Chhattisgarh

छत्तीसगढ़ में के 2 कोरोना पॉजिटिव हुए पूरी तरह से ठीक, अब संक्रमितों की संख्या घटकर हुई 6

रायपुर | प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट वाले दो मामलों में सुधार हुआ है। 68 साल के बुजुर्ग और 33 साल के युवक के ठीक होने की वजह से उन्हें घर भेजा जा रहा है। प्रदेश में अब तक 8 कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आए थे, जो अब घटकर महज 6 रह गए हैं। एम्स के मेडिकल सुप्रीटेंडेंट डॉ करण पीपरे ने इसकी पुष्टि की।

उन्होंने कहा कि यह हमारे लिए खुशी की बात है, हमने दो बार पॉजिटिव आए हुए लोगों की सैंपल जांचे, दोनों बार रिपोर्ट निगेटिव आई, इसलिए उन्हें अब डिस्चार्ज किया जा रहा है। लोग कह रहे थे कि बुजुर्गों में यदि कोरोना पाया गया तो वह नहीं बचता, मगर एम्स की टीम ने 68 के व्यक्ति को भी ठीक करने में कामयाबी हासिल की है। हमें उम्मीद है कि जल्द ही अन्य मरीज भी ठीक हो जाएंगे।

स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव का ट्विट

स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने ट्वीट कर कहा- ‘मुझे बताते हुए ख़ुशी हो है कि छत्तीसगढ़ में 8 कोरोना पॉजिटिव में से 2 को पूरी तरह से ठीक कर दिया गया है और अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। साथ ही मैं छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य कर्मियों को बधाई देता हूं जो दिन-रात काम कर रहे हैं ताकि लोगों की मदद करें और हम सभी को सुरक्षित रखें!

इस तरह ठीक किया गया कोरोना पॉजिटिव वाले व्यक्तियों को

डॉ पीपरे ने बताया कि विशेषज्ञों की टीम लगातार मरीजों की देखरेख कर रही थी। उनके एक्सरे, सोनोग्राफी और अन्य बेहद बारीक टेस्ट किए जा रहे थे, जिससे शरीर में हो रहे हर बदलाव का आंकलन किया जा सके। हमारी टीम इसी काम में लगी हुई थी। इसके बाद उन लक्षणों को देखते हुए उन्हें दवाएं दी जा रही थीं।

हम उनकी डायट का भी ख्याल रख रहे थे। खाने-पीने की चीजों के जरिए उनके शरीर में प्रोटीन, विटामिन, और कार्बोहाइट्रेड को संतुलित किया जा रहा था। सही निगरानी की वजह से उनके शरीर के इम्यून सिस्टम को भी ताकतवर बनाया गया, और अब वह स्वस्थ हैं।

बिना घर लौटे किया काम अब डॉक्टर भी होंगे क्वारैंटाइन

डॉ पीपरे के मुताबिक नर्सिंग स्टाफ, वार्ड के स्टाफ और डॉक्टरों की टीम हाल ही में तैयार कोरोना के आईसोलेशन सेंटर में बीते तकरीबन 10 दिनों से बिना अपने घर गए काम कर रहे थे। टीमें ने भारी भरकम सूट पहनकर ही पूरे काम को अंजाम दिया। मगर हिम्मत नहीं हारी। इसी का नतीजा है कि हम कोरोना के पॉजिटिव केस में सुधार ला पाए।

अब 1 तरीख को यह टीम बदली जाएगी। जो डॉक्टर अभी कोरोना को लेकर काम कर रहे थे, उन्हें अस्पताल में ही 15 दिनों तक क्वारैंटाइन किया जाएगा। डॉक्टर व अन्य स्टाफ की भी जांच होगी, सबकुछ सामान्य होके बाद ही वह घर जा सकेंगे।

Leave a Reply