Chhattisgarh

भाठागांव में डॉक्टर की हत्या, फुटेज से मिले क्लू पर चार युवक गिरफ्तार; भाजपा मंडल के पूर्व महामंत्री थे डाक्टर

रायपुर | भाठागांव जोन ऑफिस के पास गुरुवार की शाम चार बदमाशों ने डा. जीवन जलक्षत्री की चाकूओं से गोदकर हत्या करदी। वारदात के समय डा. जलक्षत्री क्लीनिक में अकेले थे। चारों बदमाश एक साथ घुसे और कुछ ही देर में भागते हुए निकल गए। डाक्टर को चाकू मारने की घटना की खबर फैलते ही बवाल मच गया।

आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर भाजपा नेता थाने में धरना देकर बैठ गए। पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज की मदद से आनन-फानन में चारों का पता लगाया और देर रात छापेमारी कर सभी को पकड़ लिया। हत्या की वजह पुरानी रंजिश और छेड़खानी बतायी जा रही है।

पुलिस के अनुसार चारों आरोपी दीपक विश्वकर्मा, योगेश यादव, संजय ध्रुव और अरुण ध्रुव का घर भाठागांव में डा. जलक्षत्री के निवास के आस-पास ही है। हत्याकांड का खुलासा करते हुए आरोपियों ने बताया कि इन्हीं में शामिल अरुण का करीब एक साल पहले डाक्टर के साथ विवाद हुआ था। नाराज होकर डाक्टर ने उसे तमाचे जड़ दिए थे।

अरुण उसी दिन से डाक्टर से खुन्नस पालकर रखा था। वह किसी न किसी तरह अपना बदला लेने की फिराक में था। करीब एक महीने पहले अरुण को उसी के पड़ोस में रहने वाले ब्रम्हे ने डाक्टर के बारे में कुछ आपत्तिजनक बातें बतायी। उसकी बातें सुनकर अरुण नाराज हो गया। उसने अपने दोस्तों के साथ मिलकर डाक्टर की हत्या की साजिश रची।

आरोपी चाकू दिखाते हुए भाग निकले

गुरुवार को अरुण और उसके बाकी साथियों ने शराब पी। नशे की हालत में चारों शाम करीब 4 बजे डाक्टर के क्लीनिक पहुंचे। डाक्टर जलक्षत्री उस समय अकेले थे। मौका देखकर अरुण के दो साथियों ने उस पर चाकू से ताबड़तोड़ कई वार किए। हमला करने के बाद आरोपी चाकू दिखाते हुए भाग निकले।

डा. जलक्षत्री भाजपा पुरानी बस्ती मंडल के पूर्व महामंत्री रहे हैं। इस वजह से उन पर हमले की खबर सुनते ही पार्षद मृत्युंजय दुबे सहित कई बड़े नेता अस्पताल पहुंच गए। वहां पहुंचने पर पता चला डाक्टर की मौत हाे चुकी है। इससे नाराज भाजपा नेता पुरानी बस्ती थाने पहुंच गए। इसकी खबर मिलते ही पुलिस के कई आला अफसर आनन-फानन में थाने पहुंचे और स्थिति संभाली।

सीसीटीवी फुटेज से हुई पहचान, भीड़ ने एक को पकड़कर पीटा

डाक्टर की हत्या के बार भाग रहे आरोपी सीसीटीवी कैमरे के फुटेज में कैद हो गए। पुलिस ने तुरंत ही क्लिनक और आस-पास के इलाके में लगे सीसीटीवी कैमरे के फुटेज खंगाले। दो-तीन दुकानों में सीसीटीवी कैमरे में आरोपियों के फुटेज मिल गए। लोगों ने फुटेज में आरोपियों को पहचान लिया। नाराज लोग आरोपियों के घर पहुंच गए। एक आरोपी पकड़ में आ गया। उसकी कुछ लोगों ने जमकर पिटाई भी की।

इतने नशे में था कि नाम तक नहीं बता पाया

पुलिस ने सबसे पहले जिस आरोपी को पकड़ा वह इतने नशे में था कि वह न तो अपना नाम बता पा रहा था और न ही हत्या की वजह। पुलिस के आला अफसर भी उससे नाम पूछते-पूछते परेशान हो गए। आखिर में उसे लॉकअप में बंद कर दिया गया। बाद में फुटेज से बाकी आरोपी पकड़े गए।

Leave a Reply