Chhattisgarh

लॉकडाउन: पंजीयन कार्यालय अब 28 अप्रैल तक बंद, स्वास्थ्य मंत्री बोले- 6 महीने तक मास्क, सैनिटाइजर के साथ जीना सीख लें

रायपुर | कोरोनावायरस की रोकथाम के लिए एहतियात के तौर पर सरकार ने अब राज्य के पंजीयन कार्यालय 28 अप्रैल तक बंद करने के आदेश दिए हैं। इसके पहले पंजीयन कार्यालय को 21 अप्रैल तक बंद रखने के आदेश वाणिज्यिक कर (पंजीयन) विभाग द्वारा जारी किए गए। उधर, स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा- छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण भले कम रहा हो, पर लोगों का शारीरिक दूरी बनाए रखना जरूरी है।

लोगों को अगले 6 माह और मास्क और सैनिटाइजर के साथ जीना सीखना पड़ सकता है। उन्होंने कहा कि अभी गर्मियों की छुटि्टयों के चलते स्कूल-कॉलेज बंद हैं। जब वो खुल जाएंगे, लोग बाहर निकलेंगे, उसके बाद क्या होगा यह उसी वक्त पता लगेगा। लॉकडाउन में ढील दिए जाने के पहले ही दिन सारी व्यवस्थाएं ध्वस्त हो गईं।

लोग इतनी बढ़ी संख्या में घरों से बाहर निकल आए कि जगह-जगह जाम लग गया। अब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मंगलवार को इसकी समीक्षा करेंगे। इसके बाद आगे तय होगा। संभवत: मुख्यमंत्री जनता को भी संबोधित कर सकते हैं। इस बीच राहत की बात है कि कुछ और बाजार खुलेंगे और छूट बढ़ेगी। हालांकि स्थिति देख कलेक्टर निर्णय लेंगे।

नगरीय क्षेत्र के बाहर खुलेंगी ट्रक मरम्मत की दुकानें और ढाबा, सिर्फ पार्सल की अनुमति

राज्य सरकार ने नगरीय क्षेत्रों से बाहर और ट्रांसपोर्ट नगरों के समीप चिह्नित स्थानों पर भोजनालय, ढाबा और ट्रक मरम्मत की दुकानों को खोलने के निर्देश दिए हैं। माल वाहक (ट्रक) की मरम्मत और ढाबा दुकानंे निर्धारित न्यूनतम दूरी पर खोली जाएंगी। चिह्नित भोजनालय-ढाबा में सिर्फ पार्सल सुविधा होगी। वहां खड़े होकर या बैठकर भोजन करने की अनुमति नहीं होगी।

ये सुविधाएं भी आज से शुरू हो रहीं

  • ई-काॅमर्स कंपनियों को पास के आधार पर संचालन की अनुमति होगी।
  • आईटी और इससे जुड़ी सेवाएं 50 फीसदी उपस्थिति के साथ शुरू होंगी।
  • शासकीय गतिविधियों के डाटा और काॅल सेंटर, कोरियर सेवाएं, निजी सुरक्षा सेवाएं। फंसे लोग पर्यटकों के लिए होटल, लॉज और मोटल।
  • ग्राम पंचायतों में सीएससी केंद्र, कोल्ड स्टोरेज, भंडार गृह, कंटेनर डिपो, उत्पाद इकाईयां, आवश्यक सेवा वाले स्टाफ।

यहां लंबे अरसे में 24 लाख लोग कोरोना से प्रभावित हो सकते

  • स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने विशेषज्ञों के अनुमानों का हवाला देकर बताया कि छत्तीसगढ़ में लंबे अरसे में 24 लाख लोग कोरोना से प्रभावित हो सकते हैं।
  • अधिकतर ऐसे हो सकते हैं, जिन्हें पता लगे बिना ही वे ठीक हो जाएं। यह खतरा भी रहेगा कि वे आसपास के लोगों को प्रभावित भी कर सकेंगे।
  • अनुमान के मुताबिक, करीब 6 लाख लोगों को अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत हो सकती है। करीब 3 फीसदी को आईसीसीयू और यह हो सकता है कि इनमें से आधों को वेंटिलेटर पर रखना पड़े।
  • वनमंत्री मो. अकबर ने कहा- तेंदूपत्ता तोड़ने प्रदेश के बाहर से आने वाले 1245 मजदूरों का बिना परीक्षण प्रवेश नहीं होगा। इससे 13 लाख लोगों को रोजगार मिलेगा और उन्हें 650 करोड़ रुपए का भुगतान किया जाएगा।

मंत्रालय और कलेक्ट्रेट के कर्मचारियों के आने-जाने की हो सकती है व्यवस्था

प्रदेश में मंत्रालय और राज्यभर के कार्यालयों को कामकाज जल्द शुरू हो सकता है। इसके पहले सभी दफ्तरों को डिसइंफेक्टेड करने पर विचार किया जा रहा है। कर्मचारियों के आने-जाने के लिए स्पेशल ट्रांसपोर्टेशन की व्यवस्था और पालियों में काम कराने पर भी मंथन चल रहा है। ट्रांसपोर्टेशन में 30-40 फीसदी लोगों को ही अनुमति होगी। हर स्टाफ की थर्मल स्क्रिनिंग होगी। इसके साथ ही सुरक्षा के अन्य इंतजाम किए जाएंगे।

प्रदेश में अब तक 36 केस मिले, 25 स्वस्थ होने पर घर भेजे गए

छत्तीसगढ़ में अब तक 36 कोरोना संक्रमित मिले हैं। 27 केस अकेले कटघोरा (कोरबा) से हैं। रायपुर के 5, बिलासपुर, राजनांदगांव, दुर्ग और कोरबा में एक-एक मरीज मिले हैं। अब तक 11 एक्टिव केस हैं। बाकी को अस्पताल से छुट्‌टी दे दी गई।

रायपुर : अंबेडकर अस्पताल से आईसीयू और एमआईसीयू की शिफ्टिंग डीकेएस सुपर स्पेशलिटी अस्पताल में हो गई है। जबकि मेडिसिन विभाग की ओपीडी और वार्ड अंबेडकर में ही रहेंगे। जरूरी उपकरण और वेंटीलेटर डीकेएस भेजा गया है। अंबेडकर अस्पताल को कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित किए जाने के कारण मेडिसिन, सर्जरी, ऑब्स एंड गायनी और पीडियाट्रिक विभाग को शिफ्ट किया जा रहा है। अन्य विभाग वहीं रहेंगे।

बिलासपुर : मंगलवार से सब्जी, फल, अनाज, मांस, खाद, उर्वरक, पशु चारा, मछली चारा, डेलीनीड्स, किराना, आटा चक्की, मोबाइल रिचार्ज और चश्मा दुकान सुबह 9 बजे से शाम 4 बजे तक खुलेंगे। प्रशासन ने दो घंटे की छूट बढ़ाई है। वहीं, मिल्क पार्लर सुबह 7 बजे से शाम 7 बजे तक खुलेंगे। पहले से चल रही सेवाओं में कुछ रियायतें दी गई है। चिड़ियाघर और नर्सरी भी खुलेगी। सब जब सुरक्षा के उपाय करने होंगे।

भिलाई : तीन दिन के कर्फ्यू ने सब्जी उत्पादक किसानों को बेहद नुकसान पहुंचाया है। जिले की सबसे बड़ी थोक सब्जी मंडी बैकुंठधाम और दुर्ग बंद होने की वजह से सब्जी ही नहीं आई। किसानों की 2490 टन सब्जी बेकार हो गई। इससे करीब 27 करोड़ रुपए का नुकसान उठाना पड़ा। लौकी, भिंडी, पत्ता गोभी, करेला जैसी सब्जियों को फेंक दिया और मुफ्त तक बांटी। दुर्ग से कुल उत्पादन का 65% दूसरे राज्यों में भेजी जाती है।

कोरिया : जिले के मनेंद्रगढ़ में मंगलवार सुबह मालगाड़ी की चपेट में आकर दो मजदूरों की मौत हो गई। दोनों मजदूर अपने दो अन्य साथियों के साथ उत्तर प्रदेश के गोरखपुर से यहां बिलासपुर संभाग के सूरजपुर स्थित गांव आ रहे थे। रास्ते में हसदेव जंगल के पास मालगाड़ी की चपेट में आ गए। पुलिस को इस संबंध में सूचना दी गई है।

रायगढ़ : लाॅकडाउन में 5 से 9 बजे तक खुलने वाली राशन, सब्जी दुकानें, डेयरी अब दोपहर 12 बजे तक खोली जा सकेंगी। इसके साथ ही इलेक्ट्रिशियन, प्लंबर दोपहर दो बजे तक घर जाकर काम कर सकेंगे, लेकिन नगर निगम से अनुमति पत्र लेना होगा। कुछ उद्योग शुरू हुए हैं, लेकिन पुलिस-प्रशासन की सुरक्षा नदारद है। हालांकि अनुमति बढ़ने के बाद अब लोगों को बाहर रोकना थोड़ा मुश्किल होगा।

Leave a Reply