाया जाएगा। यहां पर श्रद्धालुओं का मेडिकल चेकअप करने के बाद ही मंदिर दर्शन के लिए जा पाएंगे। मंदिर दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं के पास मास्क और हैंडवॉस होना चाहिए। बिना मास्क लगाए मंदिर जाने पर प्रतिबंधित किया जाएगा। मौर्य ने कहा कि मंदिर की साफ-सफाई की विशेष व्यवस्था की जाए।

बताए जाएंगे बचाव के तरीके

कलक्टर मौर्य ने कहा कि सभी चेक पाईंट पर कोरोना वायरस से बचाव के संबंध में प्रचार-प्रसार के लिए पोस्टर, बेनर और लाऊडस्पीकर की व्यवस्था की जाए। रेल्वे स्टेशनों पर भी लाऊडस्पीकर और पोस्टर द्वारा इसकी लगातार जानकारी देते रहे। इसके अलावा अन्य राज्यों और शहरों के रेल्वे स्टेशन में प्रचार-प्रसार किया जाए कि कोरोना वायरस के प्रभाव के कारण डोंगरगढ़ मेला स्थगित कर दी गई है।

Leave a Reply