Chhattisgarh

राष्ट्रीय कृषि मेला 23 से, सीएम भूपेश बघेल करेंगे शुभारंभ; राष्ट्रीय कृषि मेला में गौ उत्पाद का किया जाएगा प्रदर्शन व विक्रय

रायपुर | मुख्यमंत्री भूपेश बघेल राजधानी रायपुर के फल, सब्जी, उपमंडी प्रांगण तुलसी बाराडेरा में 23 फरवरी को शाम 4 बजे राष्ट्रीय कृषि मेला 2020 का शुभारंभ करेंगे। कार्यक्रम की अध्यक्षता कृषि एवं जल संसाधन मंत्री रविन्द्र चौबे करेंगे। राष्ट्रीय कृषि मेला में वेजिटेबल ट्रांसप्लांटर किसानों के लिए आर्कषण का केन्द्र बनेगा। यह उपकरण गोभी, मिर्च, टमाटर, बैगन जैसे फसल लगाने के लिए उपयोगी है। मेले में किसानों को इस यंत्र के उपयोग, उपलब्धता एवं अनुदान संबंधी सुविधा की जानकारी मिलने के साथ-साथ स्पाॅट पर बुकिंग की सुविधा भी मिलेगी।

छत्तीसगढ़ गौ सेवा आयोग में पंजीकृत गौशालाओं द्वारा गोबर व गोमूत्र से विभिन्न सामग्रियों को निर्मित कर विक्रय किया जा रहा है, जिस से गौपालक व कृषक आर्थिक रूप से सशक्त हो रहे हैं। गौशाला द्वारा गोबर से मूर्ति , माला, दिया,गमला जैसी सामग्री का निर्माण किया जा रहा है, जिसकी बाजार में बहुत मांग है। राष्ट्रीय कृषि मेले में पंचगव्य से निर्मित सामग्री आकर्षण का केंद्र रहेगी।

उल्लेखनीय है कि फिनाइल के इस्तेमाल की जगह अब घर की सफाई गौमूत्र और अन्य गौ उत्पादों से बने गोनाइल से कर सकते हैं।यह गोनाइल आधुनिक तकनीक से रिफाइनरी में एक एंटीवायरल फिनाइल की तरह निर्मित किया जाता है जो कई प्रकार के रोगों व संक्रमण से बचाता है। गोबर से लकड़ी बनाई जाती है जिसे गौकाष्ठ कहते हैं जो ज्यादा समय तक जलती है। गौकाष्ठ के बाद अब गोबर का गमला काफी लोकप्रिय हो रहा है। गोबर का गमला पौधों के सुरक्षा और विकास के दृष्टिकोण से काफी फायदेमंद है।

गाय के गोबर से दिए भी बनाये जाते हैं। दिए से आने वाली सुगंध न सिर्फ आसपास खुश्बू बिखेरती है, बल्कि इस खुशबू से आसपास को नकारात्मकता भी दूर होती है। कृषि मेले में ये सभी गौ-उत्पाद उपलब्ध रहेंगे। उद्यानिकी विभाग के द्वारा रायपुर में स्थापित फल परिरक्षण और प्रशिक्षण केंद्र में स्थानीय प्रशिक्षितों द्वारा निर्मित टोमेटो सॉस, मिक्स फूट् ज़म, आंवला मुरब्बा, आंवला कैंडी, आम आचार, नींबू आचार, हरी मिर्च आचार, गाजर आचार, अदरक हरो मिर्च और लहसुन का अचार, इमली चटनी, जिंजर के उत्पाद मेला में उपलब्ध रहेंगे।

राष्ट्रीय कृषि मेला में वेजिटेबल ट्रांसप्लांटर किसानों के लिए आर्कषण का केन्द्र बनेगा। यह उपकरण गोभी, मिर्च, टमाटर, बैगन जैसे फसल लगाने के लिए उपयोगी है। मेले में किसानों को इस यंत्र के उपयोग, उपलब्धता एवं अनुदान संबंधी सुविधा की जानकारी मिलने के साथ-साथ स्पाॅट पर बुकिंग की सुविधा भी मिलेगी।

वेजीटेबल ट्रांसप्लांटर से 2 एवं 4 कतारों में एक साथ रोपाई करने में सक्षम होता है, साथ ही पौध से पौध की दूरी भी फसल अनुसार परिवर्तनीय होती है। इससे उत्पादन में 10 से 15 प्रतिशत तक की वृद्धि होती है। रोपाई की लागत में 20 से 25 प्रतिशत तक की बचत होती है। यंत्र में वाटर टैंक उपलब्ध होने से पौध की नमी का संरक्षण होता है। खरपतवार की संभावना अपेक्षाकृत कम होती है । पौध की जड़ों का बेहतर विकास होता है।

इस यंत्र की कीमत 70 हजार से से 1 लाख 20 हजार रूपये है। टेªक्टर की अश्व शक्ति (हार्स पावर) के आधार पर यंत्र की कीमत का 40 से 50 प्रतिशत अधिकतम राशि रू. 40000 से 75000 तक अनुदान की पात्रता है। किसानविभागीय अनुदान योजनाओं के अंतर्गत चैम्प्स प्रणाली के माध्मय स छ.ग. राज्य बीज एवं कृषि विकास निगम में ऑनलाइन आवेदन प्रस्तुत कर यंत्र प्राप्त कर सकते हैं। मेला स्थल पर बुकिंग हेतु किसान को खसरा, बी-1, परिचय पत्र, आधार कार्ड, बिजली बिल की छायाप्रति एवं सरपंच की सत्यापित प्रति दस्तावेज साथ ले कर साथ आ सकते है।

राष्ट्रीय कृषि मेला के शुभारंभ कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिव कुमार डहरिया, राज्यसभा सांसद छाया वर्मा, लोकसभा सांसद सुनील कुमार सोनी, विधायक सत्यनारायण शर्मा, बृजमोहन अग्रवाल, कुलदीप जुनेजा, विकास उपाध्याय, अनिता योगेन्द्र शर्मा, जिला पंचायत अध्यक्ष रायपुर डोमेश्वरी वर्मा, नगर निगम रायपुर के महापौर एजाज ढेबर, जनपद पंचायत अध्यक्ष धरसींवा उत्तराकमल भारती, जिला पंचायत सदस्य सविता विनय गेण्ड्रे, जनपद पंचायत सदस्य इंदर साहू और ग्राम तुलसी (बाराडेरा) के सरपंच टुमन धीवर होंगे।

Leave a Reply