gondwana express logo
Gondwana Express banner

सीएम बघेल की नाराजगी के बाद बिजली कटौती की अफवाह फैलाने वाले पर से हटाई गई राजद्रोह की धारा

रायपुर (एजेंसी) | राज्य में बिजली कटौती की अफवाह फैलाने वाले के खिलाफ राजद्रोह का केस दर्ज कर गिरफ्तारी होने के बाद मुख्यमंत्री बघेल ने नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने कहा कि अभिव्यक्ति की आजादी का पक्षधर हूं, राजद्रोह की कार्यवाही उचित नहीं है। उन्होंने शुक्रवार को सुबह ही मामले में हस्तक्षेप कर डीजीपी डीएम अवस्थी और फिर बिजली कंपनी के चेयरमैन शैलेद्र शुक्ला से चर्चा कर ये प्रकरण वापस लेने के निर्देश दिए हैं।

बिना तथ्य सोशल मीडिया में अफवाह नहीं फैलाना चाहिए – सीएम बघेल

सीएम बघेल ने डोंगरगांव निवासी मांगेलाल अग्रवाल के विरुद्ध दायर FIR से राजद्रोह की धारा हटाने के निर्देश दिए और कहा कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता सबको है, विचार व्यक्त करने पर राजद्रोह की कार्यवाही उचित नही। पर बिना तथ्य सोशल मीडिया में अफवाह नहीं फैलाना चाहिए।

मुख्यमंत्री बघेल ने दोनों अफसरों से सीधे सीधे सवाल किया कि आखिर राजद्रोह की धारा कैसे लगी? इस मामले में बिजाली कंपनी के विधि विभाग की भूमिका को संदेहास्पद बताया गया है। मुख्यमंत्री से चर्चा के बाद डीजीपी अवस्थी ने मामले की जानकारी मंगाई और पाया कि मामले की जानकारी स्थानीय अधिकारियों ने किसी भी आला अधिकारी को नहीं दी। अति उत्साह में राजद्रोह की धारा समेत एफआईआर दर्ज की गई।

जिसके बाद उन्होंने ट्वीट करके कहा, हम लोग अभिव्यक्ति की स्वतंत्र के प्रबल पक्षधर है। मै हर सकारात्मक आलोचना का स्वागत करता हु।

बिजली कंपनी ने एक और मामला दर्ज कराया

इधर मुख्यमंत्री की नाराजगी से अनजान छत्तीसगढ़ स्टेट पावर कंपनी ने एक स्थानीय वेब पोर्टल के पत्रकार पर भी मामला दर्ज करा दिया। इधर इस खबर को भी विद्युत कंपनी का मीडिया सेल प्रचारित करने में जोर-शोर से जुट गया। जैसे ही सीएम की फटकार का पता चला वे बैकफुट पर आ गए।

Leave a Reply