Chhattisgarh

बिना सरकारी आदेश के खोले जा रहे है निजी और सरकारी स्कूल, काम कराने शिक्षकों को बुला रहे प्राचार्य

रायपुर | स्कूल चाहे शासकीय हों या निजी। खोलने को लेकर अब तक राज्य शासन ही नहीं जिला शिक्षा अधिकारी की ओर से भी कोई अधिकृत आदेश जारी हुआ है। बावजूद इसके दोनों ही स्तर के स्कूल खुलने लगे हैं। बुधवार से केवी, डीएवी, डीपीएस समेत अन्य निजी शैक्षणिक संस्थाओं के शिक्षक प्रबंधन के बुलावे पर स्कूल पहुंचने लगे हैं।

शासकीय स्कूलों के प्राचार्यों ने भी अपने शिक्षकों को स्कूल बुलाया। स्कूल प्रबंधन व अपने प्राचार्यों के स्कूल बुलाने को लेकर शिक्षकों में अंदर ही अंदर नाराजगी है। ऐसे शिक्षकों का कहना है कि जब शासन ने स्कूल खोलने के लिए कोई आदेश ही जारी नहीं किया है तो उन्हें क्यों स्कूल बुलाया जा रहा है।

शिक्षकों की नाराजगी को देखते हुए ऐसे स्कूलों के प्राचार्यों से जब बात की गई तो वे अपने आपको विवश महसूस कर रहे थे तो कुछ ने अपनी इच्छा से ही स्कूल के अधूरे कामों को पूरा करने के लिए शिक्षकों को बुलाने की बात कहने लगे। लेकिन वे भी अपना नाम सामने आने से बचते रहे। एक हायर सेकंडरी स्कूल के प्राचार्य से जब पूछा गया कि क्या आपके पास कोई आदेश है स्कूल खोलने व शिक्षकों को बुलाने का तो उन्होंने सहमे हुए लहजे में जवाब दिया।

उन्होंने कहा कि हम तो बीच में फंस गए हैं। एक तरफ कुआं है तो दूसरी तरफ खाईं। क्योंकि स्कूल बुलाते हैं तो शिक्षक दबाव बनाते हैं और नहीं बुलाने पर हमारे शीर्ष अधिकारी। कुल मिलाकर शहर ही नहीं जिले के स्कूलों पर नजर दौड़ाएं तो ऐसा लगता है जैसे उन्हें खोलने का आदेश शासन व प्रशासन से मिल गया है। इस मामले में डीईओ भी यही कह रहे हैं कि उनकी ओर से कोई आदेश नहीं जारी किया गया है। हां कुछ स्कूल प्रमुख जरूरी होने पर अपने शिक्षकों को बुला रहे होंगे।

Leave a Reply