Politics Video

भाजपा ने जारी किया वीडियो ‘ठगा गे छत्तीसगढ़’, कांग्रेस सरकार पर लगाया वादा खिलाफी का आरोप

रायपुर (एजेंसी) | प्रदेश और देश की सरकारों की नीतियों के विरोध में भाजपा और कांग्रेस ने एक-दूसरे के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। कांग्रेस जहां केंद्र सरकार के खिलाफ आंदोलन की तैयारी कर रही है, वहीं भाजपा ने वादा खिलाफी और बढ़ते अपराधों को लेकर प्रदेश सरकार को आड़े हाथों लिया है। इसको लेकर भाजपा ने गुरुवार को एक वीडियो ‘ठगा गे छत्तीसगढ़’ जारी किया है। इसमें कांग्रेस सरकार पर अपने वादों से पीछे हटने और नाकाम होने की बात कही है। निकाय चुनाव से ठीक पहले भाजपा की ओर से इस वीडियो को जारी किया गया है।

चुनाव से पहले एक बार फिर विपक्ष का सत्ता पर वीडियो वार

चुनाव से पहले प्रदेश में एक बार फिर विपक्ष ने सत्ता पर वीडियो वार किया है। विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने तत्कालीन रमन सिंह सरकार के खिलाफ उल्टा चश्मा जारी किया था। अब सत्ता में कांग्रेस है तो भाजपा ने भी निकाय चुनाव से पहले ‘ठगा गे छत्तीसगढ़’ वीडियो जारी किया है। वीडियो में घोषणापत्र में किए गए वादों और एक साल बीतने के बाद सब से पीछे हटने को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा है। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने वीडियो जारी करते हुए कहा कि जिस तरह से सरकार चल रही है, उससे लोगों में निराशा है।

धान खरीदी को लेकर सरकार की नीयत ठीक, तो किसान आंदोलनरत क्यों

भाजपा विधायक और नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने धान खरीदी को लेकर सरकार की नीयत पर सवाल उठाया है। उन्होंने कहा कि अगर धान खऱीदी को लेकर सरकार की नीयत ठीक है तो फिर किसान आंदोलन क्यों कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि 15 सालों तक डॉ. रमन सिंह मुख्यमंत्री थे, लेकिन धान खरीदी को लेकर कभी उनका बयान सामने नहीं आया। अब मुख्यमंत्री से लेकर अधिकारी हर रोज धान खरीदी को लेकर बयान दे रहे है। किसान नई नीति के विरोध में सड़क पर आ गए हैं। कई जगह पर किसानों ने धान खरीदी बंद करा दी है।

अपराध पर लगाम नहीं लगी तो सड़क पर उतरकर होगा प्रदर्शन

भाजपा नेता धरमलाल कौशिक ने पुलिस-प्रशासन के राजनीतिकरण का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि अपराधी बेखौफ घूम रहे हैं। सरकार अगर अपराध पर लगाम नहीं लगाएगी तो भाजपा सड़क पर उतरकर प्रदर्शन करेगी। उन्होंने कहा कि शांति का टापू छत्तीसगढ़ अब अपराधगढ़ बन गया है। लूट, डकैती, हत्या, बलात्कार की घटनाएं बढ़ी हैं। वर्ष 2017 में 54 और 2018 में 47 हत्याएं हुई थीं। 2019 में 80 से ज्यादा हत्या हो चुकी है। बीते एक साल में 37954 अपराध दर्ज हुए हैं। रायपुर जिले में 356 अपहरण और 48 छेड़छाड़ की घटना हुई हैं। रायपुर और बिलासपुर में 7194 अपहरण के मामले दर्ज हो चुके हैं।

Leave a Reply