Chhattisgarh

विधान सभा सत्र 24 से, पहले हफ्ते में पेश हो सकता है बजट, धान खरीदी और शराबबंदी पर सरकार को घेरने की तैयारी, दो हजार सवाल लगे

रायपुर | विधानसभा के बजट सत्र में धान खरीदी, शराबबंदी और कानून व्यवस्था के मुद्दे सरकार को घेरने की तैयारी है। अब तक दो हजार से ज्यादा सवाल लग चुके हैं, जिनमें ज्यादातर इसी मुद्दे पर हैं। इसके अलावा डीएमएफ, नरवा गरवा घुरवा बाड़ी योजना, नए जहाज की खरीदी को लेकर भी प्रश्न पूछे गए हैं। बजट सत्र की शुरुआत 24 फरवरी को होगी। पहले दिन राज्यपाल अनुसुइया उइके का अभिभाषण होगा। पहले हफ्ते ही बजट पेश होने की चर्चा है।

हालांकि स्पीकर डॉ. चरणदास महंत और सीएम भूपेश बघेल के अमेरिका से लौटने के बाद बजट की तारीख तय की जाएगी। इधर, प्रमुख विपक्षी दल भाजपा के साथ जोगी कांग्रेस व बसपा के अलावा सत्ता पक्ष के विधायक भी बड़े पैमाने पर सवाल लगा चुके हैं। 18 फरवरी तक 2002 सवाल लगाए गए हैं। धान खरीदी, शराब के बढ़ते कारोबार और बढ़ते अपराध के संबंध में ज्यादा सवाल लगे हैं। धान खरीदी को लेकर भाजपा पहले ही आक्रामक रही है।

नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव में भी भाजपा ने इसे मुद्दा बनाया। अब सदन में भी सरकार पर सवालों की बौछार करेगी। भाजपा विधायक शिवरतन शर्मा ने कहा कि धान खरीदी के मुद्दे पर पहली बार किसानों को इतनी परेशानी का सामना करना पड़ा। कई तरह की शर्तों और नियमों के कारण धान खरीदी का लक्ष्य भी पूरा नहीं हो सका है।

एक लाख करोड़ से ज्यादा का होगा इस बार बजट

इस बार राज्य का बजट एक लाख करोड़ से ज्यादा का होगा। बजट सत्र प्रारंभ होने से पहले कैबिनेट की बैठक में इसे मंजूरी दी जाएगी। सीएम भूपेश बघेल ने सभी मंत्रियों से चर्चा कर बजट को अंतिम रूप दिया था। उसके बाद अमेरिका दौरे पर रवाना हुए थे। सीएम बघेल व स्पीकर डॉ. महंत 21 फरवरी को अमेरिका से राजधानी लौटेंगे। 22 फरवरी को स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव की माता पूर्व मंत्री राजमाता स्व. देवेन्द्र कुमारी के चंदनपान व ब्रम्हभोज में सरगुजा पैलेस में शामिल होंगे।

वे कैबिनेट की बैठक के पूर्व वित्त विभाग के अधिकारियों की बैठक भी लेंगे। बता दें कि इस बार बजट हितग्राहीमूलक योजनाओं पर केंद्रित रहेगा। इंफ्रास्ट्रक्चर पर ज्यादा राशि खर्च करने के बजाय नरवा गरवा घुरवा बाड़ी, सुपोषण अभियान और ग्रामीण विकास पर सरकार जोर देगी। बजट में किसानों को धान के प्रति क्विंटल 2500 रुपए के बचत की राशि के संबंध में भी ऐलान होने की उम्मीद है। इसके लिए सरकार नई योजना लेकर आएगी।

शराबबंदी नहीं, यहां तो फैक्ट्री खोल रहे

नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि कांग्रेस शराबबंदी की बात करती रही। इसके विपरीत ताजी बीयर की फैक्ट्री खोल रहे हैं। आबकारी मंत्री शराब दुकानें बंद करने के बजाय पांच हजार करोड़ का लक्ष्य दे रहे हैं। शराब से वेतन और शीशी से गौठान चलाने की तैयारी है। रेत माफिया, भू माफिया सक्रिय हो गए हैं।

मंत्री से मंत्री, विधायक से मंत्री और अफसरों का तालमेल नहीं है। भ्रष्टाचार चरम पर है। सबसे अहम मुद्दा धान खरीदी का है। किसान भटक रहे हैं। खरीदी का लक्ष्य पूरा नहीं हुआ। चौथा टोकन नहीं ले रहे। किसानों को हाे रही समस्याओं के अलावा जनहित से जुड़े मुद्दों को सदन में उठाया जाएगा। सत्र से पहले विधायक दल की बैठक में रणनीति बनाई जाएगी।

Leave a Reply