Chhattisgarh

स्मार्ट सिटी बनाने लगाए गए 39 लाख के वुडन फ्लोर, ठंड से बचने के लिए लोगों ने उखाड़कर आग ताप ली

 

रायपुर | मोतीबाग में एडवेंचर साइकिलिंग के लिए 39 लाख रुपए की लागत से बनाए पंप ट्रैक का वुडन फ्लोर लोगों ने ठंड से बचने के लिए आग में झोंक दिया। दिलचस्प बात ये है कि वुडन फ्लोर उखाड़ा जाता रहा, लेकिन किसी को भनक नहीं लगी और न ही देखरेख करनेवालों ने इसे पकड़ा। इस घटना ने स्मार्ट सिटी के तौर तरीके और काम की निगरानी पर बड़े सवाल खड़े कर दिए हैं। मोतीबाग वुडन ट्रैक दो साल पहले बनाया गया था। यह एडवेंचर साइकिलिंग ट्रैक का हिस्सा है। उतार-चढ़ाव और घुमावों वाले इस ट्रैक के ऊपरी हिस्से में लगभग 600 वर्गफीट का वर्गाकार वुडन (लकड़ी) फ्लोर बनाया गया, ताकि साइकिलिंग करनेवाले यहां कुछ देर रेस्ट करें या करतब भी दिखा सकें।

कांसेप्ट यह था कि इस ट्रैक पर साइकिलिंग के लिए देश की कोई कंपनी हायर की जाए, जो इसका संचालन और मेंटेनेंस दोनों करे। लेकिन स्मार्ट सिटी के अफसर दो साल में इसके संचालन के लिए कोई एजेंसी ही तय नहीं कर पाे। नतीजा यह हुआ कि सबसे पहले घुमावदार ट्रैक खराब हुआ। इसके बाद ठंड में लोग ऊपर बने वुडन ट्रैक की लकड़ी से अलाव बनाते रहे। जब तक इसे नोटिस किया जाता, बीच का लकड़ी का हिस्सा उखाड़कर जला दिया गया। इससे पूरा ट्रैक ही बर्बाद हो गया।

तैयार, जारी और नए काम

  • 51.91 करोड़ के काम पूरे हुए
  • 282.85 करोड़ के काम चल रहे
  • 252.12 करोड़ की टेंडर प्रक्रिया

इसलिए कांसेप्ट फेल

  • निगम कमिश्नर ही स्मार्ट सिटी के एमडी
  • निगम के इंजीनियर ही स्मार्ट सिटी में
  • अफसरों पर किसी का कोई नियंत्रण नहीं
  • फील्ड में काम किए बगैर बनाए प्रोजेक्ट
  • पूरी तरह कंसलटेंट एजेंसियों पर निर्भरता

Leave a Reply