Chhattisgarh

कोरोना वायरस: रायपुर एम्स ने कोरोना वायरस पर शुरू की रिसर्च, पीड़ित युवती की तबीयत में लगातार सुधार

रायपुर | छत्तीसगढ़ में कोरोना का पहला केस सामने आते ही तमाम तरह की सावधानियां बरतीं जा रहीं हैं। इस बीच डॉक्टर और सांइटिस्ट की एक टीम कोरोना की इस बीमारी का स्थानीय स्तर पर स्टडी करने में जुट गई है। रायपुर एम्स के मेडिकल सुप्रीटेंडेंट डॉ करन पीपरे ने बताया कि हमारे माइक्रो बायलॉजी लैब में वैज्ञानिक कोरोना के सैंपल की बारीकी से जांच कर रहे हैं। हम यह देख रहे हैं कि कोरोना की वजह से पेशेंट के शरीर में बदलाव क्या हुए, यदि हुए तो किस तरह के हुए।

हम यह भी देखेंगे कि यदि कोई मरीज किसी के संपर्क में आता है तो उस पर किस तरह का असर होता है। एक तुलनात्मक अध्ययन हम कर रहे हैं। यदि और केस आए तो उनकी विविधता को भी समझा जाएगा। अगले माह तक हम रिपोर्ट तैयार कर लेंगे। विश्व स्तर पर हम अपने अनुभवों को साझा करेंगे ताकि इस नए रोग से लड़ने के लिए कारगर कदम उठाए जा सकें।

ठीक हो रहा है कोरोना, डरने की जरुरत नहीं

डॉ पीपरे ने बताया कि अब तक की स्टडी में हमें एक बात समझ आई है कि यदि किसी की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आ भी जाए, औस उसे सही देख-रेख और स्वच्छ माहौल में जरूरी दवाओं के साथ रखा जाए तो यह ठीक हो रहा है। एम्स में मौजूद कोरोना पॉजिटिव का केस भी सुधार की तरफ है। हम उस बच्ची का दोबारा टेस्ट करेंगे, यदि रिपोर्ट अब निगेटिव आती है तो वह घर जा सकेगी।

हालांकि अब तक उसकी स्थिति में लगातार सुधार आ रहा है। यह डरने वाली बीमारी नहीं है। यहां हमने सभी तरह के इंतेजाम किए हैं। 24 बेड का आईसोलेशन वार्ड है, जरुरत पड़ने पर इसे 100 भी किया जा सकता है।

यह ले रहे कोरोना से सीधी टक्कर

लोग सोशल मीडिया पर कोरोना के बारे में तरह-तरह की जानकारियां साझा कर रहे हैं। इस बीच दिन रात डॉक्टर और नर्सिंग स्टाफ की टीम सीधे कोरोना से टक्कर ले रही है। रायपुर में एम्स में बनाए गए आईसोलेशन वार्ड में डॉक्टर सीधे पेशेंट के संपर्क में हैं। डॉ पीपरे ने बताया कि 31 नर्सिंग स्टाफ, 12 जूनियर डॉक्टर, 8 सीनियर स्तर के डॉक्टर कोरोना के खिलाफ जंग लड़ने का काम कर रहे हैं।

टीम में किसी तरह का भय नहीं है, सामान्य तरह से काम हो रहा है। सुरक्षा के लिए टीम के पास विशेष किट है इसे पर्सनल प्रोटेक्टिंग इक्यूपमेंट कहा जाता है। इसमें बड़े गाउन, जूतों के कवर, आंखों के कवर, दस्ताने, कैप वगैरह शामिल हैं।

क्वारंटीन शख्स ने कहा यहां सुविधा 5 सितारा होटल जैसी

नवा रायपुर में छत्तीसगढ़ की सरकार ने क्वारंटीन सेंटर बनाया गया है। एयरपोर्ट के करीब इसे तैयार किया गया है ताकि विदेश से आने वाले स्थानीय जरुरत पड़ने पर यहां रखे जा सके। हाल ही में विदेश से लौटे एक युवक को जांच के बाद यहां रखा गया है। युवक ने सोशल मीडिया में अपना वीडियो बनाकर कहा कि- पहले तो मैं डर गया कि मुझे कहां ले जाएंगे, मगर यहां किंग साइज रूम, एसी, अलमारी, टीवी है।

टावल, मास्क समय-समय पर बदले जा रहे हैं, रूम को सैनेटाइज किया गया है। डॉक्टर समय-समय पर चेकअप कर रहे हैं। अगर आप में लक्षण हैं तो बैटर होगा किया यहां आइए, प्रॉपर निगरानी में रखा जाएगा, इलाज हो जाएगा। यहां 5 स्टार होटल से अच्छी सुविधा है। घर जाने से अच्छा यहां सुविधा का यूज करें ताकि और लोग बीमार न पड़ें।

Leave a Reply