Chhattisgarh

कोरोना वायरस: मास्क व सैनिटाइजर अब आवश्यक वस्तु की श्रेणी में, पीडि़तों का मुफ्त इलाज कराएगी राज्य सरकार

दुर्ग | कोरोना को लेकर पूरे देश में अलर्ट है। एहतियात के तौर पर मास्क (surgical mask) और सैनिटाइजर (hand sanitizer) का उपयोग करने की सलाह दी जा रही है। भारत शासन ने दोनों ही सामान को आवश्यक वस्तु की श्रेणी में रखा है। आदेश जारी करते हुए कहा है कि मास्क और सैनिटाइजर की कालाबाजारी और जमाखोरी करने वाले व्यापारियों पर कड़ी कार्रवाही की जाएगी। वहीं कोरोना वायरस पीडि़तों का राज्य सरकार मुफ्त इलाज भी कराएगी।

इसके लिए प्रदेश के सभी बड़े अस्पतालों में आईसोलेशन वार्ड तैयार कर लिया गया है। 14 मार्च को रिसाली भिलाई स्थित भारत मेडिकोज में दबिश देकर सैनिटाइजर की कालाबाजारी का मामला दर्ज किया गया है। मामला सार्वजनिक होते ही खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग ने भारत सरकार के उस आदेश को सार्वजनिक कर दिया है, जिसमें सर्जिकल मास्क 2 व 3 प्लाई के अलावा एन 95 मास्क समेत हैंड सैनिटाइजर को आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 की श्रेणी में रखा है।

कोरोना संभावित मरीजों के उपचार और जानकारी देने मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी ने सोमवार को प्राइवेट अस्पतालों की बैठक ली। इस दौरान सीएचएमओ डॉ. गंभीर सिंह ठाकुर ने प्राइवेट अस्पतालों के संचालकों को स्पष्ट आदेश दिया है कि वे मरीजों की जानकारी देने में लापरवाही न करे। सैंपल लेने के बाद वे तत्काल स्वास्थ्य विभाग को सूचित करे।

स्वास्थ्यकर्मियों की कार्यशाला

मेडिकल स्पेशलिस्ट, मेडिकल ऑफिसर, माईक्रो बॉयोलॉजिस्ट, लैब टैक्नीशियन, पैथोलॉजिस्ट के लिए कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला में सीएचएमओ डॉ. गंभीर सिंह ठाकुर, डॉ. अनूप चांबेकर सर्वेलेंस ऑफिसर, विश्व स्वास्थ्य संगठन नई दिल्ली, डॉ. आरके खण्डेलवाल नोडल अधिकारी आईडीएसपी दुर्ग, डॉ. सुदामा चंद्राकर, जिला टीकाकरण अधिकारी, डॉ. केके जैन, मेडिकल स्पेशलिस्ट जिला अस्पताल दुर्ग उपस्थिति थे।

जिसमें डॉ. अनूप चांबेकर ने कोरोना वायरस के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। सभी को निर्देशित किया गया कि उनके स्वास्थ्य संस्थाओं में विदेश से आए हुए व सर्दी, खांसी, बुखार से पीडि़त व्यक्तियों की जानकारी तत्काल इस कार्यालय के कन्ट्रोल रूम 078 8 -2210773 में अवगत कराए।

Leave a Reply