corona-virus
Chhattisgarh India

कोरोनावायरस: केरल में तीसरा केस कन्फर्म, छत्तीसगढ़ में चीन से लौटे दो छात्र संदिग्ध; जांच के लिए सैंपल पुणे भेजे गए

नई दिल्ली | केरल में साेमवार काे कोरोनावायरस का तीसरा केस कन्फर्म हाे गया। कासरगोड जिले में मिला तीसरा मरीज भी वुहान यूनिवर्सिटी से लाैटा छात्र है। उसे कान्हागढ़ अस्पताल में आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है, जहां उसकी हालत स्थिर बताई गई है। इसके बाद केरल सरकार ने इसे राज्य आपदा घाेषित कर दिया। वहीं छत्तीसगढ़ में दो संदिग्ध मिले हैं। एक की जांच में वायरस की पुष्टि नहीं हुई है, जबकि दूसरे की रिपोर्ट नहीं आई है। इसी बीच, वुहान से निकालकर लाए गए लाेगाें में 5 काे खांसी और जुकाम के लक्षण दिखे हैं।

छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस के दो संदिग्ध रायपुर और अंबिकापुर में मिले हैं। रायपुर में मिले संदिग्ध का स्वाब का सैंपल वायरोलॉजी लैब पुणे भेजा गया था। सोमवार को वहां से रिपोर्ट निगेटिव आई, यानी उसमें वायरस के लक्षण नहीं मिले। अंबिकापुर के संदिग्ध छात्र के स्वाब को भी जांच के लिए भेजा गया है। रिपोर्ट नहीं आई है। छात्र को उसी के घर में अलग कमरे में रखा गया है। उसके परिजनों को भी निगरानी में रखा गया है। दोनों युवक चीन में डाॅक्टर की पढ़ाई कर रहे हैं।

इन्हें दिल्ली स्थित मिलिट्री अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। इन्हें मानेसर में सेना की ओर से स्थापित सुविधा में 247 अन्य लाेगाें के साथ रखा गया था। पांचाें के सैम्पल जांच के लिए एम्स भेजे गए हैं। अभी एक की रिपाेर्ट निगेटिव आई है। आईटीबीपी के कैम्प में चीन से लाकर निगरानी में रखे गए 406 लाेगाें की भी काेराेनावायरस टेस्ट की रिपाेर्ट निगेटिव आई है।

इसी बीच, केंद्र सरकार ने काेराेनावायरस के हालात की निगरानी के लिए मंत्रिसमूह गठित किया है। इसमें केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन, हरदीप पुरी, एस जयशंकर, जी किशन रेड्डी, अश्विनी कुमार चाैबे और मनसुख लाल मंडाविया शामिल हैं। समूह ने साेमवार काे पहली बैठक कर काेराेनावायरस से निपटने की तैयारियाें की समीक्षा की। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि चीन से लाैटने के इच्छुक सभी भारतीय निकाले जाएंगे। उन्हें भारतीय दूतावास से संपर्क करना हाेगा।

वहीं, स्वास्थ्य मंत्रालय ने हेल्थ एडवाइजरी अपडेट करते हुए लाेगाें काे चीन जाने से बचने की हिदायत दी है। उल्लेखनीय है कि शनिवार काे 324 भारतीयाें काे वुहान से लाया गया था। जबकि रविवार काे 323 भारतीय और मालीदीव के 7 नागरिक लाए गए थे। चीन से लाए गए सभी लाेगाें काे मानेसर में सेना और छावला में आईटीबीपी की ओर से तैयार की गई जगहाें पर रखा गया है। बुखार, सूखी खांसी और सांस लेने में समस्या काेरानावायरस के शुरुआती लक्षण हाेते हैं।

केरल: 1,999 लाेगाें काे निगरानी में रखा गया

केरल में अभी तक 104 लाेगाें के सैम्पल जांचे गए हैं, जिनमें से तीन पाॅजिटिव मिले हैं। पहले भी त्रिशूर और अलापुझा में वुहान से लाैटे एक-एक छात्र में काेराेनावायरस संक्रमण की पुष्टि हाे चुकी है। केरल में चीन और संक्रमण से प्रभावित अन्य देशाें से लाैटे 1,999 लाेगाें काे निगरानी में रखा गया है। इनमें से 75 काे विभिन्न अस्पतालाें के आइसाेलेशन वॉर्ड में हैं।

रायपुर: एक में वायरस की पुष्टि नहीं, दूसरे की रिपोर्ट नहीं आई

छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस के दो संदिग्ध रायपुर और अंबिकापुर में मिले हैं। रायपुर में मिले संदिग्ध का स्वाब का सैंपल वायरोलॉजी लैब पुणे भेजा गया था। सोमवार को वहां से रिपोर्ट निगेटिव आई, यानी उसमें वायरस के लक्षण नहीं मिले। अंबिकापुर के संदिग्ध छात्र के स्वाब को भी जांच के लिए भेजा गया है। रिपोर्ट नहीं आई है। छात्र को उसी के घर में अलग कमरे में रखा गया है। उसके परिजनों को भी निगरानी में रखा गया है। दोनों युवक चीन में डाॅक्टर की पढ़ाई कर रहे हैं। इस बीच माना एयरपोर्ट में चीन से आने वाले लोगों की जांच के लिए सेंटर खोला गया है।  स्वास्थ्य विभाग के अफसरों के अनुसार 22 साल के मेडिकल छात्र में कोरोना वायरस के पूरे लक्षण थे। आशंका होने पर सैंपल जांच के लिए भेजा गया था।

वहां से लौटे तीन से चार छात्र सामान्य हैं, इसलिए उनके स्वाब का सैंपल जांच के लिए नहीं भेजा गया। प्रदेश से अभी तक केवल एक सैंपल जांच के लिए भेजा गया है। इधर अंबिकापुर में चीन से आए मेडिकल छात्र की रिपोर्ट अभी नहीं आई है। छात्र के स्वाब का सैंपल जांच के लिए पूणे भेजा गया है। रिपोर्ट आने के बाद स्थिति स्पष्ट हो सकेगी। छात्र को डाॅक्टरों की निगरानी में उसी के घर पर अलग कमरे में रखा गया है। डाॅक्टरों की टीम ने युवक के परिवार के बाकी सदस्यों का परीक्षण किया, लेकिन उनमें से कोई बीमार या सर्दी, खांसी से पीड़ित नहीं मिला है।

Leave a Reply