Chhattisgarh Politics

मंत्री सिंहदेव ने टीवी शो में कहा- किसानों को 2500 रुपए नहीं मिले तो इस्तीफा दे दूंगा, बयान के बाद प्रदेश में सियासी हलचल

रायपुर | छत्तीसगढ़ सरकार में कैबिनेट मंत्री टीएस सिंहदेव अपनी ही सरकार से खुश नहीं है। यह कयास इस वजह से लगाए जा रहे हैं क्योंकि ट्वीटर और मीडिया में मंत्री ने खुद कुछ ऐसी ही बातें कहीं हैं। ट्वीटर पर प्रदेश के बेरोजगारों के प्रति चिंता व्यक्त करते हुए सिंहदेव ने लिखा था मैं शर्मिंदा हूं।

इसके बाद मंगलवार रात एक न्यूज चैनल की डिबेट में उन्हें यह कहते देखा गया कि – मैं टीवी चैनल के सामने, सभी  नागरिकों के सामने यह लिखित और मौखिक रूप से कह रहा हूं कि अगली फसल से पहले 2500 रुपए (सरकार के वादे के मुताबिक धान के बदले मिलने वाला मुल्य प्रति क्विंटल) किसानों का ना मिलें तो मेरा इस्तीफा स्वीकार कर लिजिएगा।


सिंहदेव के बयान और ट्वीट के बाद  भारतीय जनता पार्टी को मुद्दा मिल गया। भारतीय जनता पार्टी की तरफ से ट्विट करके कहा गया कि – सिंहदेव जी, आपका शर्मिंदा होना उचित है। आप भले इंसान हैं लेकिन, ज़ुल्म को चुपचाप सहना भी ज़ुल्म है। मंत्री बने रहने के लिए आप धोखा देने वाले की धौंस न सहें। डॉ रमन सिंह ने कहा कि सिंहदेव में नैतिकता बाकि है इसलिए उन्होंने ऐसा कहा। सरकार तो नाकाम है ही, वादे पूरे करने में मुकर रही है।

कांग्रेस का जवाब


बुधवार को दिनभर सिंहदेव के इस्तीफ वाले बयान की चर्चा रही। इस पर प्रतिक्रिया देते हुए मंत्री अमर जीत भगत ने कहा कि किसी और के बयान पर तो मैं कुछ नहीं कह सकता। लेकिन इतना जरूर है कि घोषणा पत्र 5 सालों के लिए होता है, अभी तो सरकार के डेढ़ साल ही हुए हैं। कांग्रेस के संचार विभाग के प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा कि भाजपा कांग्रेस की सरकार पर सवाल उठाने से पहले अपने 15 साल के कार्यकाल को याद करे।

Leave a Reply